Thursday, November 26, 2020
Home Hindi काश, इस कुम्भ के बहाने ही इंडियन स्टेट को विविधता की समझ आ जाती

काश, इस कुम्भ के बहाने ही इंडियन स्टेट को विविधता की समझ आ जाती

Also Read

Saurabh Bhaarat
सौरभ भारत

ब्रिटिश इंडिया के जमाने की बात है। प्रयागराज में कुंभ पर्व की धूम थी। भारत के वायसराय गवर्नर जनरल लॉर्ड लिनलिथगो कुंभ के इस अनूठे मेले का अवलोकन करने महामना पंडित मदनमोहन मालवीय जी के साथ प्रयाग के तट पर पहुंचे। उन्होंने कुंभ क्षेत्र में देश के विभिन्न क्षेत्रों से अपनी-अपनी वेशभूषा में आए लाखों लोगों को एक साथ त्रिवेणी संगम स्नान, भजन-पूजन करते देखा, तो आश्चर्यचकित हो उठे। ऐसा दृश्य उनके लिए अभूतपूर्व था। इससे पूर्व उन्होंने इतनी विशाल और व्यवस्थित भीड़ अपने जीवन मे कभी नहीं देखी थी। उनकी पश्चिमी नजरिए वाली आँखें हैरानी से फटी जा रही थीं।

उन्होंने मालवीय जी से पूछा- “इस मेले में इतने सारे लोगों को इकट्ठा करने के लिए प्रचार और आयोजन पर अथाह रुपया खर्च हो हुआ होगा न?

“ज्यादा नहीं। बस केवल दो पैसे।” मालवीय जी ने मुस्कुराकर उत्तर दिया।

वायसराय ने चौंककर पूछा- “क्या कहा आपने! केवल दो पैसे? यह कैसे संभव है?”

मालवीय जी ने अपनी जेब से पंचांग निकाला तथा उसे दिखाते हुए बोले- “इस दो पैसे मूल्य के पंचांग से देश भर के हिंदू श्रद्धालु यह पता लगते ही कि हमारा कौन-सा पर्व कब है, स्वयं श्रद्धा के वशीभूत होकर तीर्थयात्रा को निकल पड़ते हैं।”

कहने की जरूरत नहीं कि वायसराय की भाव-भंगिमाएं नतमस्तक हो चुकी थीं।

यह केवल एक उदाहरण है। सनातन धर्म और भारत भूमि ऐसे ही अनगिनत आश्चर्यों और विविधताओं से भरे पड़े हैं। विश्व के लिए आज भी यह हैरानी की बात है कि चाहे कितनी भी सक्षम सरकारें क्यों न हों परन्तु करोड़ों लोगों को कुछ वर्ग किलोमीटर के दायरे में डेढ़ महीने तक इस कुंभ रूपी जनसंगम में कैसे सम्भालती हैं! वास्तव में कुम्भ जैसे आयोजन सरकारें नहीं, धर्म करता है। जब सरकारें नहीं थीं तब भी आपवादिक घटनाओं को छोड़कर हजारों वर्षों से ये धार्मिक आयोजन इतने ही सुचारू और व्यवस्थित ढंग से होते आ रहे हैं।

यदि इंडियन स्टेट के कर्ताधर्ताओं (चाहे नेता हों या प्रशासन या न्यायालय) को हिंदुत्व की इन विविध सुंदरताओं की रत्ती भर भी समझ होती तो सबरीमाला जैसे मूर्खतापूर्ण निर्णय न आते। ये वो धर्मकुम्भ है जिसे कभी प्रचार की आवश्यकता न पड़ी, न निमंत्रण या आमंत्रण पत्र भेजने की। यहाँ पुरुष साधु भी हैं, महिला साध्वी भी और किन्नर सन्यासी अखाड़े भी। इतने जाति, सम्प्रदाय, उप-सम्प्रदाय, पन्थों, दर्शनों की अलग-अलग समृद्ध परम्पराएँ कोई भेदभाव नहीं अपितु विविधता हैं इस गौरवशाली हिंदुत्व की। सरकारें, प्रशासन, अदालतें अगर वाकई इस देश का कुछ भला चाहते हों तो बस इस धर्म को अपने मूर्खतापूर्ण प्रयोगों से दूर रखें।

मिस्टर इंडियन स्टेट जी! आप चौकीदार हैं, बस चौकीदारी ही करिए। हमारा धर्म आपके बिना कहीं ज्यादा समृद्ध, समावेशी, प्रगतिशील और सुंदर है। इसे ऐसे ही रहने दीजिए।

  Support Us  

OpIndia is not rich like the mainstream media. Even a small contribution by you will help us keep running. Consider making a voluntary payment.

Trending now

Saurabh Bhaarat
सौरभ भारत

Latest News

संवैधानिक मूल्यों और कर्तव्यों के प्रति जागरुकता आवश्यक

संविधान की अब तक की सफलता एक महान उपलब्धि है किंतु आगामी समय में चुनौतियां भी कम नहीं है आवश्यकता है कि हम संवैधानिक व नैतिक मूल्यों को सहेजें और अपने कर्तव्यों का निर्वहन करें, अन्यथा संविधान हीलियम के बक्से में बंद एक पुरानी पोथी से बढ़कर कुछ नहीं रहेगा।

लव जिहाद अध्यादेश और कॉंग्रेस का विरोध

से तो संघ और विहिप के द्वारा ये मुद्दा अनेक वर्षों से उठाया जा रहा है लेकिन अभी हाल ही के दिनों में ये देश का एक चर्चित मुद्दा बन गया, जब मध्यप्रदेश ने इस पर कानून बनाकर इसे लागू कर दिया तथा सभी भाजपा शासित राज्य इस पर कानून बनाने की प्रक्रिया में है।

Review of Indian democracy by departed leaders

As per the determined demand of highly annoyed departed souls of freedom fighters, who had dreamed that their mother land to be a vibrant global democratic power but as they lately noticed the progress was not to their expectation, the FoN convened a meeting of Working Committee of freedom fighters for review of the progress: A satirical take

The crisis of the Mongol narrative in India

To constantly set our humanity aside and claim that a Turkic-Mongol king was a poet or had courtiers of different religions ignores the victims absolutely, and is a rather horrifying narrative, taking the agency away from these dead sultans who have definitely claimed to affect their cruelty on the basis of their religion.

हिंदूफोबीया ग्रस्त बॉलीवुड और वेब सीरीस

आजकल भारतीय फ़िल्मों में हिंदू देवी देवताओं का, हिंदू धर्मगुरुओं का उपहास बहुत ही सहजता से आ जाता है। कई सिरीज़ में हिंदू बाबा विलेन के किरदार में भी दिखाई देते हैं। कुछ सिरीज़ में ऐसा भी दिखता है कि बॅकग्राउंड में मंत्र बज रहे हैं और कोई हिंदू पंडित हत्या करने जा रहा है या किसी को हत्या का आदेश दे रहा है।

Life ends, Maggie goes on

What explains this phenomenon that has made its place into the Indian food culture that was earlier obsessed with fresh milk and wheat procured from the local farm? Maggie has so seamlessly transited from Switzerland to India.

Recently Popular

गुप्त काल को स्वर्ण युग क्यों कहा जाता है

एक सफल शासन की नींव समुद्रगप्त ने अपने शासनकाल में ही रख दी थी इसीलिए गुप्त सम्राटों का शासन अत्यधिक सफल रहा। साम्राज्य की दृढ़ता शांति और नागरिकों की उन्नति इसके प्रमाण थे।

सामाजिक भेदभाव: कारण और निवारण

भारत में व्याप्त सामाजिक असामानता केवल एक वर्ग विशेष के साथ जिसे कि दलित कहा जाता है के साथ ही व्यापक रूप से प्रभावी है परंतु आर्थिक असमानता को केवल दलितों में ही व्याप्त नहीं माना जा सकता।

The story of Lord Jagannath and Krishna’s heart

But do we really know the significance of this temple and the story behind the incomplete idols of Lord Jagannath, Lord Balabhadra and Maa Shubhadra?

Daredevil of Indian Army: Para SF Major Mohit Sharma’s who became Iftikaar Bhatt to kill terrorists

Such brave souls of Bharat Mata who knows every minute of their life may become the last minute.

Pt Deen Dayal Upadhyaya and Integral Humanism

According to Upadhyaya, the primary concern in India must be to develop an indigenous economic model that puts the human being at centre stage.