Thursday, December 3, 2020

Media

Why they hate Arnab Goswami

First he won over the English speaking city viewers and then the vast populations of Hindi hinterland from the Lutyens that they believed were sole preserve of theirs alone. He has in effect dealt a death knell to the Lutyens monopoly for decades over the consumption of content fed to ordinary citizens.

Understanding issues around Fake News

There have been plenty of instances where the reportage by a media house turns out to be false or if the reportage is not false in its entirety but therein elements deliberately introduced to cater a narrative of the which media house try to propagate, the reporter reporting such news piece cannot be said to be a reporter rather can be said to as an opinion influencer.

Looks like MSM is about to surrender to Tom-Dick-Harish

When MSM behaves as irresponsibly as SM, boycotting them is the way out!

Maha oppression: Who dare while others fly

Many cruel rulers and dictators used several tactics to contain resistance, by arresting, eliminating, and harassing all those who raised voice against...

अब पत्रकारिता के दमन पर, अभिव्यक्ति की आज़ादी कहा है

4 नवंबर यानी बुधवार की तरोताजा सुबह ने मुंबई में जैसे आपातकाल की याद दिला दी हो यानी अभिव्यक्ति की आजादी जैसे सो कोस दूर हिलोरे मार रही हो ,स्वंत्रता की आजादी जैसे गड्ढे में दम ले लिया हो।

Are you ready to get muddy to fight with pigs?

Why do Right wing media have not yet performed to their potential? Because they fight on the turf of left wing media

कांग्रेस से सीखे हुनर: शक्ति और सत्ता का दुरुपयोग कैसे किया जाए

कहाँ हैं अभिव्यक्ति की आजादी के ध्वजवाहक? कहाँ हैं असहिष्णुता के बुद्धिजीवी? कहाँ हैं वो पत्रकार जो रोज इमरजेंसी-इमरजेंसी चिल्लाते रहते हैं?

T20 and Republic Tv are different, modern and enviable

t this juncture, if SC turns away Republic Tv, then it will be tantamount to chopping wings of a free bird before it learns to fly high on its own. Republic Tv cannot be stopped. It should not be stopped by those who don’t like it. Period.

भारत में वामपंथी उग्रवाद: बदलता स्वरूप

आइए इस लेख के माध्यम से नक्सलवाद से जुड़े तकनीकी पहलुओं को समझने की कोशिश करते हैं. और इस विषय पर आंतरिक सुरक्षा के जानकार और स्वयं सरकार का क्या रवैया था, क्या है और क्या होना चाहिए ; इस पर विस्तार से बात करते हैं.

Left-wing watch: 10th October

The wire leaves no stone unturned to create any caste or religious rift in India!

Latest News

प्राण व दैहिक स्वतंत्रता अनुच्छेद 21

हमारे सनातन धर्म की मूल भावना "जीयो और जीने दो" तथा "सभी जीवो को अपना जीवन अपनी ईच्छा से जीने का अधिकार है" में निहित है मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम ने भी अपने संपूर्ण जीवन काल मे प्रत्येक जीव के प्राण व दैहिक स्वतंत्रता को अमुल्य व सर्वोपरि मानकर प्रतिष्ठित किया

2020: An unprecedented, unpredictable, and uncertain year

Who could have imagined that the “unique 2020” would ironically turn into the most "unprecedented, unpredictable, and uncertain 2020" of historic proportions, perhaps not even worth remembering and writing about?

Mr. Ahmad Patel, they missed you!

Through the obituaries and condolences written by MSM journalists, one can easily see as to why these power brokers who used to enjoy the access to power corridors are so unnerved as they miss the absence of jugglers and conjurers in current regime.

गुपकार गैंग द्वारा रोशनी एक्ट की आड़ में किया गया 25000 करोड़ रुपए का घोटाला!

व्यवस्था का लाभ उठाकर 2001 से 2007 के बीच गुपकार गैंग वालों ने मिलकर जम्मू-कश्मीर को जहाँ से मौका मिला वहाँ से लूटा, खसोटा, बेचा व नीलाम किया और बेचारी जनता मायूसी के अंधकार में मूकदर्शक बनी देखती रही।

Death of the farmer vote bank

While in the case of a farmer the reform delivered double benefit but the political class faces double whammy, that of losing its captive vote bank that was dependent on its sops and secondly losing the massive income they earned as middlemen between the farmer and the consumer. Either the farmer is misinformed or wrongly instigated, otherwise it is impossible to conceive that any farmer should be actually unhappy or opposed for being given more choices, as to whom to sell their produce.

Recently Popular

गुप्त काल को स्वर्ण युग क्यों कहा जाता है

एक सफल शासन की नींव समुद्रगप्त ने अपने शासनकाल में ही रख दी थी इसीलिए गुप्त सम्राटों का शासन अत्यधिक सफल रहा। साम्राज्य की दृढ़ता शांति और नागरिकों की उन्नति इसके प्रमाण थे।

सामाजिक भेदभाव: कारण और निवारण

भारत में व्याप्त सामाजिक असामानता केवल एक वर्ग विशेष के साथ जिसे कि दलित कहा जाता है के साथ ही व्यापक रूप से प्रभावी है परंतु आर्थिक असमानता को केवल दलितों में ही व्याप्त नहीं माना जा सकता।

वर्ण व्यवस्था और जाति व्यवस्था के मध्य अंतर और हमारे इतिहास के साथ किया गया खिलवाड़

वास्तव में सनातन में जिस वर्ण व्यवस्था की परिकल्पना की गई उसी वर्ण व्यवस्था को छिन्न भिन्न करके समाज में जाति व्यवस्था को स्थापित कर दिया गया। समस्या यह है कि आज वर्ण और जाति को एक समान माना जाता है जिससे समस्या लगातार बढ़ती जा रही है।

Pt Deen Dayal Upadhyaya and Integral Humanism

According to Upadhyaya, the primary concern in India must be to develop an indigenous economic model that puts the human being at centre stage.

Daredevil of Indian Army: Para SF Major Mohit Sharma’s who became Iftikaar Bhatt to kill terrorists

Such brave souls of Bharat Mata who knows every minute of their life may become the last minute.