Saturday, June 22, 2024

TOPIC

KEJRIWAL AN OPPORTUNIST

पढ़े लिखे भ्र्ष्टाचारी का शिशमहल

काले कारनामे को छिपाने के लिए वो भ्र्ष्टाचारी पढ़ा लिखा अनपढ़ केंद्र सरकार द्वारा लाये गये "दिल्ली सेवा बिल" के विरोध के लिए गली गली भटक कर समर्थन जुटा रहा था, और यही नहीं जिन लोगों को भ्र्ष्टाचारी बताकर उनको जेल भेजने की बात करने वाला आज उनकी ठोकरों में पड़ा समर्थन करने की भीख मांग रहा है।

Kejriwal eyes on Siddhu as AAP weakens in Punjab

With the current leadership, AAP does not seem to be performing well in the state at this time. Apart from targeting CM Amarinder and Badal family, Sidhu has also been strongly raising the case of 2015 Police Firing.

Condolence message- Delhi BJP

The father of second wave of Khalistan Arvind Kejriwal, is ruling Delhi deploying most hateful means of lies and deception bordering on anti-Hindu rhetoric, be it appeasement of one particular community to win Delhi elections as was evident in active involvement of his cadres in the anti Hindu progrom in Delhi as an aftermath of hateful anti- CAA protest.

6 सालों में ही केजरीवाल का राजनीतिक पतन और राष्ट्रीय राजनीति का अंत

केजरीवाल के पिछले कुछ सालों की राजनीति और फैसलों को देखें तो स्पष्ट होता है कि केजरीवाल ने खुद को दिल्ली तक सीमित रखने का फैसला कर लिया है। वरना केजरीवाल की शख्सियत रही है आरोप- प्रत्यारोप, मोदी विरोध, और फ्री आधारित राजनीति।

Arvind Kejriwal: The man who lost his path

AAP was formed to fight entry of criminals in politics but same party has topped the list of parties with most criminals getting tickets in 2020 Delhi election. Out of 70, 36 candidates of AAP have serious criminals cases against them which is far greater than the rival parties BJP and INC.

दिल्ली के मालिक का डैमेज कंट्रोल?

टीवी पर आकर रोज भाषण देना और जमीन पर काम करना दोनो ही अलग बात है; खुद गाजियाबाद में थे और मालिक बन बैठे दिल्ली के अब दिल्ली में बस दिल्ली वालों का इलाज होगा।

Delhi’s Bermuda Triangle

Arvind Kejriwal sold a concept, an idea that says "we the common people of India are capable enough to understand the intricacies of the system; understand how different entities like different departments/authorities interact with each other" .

Kejriwal teaches tough lessons to Modi & Shah

Kejriwal had popular support where the votes mattered. Modi had populist appeal which did not sway the Aam Aadmi, as emotive appeals had a limit to their remit.

दिल्ली में बनी “टुकड़े टुकड़े गैंग” की सरकार

केजरीवाल को जो ३७ प्रतिशत वोट मिले हैं उनमे से ३० प्रतिशत वोट तो रोहिंग्या बांग्लादेशी घुसपैठियों और मुस्लिम कट्टर पंथियों के हैं जो पिछले काफी समय से नागरिकता कानून का विरोध भी इसीलिए कर रहे थे  कर रहे थे क्योंकि कानून लागू होते ही इन लोगों को धक्के मारकर बाहर निकला जाना तय है.

Inferences from Delhi elections

AAP won handsomely 62 out of total 70 seats, not by any innovative idea, but by taking a leaf out of PM- Modi's own welfare measures that had given a spectacular victory to

Latest News

Recently Popular