Tuesday, October 20, 2020

TOPIC

terrorism

Did Mahabharat inspire to solve Terrorism in Myanmar?

Most Indian Gods carry a flower (giving peace a chance), weapon (violence for good) & animal as vehicle (animal instinct of survival of the fittest)

Only Ram’s Bharat can de-radicalize Project Medina victims

Modern-day Bharat has to take a leaf out of the horrors, the middle-east has gone through and pre-empt the causes at the earliest. There is absolutely no scarcity like that of a desert here.

Terrorism, intolerance and the like: Active role of algorithms

How social media and its algorithms are giving their best to damage the youth by making them radicals!

The hypocrisy behind the tweet spat between cricketers

The low-level drama which Siddhu enacted in August 2018, was performed a few days back by Yuvraj and Harbhajan. And this when they knew this is not the first time Afridi has crossed his limits. He has been a habitual offender.

An analysis on Nizamuddin Jamaat issue

Tablighi Jamaat issue is all about Regressive Islamic thoughts Versus the Liberal Indic thoughts.

Start preparing for the new normal in the post-coronavirus world

Actions that we and our governments should take in containing future biological threats.

साम्यवाद – लोकतंत्र और राष्ट्रीय अखंडता के लिए खतरा

साम्यवाद में प्रतिएक मानव को संदेह की दृष्टि से देखने की प्रवृत्ति के कारण राजकीय तंत्र (सरकारी अफसर, प्रशाशन, सेना) सकती से काम करे यह भी जरूरी हो गया जिस कारण इन्हें भी सरकारी जोर के अंतर गत कार्य करवाना जरूरी था।

Agony of Heaven’s demolition in 1990

Since the revocation of Article 370, Kashmir as a part of the J&K Union Territory seems have to become the old peace-loving beautiful paradise on earth for the world.

धर्मनिरपेक्षता या कायरता

अब जब देश तमाम कुर्बानियों और नुकसान के बाद आजाद हुआ है तो एक बार फिर भ्रमित किया जा रहा है कि हम असहिष्णु हैं, हम धर्मनिरपेक्ष नहीं हैं.

भारत एक सभ्यता

दुनिया में जीतनी भी बर्बादी हो रही हैं, उस में सरे धर्म आते हैं सिवाय हिन्दू धर्म के।

Latest News

शांत कश्मीर और चिदंबरम का 370 वाला तीर

डॉ. मनमोहन सिंह की सरकार के सबसे शक्तिशाली मंत्रियो में से एक चिदंबरम आज वही भाषा बोल रहे है जो पाकिस्तान संयुक्त राष्ट्र तथा अन्य अंतर्राष्ट्रीय मंचो पर बोलता आया है। चिदंबरम यही नहीं रुके उन्होंने अलगाववादियों को भी महत्व देने की बात कही है।

मिले न मिले हम- स्टारिंग चिराग पासवान

आज के परिपेक्ष्य में बिहार का चुनाव कई मायनो में अलग है। मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री पारम्परिक राजनीती वाली रणनीति का अनुसरण कर रहे है तो वही युवा चिराग और तेजस्वी विरासती जनाधार को नए भविष्य का सपना दिखने का प्रयास कर रहे है।

How BJP can win seats in Tamil Nadu and Kerala

It is time for BJP to eye on Tamil Nadu and Kerala. In Lok Sabha election 2024 BJP will win ±15 seats in TN and ±3 seats in Kerala.

Brace for ad Jihad

Delusionary fairy tale

Why this hullabaloo about shifting Bollywood?

Let the new film city emerge as the genuine centre for producing high quality films that are genuinely Indian and be helpful in building a strong value-based society.

Recently Popular

Jallikattu – the popular sentiment & ‘The Kiss of Judas Bull’ incident

A contrarian view on the issue being hotly debated.

सामाजिक भेदभाव: कारण और निवारण

भारत में व्याप्त सामाजिक असामानता केवल एक वर्ग विशेष के साथ जिसे कि दलित कहा जाता है के साथ ही व्यापक रूप से प्रभावी है परंतु आर्थिक असमानता को केवल दलितों में ही व्याप्त नहीं माना जा सकता।

How I was saved from Love Jihad

A personal experience of a liberal urban woman and her close brush with Islam.

Twitter wrongfully reports Jammu & Kashmir’s location again

In February of this year Twitter was accused of getting Jammu & Kashmir’s location wrong.

हिंदू धर्म की भावनाओं को ठेस पहुंचाना कहां तक उचित है??

विज्ञापन में दिखाए गए पात्रों के धर्म एक दूसरे से बदल दिए जाएं तो क्या देश में अभी शांति रहती। क्या तनिष्क के शोरूम सुरक्षित रहते। क्या लिबरल तब भी अभिभ्यक्ती की स्वतन्त्रता की बात करते।