Friday, June 21, 2024
HomeHindiहिंदी तो बहाना है, देवनागरी में उर्दू पढ़ाना है

हिंदी तो बहाना है, देवनागरी में उर्दू पढ़ाना है

Also Read

एनसीईआरटी की पांचवी कक्षा की हिंदी की पुस्तक ‘रिमझिम’ में उर्दू शब्दों की अनावश्यक भरमार। सोचिए, बच्चे भला कैसे सीखेंगे हिंदी के शब्द।

एनसीईआरटी की पुस्तकों को लिखने वालों ने बहुत बारीकी से हिंदी की ही पुस्तक में हिंदी के स्थान पर उर्दू और अंग्रेजी को जिस तरह से ठूंसा है, उससे पता चलता है कि देश में विशेष प्रकार का नरैटिव चलाने वाले कितनी दूर की सोचते हैं। एनसीईआरटी की पांचवी कक्षा की हिंदी की पुस्तक ‘रिमझिम’ के किसी भी अध्याय को उठाकर देख लीजिए। हर अध्याय में हर प्रचलित शब्द या तो उर्दू में है या फिर अंग्रेजी भाषा में। हरेक अध्याय में कम से कम पंद्रह प्रतिशत शब्द उर्दू भाषा में है। हर पृष्ठ में पांच से दस लोक जीवन में प्रचलित शब्दों को उर्दू या फिर अंग्रेजी में ही लिखा गया है।

पांचवी कक्षा की हिंदी की पुस्तक रिमझिम के कुछ ही अध्यायों में उपयोग लिए कुछ शब्द देखिए- सिलसिले, मुश्किलें, सिर्फ, रोजाना, जिंदगी, प्रमोशन, इम्तिहान, काफी, ज्यादा,ऑफिस, रिटायर, इस्तेमाल, फर्क, बेहद, सफर, दिलचस्प, आखिर, जरूरत, सवालों, जवाब, खासकर, कोशिश, जिद, दाखिला, पास, मालूम, मजा, इत्मीनान, एहसास, अंदाज, फनकार,  बेवकूफ, जुर्रत, बदहवासी, खयाल, इंतजार, बेशक, मुआयना, बाकी, इशारा, वक्त, बाकी, डिजाइन, शौक, स्कूल….। यह तो एक झलक मात्र है। पूरी पुस्तक में ऐसे सैकड़ों शब्द हैं जो दैनिक जीवन में काम आते हैं, जिन्हें उर्दू या अंग्रेजी में लिखा गया है। ऐसा भी नहीं है कि इनके स्थान पर हिंदी में प्रचलित और लोकप्रिय शब्द नहीं है। इनके स्थान पर कठिनाई, अंत, आवश्यकता, प्रश्न, उत्तर, विशेष रूप से, प्रयास, प्रवेश, उत्तीर्ण, पता होना, परीक्षा, अनुभव, तरीका, कलाकार, मूर्ख, हिम्मत, प्रतीक्षा, परीक्षण, शेष, संकेत, समय, विद्यालय जैसे सामान्य प्रचलित शब्दों का उपयोग किया जा सकता था। लेकिन वामपंथी नरैटिवकारों को तो हिंदी पर उर्दू को थोपना था।  

हिंदी की पुस्तक ‘रिमझिम’ को पढ़ते हुए लगता है देवनागरी लिपि में उर्दू और अंग्रेजी को पढ़ रहे हैं। इन शब्दों को बलात डाला गया है, जबकि इनके स्थान पर हिंदी के लोकप्रिय शब्द हिंदी में उपलब्ध हैं। लेकिन नरैटिव चलाने वालों के दिमाग में हिंदी है ही कहां?

प्रश्न यह है कि यदि छात्र को हिंदी की ही पुस्तक में हिंदी के शब्द सीखने को नहीं मिलेंगे, तो वह हिंदी को कहां और कैसे सीखेगा। फिर एक से पांचवी तक की पढ़ाई तो बच्चों की व्याकरण और भाषा की मूलभूत नींव तैयार करती है। ये वर्ष बच्चों को भाषा सीखने के लिए सबसे महत्वपूर्ण होते हैं। यदि इन्हीं वर्षों में बच्चों के दिमाग में प्रचलित हिंदी शब्दों के स्थान पर उर्दू को ठूंस दिया जाएगा, तो वह अपनी मातृभाषा कैसे सीखेगा। ऐसा लगता है कि दुराग्रह से एनसीईआरटी की हिंदी की इस पुस्तक में उर्दू और अंग्रेजी के शब्दों को ठूंसा गया है।

उर्दू और अंग्रेजी को अलग से पढाइए न, किसी को क्या आपत्ति होगी। लेकिन हिंदी को तो हिंदी ही रहने दीजिए। बच्चों को उनकी मातृभाषा के शब्दों से वंचित रखकर हम नई पीढ़ी को किस दिशा में ले जा रहे हैं। क्या देश में हिंदी के विद्वानों की कमी है कि बच्चों को हम हिंदी के प्रचलित शब्द भी उपलब्ध नहीं करवा पा रहे हैं। विद्यालय जैसे प्रचलित शब्द के स्थान पर भी यदि हिंदी की ही पुस्तक में स्कूल लिखा जाएगा, तो यह निश्चित ही बच्चों का दुर्भाग्य है कि उन्हें उन्हीं की मातृभाषा के शब्दों के स्थान पर बलात उर्दू थोपी जा रही है।

  Support Us  

OpIndia is not rich like the mainstream media. Even a small contribution by you will help us keep running. Consider making a voluntary payment.

Trending now

- Advertisement -

Latest News

Recently Popular