Thursday, September 29, 2022
HomeHindiराम मंदिर के 2000 फीट नीचे दबाया जाएगा एक टाइम कैप्सूल, जानिए क्या...

राम मंदिर के 2000 फीट नीचे दबाया जाएगा एक टाइम कैप्सूल, जानिए क्या है वजह

Also Read

vinny1981
vinny1981https://efaq.in
Hello, my name is Preeti Batra and I love to write about Hindu mythology.

मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नित्या गोपाल दास के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पांच अगस्त को अयोध्या में राम मंदिर की आधारशिला रखने का कार्यक्रम है।

“टाइम कैप्सूल” एक बॉक्स होता है, जिसमे वर्तमान समय की जानकारियां भरी होती हैं। देश का नाम, जनसँख्या, धर्म, परंपराएं, वैज्ञानिक अविष्कार की जानकारी इस बॉक्स में डाल दी जाती है। कैप्सूल में कई वस्तुएं, रिकार्डिंग इत्यादि भी डाली जाती है। इसके बाद कैप्सूल को कांक्रीट के आवरण में पैक कर जमीन में बहुत गहराई में गाड़ दिया जाता है। ताकि सैकड़ों-हज़ारों वर्ष बाद जब किसी और सभ्यता को ये कैप्सूल मिले तो वह ये जान सके कि उस प्राचीन काल में मनुष्य कैसे रहता था, कैसी भाषाएं बोलता था।

किसी प्राचीन गुफा की खोज होती है तो उसकी दीवारों पर हज़ारों वर्ष पुराने शैलचित्र पाए जाते हैं। ये भी एक तरह के टाइम कैप्सूल ही है, जो एक ख़ास तरह की स्याही से दीवारों पर उकेरे गए थे। उनकी स्याही में इतना दम था कि हज़ारों वर्ष पश्चात् की पीढ़ियों को अपनी कहानी पढ़वा सके। भारत के प्राचीन मंदिरों में स्थापित शिलालेखों का उद्देश्य यही था, जो आधुनिक काल में टाइम कैप्सूल बनाने वालों का है।

मुख्य बातें:

अयोध्या में राम मंदिर के नीचे 2,000 फीट का समय कैप्सूल, इतिहास को सूचीबद्ध करते हुए कहा, आधिकारिक तौर पर समय कैप्सूल किया जाएगा ताकि अयोध्या में राम जन्मभूमि से संबंधित भविष्य में कोई विवाद न हो, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 5 अगस्त को अयोध्या में राम मंदिर की आधारशिला रखने के लिए निर्धारित हैं।

राम जन्मभूमि के अनुसार राम मंदिर निर्माण स्थल के नीचे एक टाइम कैप्सूल हजारों फीट रखा जाएगा। यह सुनिश्चित करने के लिए किया जाएगा कि भविष्य में कोई विवाद न हो और जो भी मंदिर के इतिहास के बारे में अध्ययन करना चाहता है उसे राम जन्मभूमि से जुड़े केवल तथ्य मिले।

सुप्रीम कोर्ट में लंबे समय से चले आ रहे मामले सहित राम जन्मभूमि के लिए संघर्ष ने वर्तमान और आने वाली पीढ़ियों के लिए सबक दिया है। राम मंदिर निर्माण स्थल पर जमीन में करीब 2 हजार फीट नीचे एक टाइम कैप्सूल रखा जाएगा। इसलिए, कि भविष्य में कोई भी व्यक्ति जो मंदिर के इतिहास के बारे में अध्ययन करना चाहता है, वह राम जन्मभूमि से संबंधित तथ्यों को प्राप्त कर देगा, ताकि कोई नया विवाद न पैदा हो सके।

उन्होंने कहा कि साइट के नीचे रखे जाने से पहले टाइम कैप्सूल को तामरा पात्र (तांबे की थाली) के अंदर रखा जाएगा।

ट्रस्ट के एकमात्र दलित सदस्य चौपाल के अनुसार, देश भर में विभिन्न टीरों (तीर्थों) से मिट्टी और पवित्र नदियों से पानी ‘भूमि पूजन समारोह’ के दौरान ‘अभिषेक’ के लिए अयोध्या लाया जा रहा है।

भूमि पूजन में ‘अभिषेक’ के दौरान पवित्र नदियों और मिट्टी से पानी का उपयोग किया जाएगा। उन्होंने कहा, हमारे स्वयंसेवक उन्हें देश भर से अयोध्या भेज रहे हैं।

राम मंदिर ‘भूमि पूजन’

मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नित्या गोपाल दास के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पांच अगस्त को अयोध्या में राम मंदिर की आधारशिला रखने का कार्यक्रम है।

सुप्रीम कोर्ट ने पिछले साल 9 नवंबर को केंद्र सरकार को अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के लिए स्थल सौंपने का निर्देश दिया था । पीएम मोदी ने 5 फरवरी को अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए ट्रस्ट बनाने की घोषणा की थी।

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण की निगरानी के लिए 15 सदस्यीय तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट को केंद्र सरकार ने आदेश दिया है।

  Support Us  

OpIndia is not rich like the mainstream media. Even a small contribution by you will help us keep running. Consider making a voluntary payment.

Trending now

vinny1981
vinny1981https://efaq.in
Hello, my name is Preeti Batra and I love to write about Hindu mythology.
- Advertisement -

Latest News

Recently Popular