Saturday, September 18, 2021
HomeHindiबिजनौर: छह साल बाद भी नहीं बना गंगा पर पुल

बिजनौर: छह साल बाद भी नहीं बना गंगा पर पुल

Also Read

Abhishek
A Freelance Writer / Social Activist /News Addict

उत्तर प्रदेश के बिजनौर की सहारनपुर और उत्तराखंड के रूडकी के लिये सडक मार्ग की कोई भी सीधी कनेक्टिविटी नहीं है। बिजनौर के बालावाली में गंगा नदी पर निर्माणाधीन उत्तर प्रदेश सेतु निगम के पुल का छ: वर्षों बाद भी निर्माण कार्य पूरा नहीं हो सका है। इस पुल की नींव सितंबर 2015 में सपा सरकार में रखी गई थी, लेकिन आज तक इसका निर्माण अधूरा पड़ा है। हांलाकि भाजपा सरकार के दौरान पुल का निर्माण काफी तेजी से किया गया, लेकिन निर्धारित अवधि पूर्ण होने के चार वर्ष बाद भी लोगों को पुल की सुविधा का अभी भी इंतजार है।

सितंबर 2015 मे निर्माण कार्य हुया था आरंभ
यूपी-उतराखंड सीमा पर बालावाली में सितंबर 2015 में तत्कालीन विधायक रुचिवीरा ने क्षेत्र को उतराखंड से जोड़ने के लिए गंगा नदी पर पक्का पुल की आधारशिला रखी थी। इस पुल निर्माण का दायित्व यूपी सेतु निर्माण निगम को सौंपा गया था। उस समय पुल का निर्माण पूर्ण होने की अवधि दिसंबर 2017 निर्धारित हुई थी। लेकिन समय अवधि में निर्माण पूर्ण नहीं हो सका। पुल निर्माण जनवरी 2021 तक पूर्ण हो गया मगर अभी तक दोनो साईड मे एप्रोच मार्ग का कार्य अधुरा पडा है। पुल बनाने से पहले एप्रोच रोड के लिये जमीन की व्यवस्था नही की थी । पुल के दोनों ओर यूपी व उत्तराखंड में 200-200 मीटर सड़क बननी है। सात मीटर चौड़ी सड़क के लिए जमीन चाहिए।उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश के किसानो ने जमीन देने से मना कर दिया था । सूत्रों के अनुसार इस पुल निर्माण से पहले जो प्रस्ताव भेजा गया था, उसमें कई खामियां थी।प्रस्ताव में पुल के दोनों ओर एप्रोच रोड बनाने के लिए जमीनों को सरकारी दर्शाया गया था।

लोक निर्माण विभाग को शासन से रिवाईज स्टीमेट की धनराशि मिलने की है प्रतीक्षा

विभाग ने दोबारा से दोनो साईड एप्रोज रोड बनाने हेतू जमीन खरीदने के लिये बिजनौर लोक निर्माण विभाग के अवर अभियंता सी॰एल॰ सैनी ने अवगत कराया है बालावाली – लक्सर मार्ग बालावाली गंगा नदी पर सेतू ,पहुंच मार्ग एवं अतिरिक्त पहुंच मार्ग के निर्माण कार्य पर पुनरीक्षित आगणन कार्यालय प्रमुख अभियंता (सेतू विंग) लोक निर्माण विभाग लखनऊ के पत्रांक 405/पुन: आगणन -बिजनौर ( बालावाली- लक्सर )/सेतू -6/2020 दिनॉंक 06.05.2020 के द्वारा प्रेषित किया गया है । कार्य की पुनरीक्षित स्वीकृति दिनांक 18.06.2021 तक नही मिली है । पुल के निर्माण की लागत 40 करोड़ से बढ़कर अब 62 करोड़ पर पहुंच गई है। इस पुल को हरिद्वार मे आयोजित हुये कुंभ से पहले ही चालू करने का टार्गेट था मगर संबधित विभाग ने कोई कार्य आरंभ नही किया जिस कारण बालावाली पुराने लोहे के पुल के दोनो साईड उत्तराखंड सरकार ने स्वंय ही एप्रोच रोड का निर्माण कराया था ताकि हरिद्वार कुंभ मे आने वाले श्रद्धालुओ को हरिद्वार – नजीबाबाद वाया भागूवाला मार्ग पर जाम की समस्या से ना जूझना पडे ।इस पुल के बनने से लोगों की काफी समस्याएं कम होगी। हरिद्वार, रुड़की, लक्सर जिले से लोग आसानी से जा सकेंगे। पंजाब जाना भी आसान हो जाएगा। #Balawali #GangaBridge #BijnorNews #UPPWD #UPStateBridgeCorporationLtd #YogiAdityanath #UPGovt #BijnorMLA

रिपोर्ट – अभिषेक कुमार

  Support Us  

OpIndia is not rich like the mainstream media. Even a small contribution by you will help us keep running. Consider making a voluntary payment.

Trending now

Abhishek
A Freelance Writer / Social Activist /News Addict
- Advertisement -

Latest News

Recently Popular