Tuesday, March 9, 2021
Home Hindi जमाकर्ता जमा बीमा के अन्तर्गत प्राप्त सुविधा ज्यादा कैसे प्राप्त कर सकता है

जमाकर्ता जमा बीमा के अन्तर्गत प्राप्त सुविधा ज्यादा कैसे प्राप्त कर सकता है

Also Read

पंजाब एण्ड महाराष्ट्र सहकारी बैंक की विफलता के बाद खाताधारकों के हितार्थ यह जानना आवश्यक है कि हर लाइसेंस प्राप्त बैंक के साथ उनकी जमाराशि एक लाख रुपये तक “जमा बीमा” के अन्तर्गत सुरक्षित है।

लेकिन उपरोक्त का फायदा यानि दावों का निपटान निक्षेप बीमा और प्रत्यय गारंटी निगम (डी०आई०सी०जी० सी०) बैंक के परिसमापन (लिक्विडेशन) प्रक्रिया चालू होने के बाद ही शुरू करती है।

अब पाठक यह जान लें कि आपको अधिकतम फायदा एक लाख तक ही है भले ही वहाँ पैसा इससे ज्यादा हो। लेकिन आप ज्यादा फायदा वैध तरीके से ले सकते हैं और उसके लिये आपको प्लानिंग करनी होगी,यही यहाँ उल्लेखित कर रहा हूँ।

यदि आप अपना नाम प्रथम रख एक खाता खोल लें और बाकी अन्यों के साथ संयुक्त यानि एक आपका अपने नाम का, दूसरा आपके साथ पत्नी और इसी प्रकार तीसरे में आपके साथ आपका लडका और चौथे में लडकी, फिर पाँचवे में आपके साथ पत्नी व लडका दोनों। तो ये सभी पाँचों खाते अलग अलग मानें जायेंगे यानि यह जमा अलग क्षमता व अलग अधिकार के अन्तर्गत माने जायेंगे।

उपरोक्त तरीका आपको दावों के निपटान मेंं हर खाते पर अधिकतम एक लाख का अधिकारी बना देगा यानि इस हालात में आप पाँच लाख के अधिकारी हो जायेंगे।

यदि आपकी जमा राशि पाँच लाख से ज्यादा है तो आप संयुक्त जमाकर्ताओं के अनुक्रम को विस्तारित कर लें यानि पहला नाम तो हमेशा पहला ही रहेगा लेकिन अब तीन या आवश्यकता हो तो चार नामों का संयुक्त खाता बनायें। उदाहरणार्थ आप के साथ लडका व पत्नी, इसी प्रकार आप के साथ पत्नी व तीसरा नाम लडके का। इस प्रकार आप चार/ पाँच सदस्यों के साद दस/ बारह खाते बना हर खाते का एक लाख के हिसाब से आठ/ दस लाख परिसमापन (लिक्विडेशन) प्रक्रिया के अन्तर्गत प्राप्त कर पायेंगे यानि आप सभी खातों पर अपना पूरा पूरा नियंत्रण रख पायेंगे।

आप इस सन्दर्भ में निक्षेप बीमा और प्रत्यय गारंटी निगम (डी०आई०सी०जी० सी०) की पुस्तिका के पृष्ठ संख्या ८-९ पर प्रश्न नंबर १० के जबाब में आधिकारिक उत्तर उदाहरण के साथ को देख सकते हैं।और उस पुस्तिका का लिंक है > https://www.dicgc.org.in/FD_FAQs.html

आखिर में यही लिखना है कि घबड़ायें नहीं सबसे पहले तो रिजर्व बैंक इसको सम्भालने की पूरी पूरी कोशिश कर भी रहा है और करेगा भी।

अभी जो आपको मौका मिला उसका फायदा उठाते हुये ज्यादा से ज्यादा पैसा निकाल वहाँ जमा कम कृते जाँय और साथ साथ उपरोक्त बताये वैध तरीके को अपनाकर योजनावद्ध तरीके से अपना पक्ष मजबूत कर लें ताकि यदि परिसमापन (लिक्वीडेशन) वाली परिस्थिति बने तो आप पहले से ही सम्भले हुए रहें।

आशा है आप सभी जमाकर्ता ऊपर बताये गये वैध तरीके को न केवल अपनायेंगे बल्कि अन्यों में भी जागरूकता फैलायेंगे ताकि सभी को ज्यादा से ज्यादा लाभ मिल पाय।

गोवर्धन दास बिन्नाणी
जय नारायण ब्यास कालोनी,
बीकानेर
9829129011

  Support Us  

OpIndia is not rich like the mainstream media. Even a small contribution by you will help us keep running. Consider making a voluntary payment.

Trending now

Latest News

Recently Popular

गुप्त काल को स्वर्ण युग क्यों कहा जाता है

एक सफल शासन की नींव समुद्रगप्त ने अपने शासनकाल में ही रख दी थी इसीलिए गुप्त सम्राटों का शासन अत्यधिक सफल रहा। साम्राज्य की दृढ़ता शांति और नागरिकों की उन्नति इसके प्रमाण थे।

सामाजिक भेदभाव: कारण और निवारण

भारत में व्याप्त सामाजिक असामानता केवल एक वर्ग विशेष के साथ जिसे कि दलित कहा जाता है के साथ ही व्यापक रूप से प्रभावी है परंतु आर्थिक असमानता को केवल दलितों में ही व्याप्त नहीं माना जा सकता।

पोषण अभियान: सही पोषण – देश रोशन

भारत सरकार द्वारा कुपोषण को दूर करने के लिए जीवनचक्र एप्रोच अपनाकर चरणबद्ध ढंग से पोषण अभियान चलाया जा रहा है, भारत सरकार द्वारा...

वर्ण व्यवस्था और जाति व्यवस्था के मध्य अंतर और हमारे इतिहास के साथ किया गया खिलवाड़

वास्तव में सनातन में जिस वर्ण व्यवस्था की परिकल्पना की गई उसी वर्ण व्यवस्था को छिन्न भिन्न करके समाज में जाति व्यवस्था को स्थापित कर दिया गया। समस्या यह है कि आज वर्ण और जाति को एक समान माना जाता है जिससे समस्या लगातार बढ़ती जा रही है।

The story of Lord Jagannath and Krishna’s heart

But do we really know the significance of this temple and the story behind the incomplete idols of Lord Jagannath, Lord Balabhadra and Maa Shubhadra?