Wednesday, January 26, 2022

TOPIC

Ram Mandir Begins

वो पीढियों से चली आ रही मांगे पूरी कर रहे, हमें उनका साथ नहीं छोड़ना

ज़रा सोचिए जिन लोगों ने हम सनातन धर्मियों को इतना सब कुछ दिया तो क्या हम उनको अपने राष्ट्रहित में वोट नहीं दे सकते। हम सनातन धर्मी ना तो बटेंगे और ना हटेंगे बल्कि जिन्होंने हम इतना दिया है उनके सम्मान में मैदान में डटेंगे।

हम अस्पताल के लिए लड़े ही कब थे?

यदि मंदिर नहीं बनता अस्पताल बनता तब यह लोग ताली बजाते और कहते कि देखा तुम हार गए फिजूल में समय बर्बाद किया और बलिदान दिए लेकिन मंदिर नहीं बना पाए। पहचानिए इनको और याद कीजिए यह वही लोग हैं जो अतीत में मंदिर निर्माण की तारीख भी पूछा करते थे।

Ram Mandir and the fallacy of the Indian National Congress

it’s the same Congress party whose UPA government in 2007 filed an affidavit in the Supreme Court of India to call Lord Shri Ram as Fictional and Ramayana as a story with no historical proofs.

मोदी को न राम से बड़ा बताया है और न ही जय श्रीराम का उदघोष साम्प्रदायिक है

हिन्दू धर्म में तुलसीदास और सूरदास जैसे कई कवियों ने भगवान कृष्ण और राम के लिये वात्सल्य भाव का प्रयोग किया है। आज भी वैष्णव सम्प्रदाय में भगवान की वात्सल्य भाव से पूजा की जाती है तथा उन्हें परिवार के एक बालक की तरह ही देखा जाता है।

What the Ram Temple means to a Hindu

The difference between Hindu diversity and Christian or Muslim diversity - while the latter began as one and split with differences of opinion, we began as many and came together under one blanket, while retaining individual identities – the ultimate balancing act

Ram Mandir: Why it’s not a Hindu-Muslim but Indians vs Invaders issue

Ram Mandir is an issue which has surrounded a billion strong nation from 30-years and has led to multiple Hindu-Muslim riots leaving hundreds of people dead of both religions and is why still not a Hindu-Muslim issue?

Construction of the Bhavya-Ram Mandir: A Paradigm shift in Indian secularism

In a world which has already plunged into such an abysmal condition, remembering and celebrating Ram becomes the only cure. Because nothing in his life went according to his plan and he always found himself in situations which were nothing short of a nightmare.

राम-भक्त कारसेवकों को नमन

समय बलवान होता है, ये पता था मगर नियती (डेस्टिनी) उससे भी बड़ी होती है, ये आज पता चला और नियती उनका साथ देती है जो धर्म के तरफ खड़े होते हैं! अपने आराध्य के लिए अपना सर्वस्व निछiवर करने वाले सभी कार्यसेवकों को नमन!

आज न सिर्फ उत्सव मानना है अपितु कार सेवकों के बलिदान को याद कर प्रपंचों से भी लड़ना है

आज न सिर्फ राम मंदिर की आधारशिला रखी जा रही है, बल्कि नए भारत निर्माण के संकल्प का वास्तविक आगाज भी हो रहा है। आज से हर राम भक्त दायित्व है कि अपने धर्म के विरुद्ध रचे जाने वाले प्रपंच और मिथ्या दुष्प्रचार का खंडन करे तथा अपने धर्म और कार सेवकों के बलिदान की शुचिता बनाए रखे।

Bhumi Pujan for conversion

Looking at our past mistakes in the Jagannath Temple in Puri which forbade foreign converts from entering the temple, while ISKCON continued their diligent and successful work throughout the world, we should rectify.

Latest News

Recently Popular