Wednesday, January 26, 2022
HomeHindiपरिवार पहचान पत्र योजना, CAA, NRC और NPR से कहीं ज्यादा अचूक और कारगर

परिवार पहचान पत्र योजना, CAA, NRC और NPR से कहीं ज्यादा अचूक और कारगर

Also Read

aryaninnaghttp://kanoonforall.com
An Advocate with 15+ years experience. A Social worker. Worked with WHO in its Intensive Pulse Polio immunisation movement at Uttar Pradesh and Bihar.

जी हाँ मित्रों आपने सही सुना, ये जो परिवार पहचान पत्र योजना (PPP) अन्य सभी योजनाओं से अत्यधिक कारगर और विश्वस्नीय, जिसकी आप कल्पना भी नहीं कर सकते। ये एक ऐसी योजना है जिससे सरकार कि कई मुश्किलें चुटकियों में दूर हो जाएँगी और ये योजना NRC और NPR से कहीं ज्यादा कारगर साबित होने वाली है।

इस योजना को लागु करने कि प्रारम्भिक इकाई के रूप में हरियाणा राज्य को चूना गया है और मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल खट्टर जी ने ४ जुलाई २०२० मंगलवार के दिन पंचकूला में २० परिवारों को परिवार पहचान पत्र देकर इस योजना का शुभारंभ किया। इस योजना के तहत हरियाणा में सभी परिवारों का एक प्रामाणिक सत्यापित और विश्वसनीय डाटा बेस तैयार किया जायेगा और इस परिवार पहचान पत्र से सरकार की सभी कल्याणकारी योजनाओ को जोड़ा जायेगा। जिससे राज्य के सभी पात्र परिवारों को सरकार द्वारा चलायी जा रही कल्याणकारी योजना का लाभ आसानी से मिल सके और कूपात्रो को दूर रखा जा सके। हरियाणा परिवार पहचान पत्र योजना के अंतर्गत राज्य के नागरिको को उनकी पात्रता के आधार पर ही योजनाओं का लाभ स्वत: ही मिल जाएगा।

हरियाणा में इसे “हरियाणा परिवार पहचान पत्र “२०२१” का नाम दिया गया है जिसका मुख्य उद्देश्य इस परिवार पहचान पत्र के ज़रिये एक परिवार का सम्पूर्ण डाटा इकठ्ठा करना। आइये देखते हैँ इसके मुख्य तत्व क्या हैं?

१:-हरियाणा परिवार पहचान पत्र में 14 अंक का एक यूनिक आईडी नंबर दिया जाएगा:- मित्रों जिस प्रकार आधार कार्ड पर हमें व्यक्तिगत पहचान के लिए एक यूनिक आई डी संख्या दी जाती है ठीक उसी प्रकार एक परिवार के लिए १४ अंको कि एक यूनिक आई डी संख्या दी जाएगी, जो उस परिवार कि पहचान होगी।

२:-इस कार्ड में लाभार्थी का मोबाइल नंबर भी अंकित होगा:- जो भी लाभार्थी परिवार होगा उसे एक मोबाईल संख्या देना पड़ेगा जो कि उसका स्थायी मोबइल संख्या होगा और उस परिवार से सम्बंधित सम्पूर्ण सुचनाओ का आदान प्रदान उसी मोबाईल संख्या के द्वारा किया जाएगा।

३:-सफलतापूर्वक पंजीकरण के बाद हरियाणा परिवार पहचान पत्र प्रत्येक परिवार को प्रदान किया जाएगा:- परिवार पहचान पत्र प्राप्त करने हेतु सम्बंधित परिवार को एक वेब पोर्टल जिसे meraparivar.haryana.gov.in के नाम से जानते हैं, पर जाकर दिए गए निर्देशों के अनुसार पंजीकरण कराना होगा और। सफलतापुर्वक पंजीकरण होने पर परिवार पहचान पत्र उक्त परिवार को प्रदान किया जाएगा।

४:-कार्ड के ऊपर फैमिली के हेड का नाम लिखा होगा:- जी हाँ मित्रों जिस प्रकार राशन कार्ड पर परिवार के मुखिया का नाम होता है और उसके नाम से हि राशन कार्ड निर्गमित किया जाता ठीक उसी प्रकार यह परिवार पहचान पत्र परिवार के मुखिया के नाम से निर्गमित किया जाएगा।
५:-हरियाणा परिवार पहचान पत्र पर परिवार से संबंधित अन्य जानकारी भी होगी:- इस पत्र में एक परिवार कि सम्पूर्ण जानकारी होगी उदाहरण के लिए, परिवार में कितने सदस्य हैं, कितने बच्चे हैं, सबके आधार संख्या क्या है, कौन क्या काम करता है, परिवार कंहा रहता है, उसकी कुल आए क्या है तथा उनके स्वास्थ्य से सम्बंधित जानकारी इत्यादि।

६:-पंजीकरण के बाद रजिस्ट्रेशन आईडी तथा पासवर्ड प्रत्येक परिवार को प्रदान किया जाएगा:- जिस प्रकार गूगल पर अपना ई मेल बनाते वक्त या किसी बैंक के पोर्टल पर अपना अकाउंट बनाते वक़्त हमें एक यूजर आईडी और पासवर्ड मिलता है ठीक उसी प्रकार meraparivar.haryana.gov.in पर पंजीकरण हो जाने के पश्चात एक यूजर आईडी और एक पासवर्ड प्रदान किया जाएगा और उसी के द्वारा हम अपने परिवार से सम्बंधित जानकारी meraparivar.haryana.gov.in से प्राप्त कर सकते हैँ।

७:- यदि परिवार को अपनी फैमिली डिटेल्स देखनी है तो उन्हें लॉगइन क्रैडेंशियल्स दर्ज करने होंगे:- जी हाँ हमें अपने लॉगिन क्रैडेंशियल्स अर्थात यूजर आईडी और पासवर्ड पोर्टल पर अर्थात meraparivar.haryana.gov.in पर दर्ज करने होंगे जिसके बाद हमें अपने परिवार से सम्बंधित पूरी जानकारी प्राप्त हो जाएगी।

८:- परिवार पहचान पत्र पर फैमिली डिटेल अपडेट भी की जा सकती हैं। परिवार पहचान पत्र के माध्यम से अधिकारियों द्वारा किसी भी योजना के लाभार्थियों की पहचान की जा सकती है। जी हाँ यदि सरकार किसी योजना को लागु करती है तो उस योजना से जिन निवासियों को लाभ मिलना चाहिए उसकी पहचान आसानी से हो सकेगी और सुपात्र लाभार्थियों तक वो योजना आसानी से पहुंच सकती है।

९:-हरियाणा परिवार पहचान पत्र के माध्यम से पेंशन भी प्राप्त की जा सकती है:- इस पहचान पत्र को केंद्रीय और राज्य सरकारों कि कई योजनाओं से जोड़ दिया जाएगा, जिसमें पेंसन योजना भी शामिल है अत: परिवार पहचान पत्र के माध्यम से पेंशन योजना का लाभ भी प्राप्त किया जा सकेगा।

१०:- इस योजना के अंतर्गत प्रत्येक फैमिली को मॉनिटर किया जाएगा जिससे कि सही लाभार्थी तक स्कीम का लाभ पहुंचाया जा सके:- और मॉनिटरिंग प्रक्रिया बेहद आसान होगी सरकार के लिए क्योंकि एक क्लिक पर राज्य में रहने वाले उन परिवारों कि पूरी कुंडली सरकार के पास होगी जिनको परिवार पहचान पत्र निर्गमित किया गया है।

११:-इस योजना के सफलतापूर्वक कार्यान्वयन के लिए सॉफ्टवेयर बनाया गया है। इस सॉफ्टवेयर के माध्यम से लाभार्थियों की पात्रता चेक की जा सकती है। यदि परिवार में किसी का जन्म होता है या फिर किसी की मृत्यु होती है तो उन्हें सर्टिफिकेट के लिए अप्लाई करने की आवश्यकता नहीं है। इस सॉफ्टवेयर के माध्यम से यह जानकारी खुद अपडेट हो जाती है।हरियाणा में किसी भी सरकारी योजना का लाभ उठाने के लिए परिवार पहचान पत्र होना अनिवार्य कर् दिया गया है।

१२:-इसके अलावा सरकारी योजनाओं के कार्यान्वयन में भी पारदर्शिता आएगी। सभी सरकारी योजनाओं का लाभ स्मार्ट कार्ड से जोड़ा जाएगा और स्मार्ट कार्ड को पहचान पत्र से जोड़ा जाएगा। सबसे पहले आयुष्मान भारत, सार्वजनिक राशन वितरण प्रणाली, मुख्यमंत्री परिवार समृद्धि योजना और पेंशन योजना को स्मार्ट कार्ड से जोड़ा जाएगा।

१३:- यह योजना महाविद्यालयों में छात्रों द्वारा प्रवेश लेने पर महाविद्यालयों के छात्र से संबंधित जानकारी प्रदान करेगी इस योजना के माध्यम से छात्रों के डाटा का ऑटो सत्यापन किया जा सकता है। पहले जो काम करने में 15 मिनट लगते थे वह काम 5 मिनट में पूरा हो जाएगा। छात्रों को भी सत्यापन के लिए इधर उधर जाने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी।

१४:-वे परिवार जिनका नाम सामाजिक-आर्थिक जाति जनगणना या SECC डेटा सूची में पंजीकृत हैं, वे भी परिवार पहचान पत्र के लिए नामांकन फॉर्म भर सकते है |परिवार पहचान पत्र कार्ड के द्वारा यह भी जानकारी मिलेगी परिवार किस क्षेत्र में रहता है | सरकार हर क्षेत्र के लिए अलग कोड बनाएगी. शहर एवं गाँव के लिए अलग कोड होगा |

परिवार पहचान पत्र योजना के लाभ:- इस योजना के अंतर्गत 14 अंकों के विशिष्ट पहचान पत्र का उद्देश्य नागरिक केंद्रित सेवाओं के वितरण के साथ-साथ भ्रष्टाचार को कम करने और राज्य के नकली लाभार्थी का पता लगाने में पारदर्शिता प्रदान करना है। जिस प्रकार फर्जी राशन कार्ड और आधार कार्ड का इस्तेमाल कर हर वर्ष अपात्र और अवैध घुसपैठिये सरकार से मिलने वाले हजारो करोड़ के लाभ डकार जाते हैं और सुपात्र लोग इनके कारण वंचित रह जाते हैं , ऐसे अपात्र और घुसपैठीयों कि पहचान आसानी से कर सकते हैं। इस योजना के ज़रिये हरियाणा राज्य में लगभग 54 लाख परिवारों को लाभ प्रदान करना है। हरियाणा 14 डिजिट परिवार पहचान पत्र योजना २०२० के ज़रिये पात्र लाभार्थी को सभी सेवाओं और योजनाओं की स्वचालित डिलीवरी सुनिश्चित करना है।meraparivar.haryana.gov.in यह पोर्टल सूचना प्रौद्योगिकी का उपयोग करके लोगों को पारदर्शी और आसान तरीके से सरकारी योजनाओं का लाभ प्रदान करने की सुविधा प्रदान करेगा।इस ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से राज्य के लोग परिवार पहचान पत्र बनाने के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते है। विकलांगता पेंशन योजना, वृद्धावस्था सम्मान भत्ता और विधवा पेंशन योजना जैसी तीन सेवाओं को परिवार पहचान पत्र (पीपीपी) पोर्टल पर एकीकृत किया गया है।

इसके माध्यम से यह सुनिश्चित किया जाएगा कि सरकार द्वारा प्रदान किए जाने वाली सभी सेवाओं और योजनाओं का लाभ हरियाणा के प्रत्येक नागरिक तक पहुंच रहा है या नहीं। इस योजना को अंत्योदय की भावना से आरंभ किया गया है। इस तरह की योजना को लागु करने वाला हरियाणा देश का पहला राज्य है।

विचारणीय प्रश्न:- मित्रों जो वर्ग CAA, NPR और NRC का विरोध कर रहा था केवल और केवल एक उद्देश्य से कि अवैध घुसपैठियों को बचाकर अपना उल्लू सीधा किया जा सके और देश को आर्थिक और सामाजिक रूप से कमजोर किया जा सके अब वो इस ब्रह्मास्त्र का मुकाबला कैसे करेंगे। क्योंकि इसमें तो सीधे सीधे भ्रष्टाचार और फर्जीवाड़े पर चौतरफा मार पड़ेगी। ना केवल परिवार अपितु स्कूल, विश्वविद्यालाय, सरकारी नौकरियों, सरकारी योजनाओं और समाज के हर स्तर पर घुसपैठियों को ढूंढ ढूंढ कर निकाला जाएगा और उन्हें बड़े सम्मान के साथ देश से बाहर का रास्ता दिखाया जाएगा। अब क्या करोगे तुम लोग क्योंकि परिवार पहचान पत्र योजना अपनाएंगे हम लोग।

धन्यवाद, जय हिंद, वंदेमातरम, भारत माता कि जय।
Nagendra Pratap Singh(Advocate)
[email protected]

  Support Us  

OpIndia is not rich like the mainstream media. Even a small contribution by you will help us keep running. Consider making a voluntary payment.

Trending now

aryaninnaghttp://kanoonforall.com
An Advocate with 15+ years experience. A Social worker. Worked with WHO in its Intensive Pulse Polio immunisation movement at Uttar Pradesh and Bihar.
- Advertisement -

Latest News

Recently Popular