Saturday, October 23, 2021

TOPIC

RSS' contribution in freedom

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के राष्ट्र सेवा में बढ़ते कदम

राष्ट्र को परमवैभव पर ले जाने के जिस उद्देश्य को लेकर विजयादशमी के दिन नागपुर में प्रखर राष्ट्रवाद की भावना से ओतप्रोत डा. केशवराव बलिराम हेडगेवार ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की स्थापना की थी।

कांग्रेस ने कभी भी देश को स्वत्रंत कराने का प्रयास नहीं किया: प्रथम भाग

कांग्रेस का चरित्र कल भी वही था और आज भी वही है। कांग्रेस के आंदोलनों का सच द्रितीय भाग में आप के समक्ष प्रस्तुत करूंगा।

भारत के निर्माण में संघ का योगदान

गांधी जी ने ए.ओ. द्वारा गठित भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस को समाप्त करने की बात भी कही थी। स्वतंत्रता संग्राम में किसी व्यक्ति विशेष या पार्टी का कोई योगदान नहीं है, आजादी की लड़ाई में सभी का रक्त शामिल है।

RSS: Perspective with unbiased lenses

Should we call RSS Swayamsevaks as religious fanatics if they are following the principles of Sanatana Dharma and serving society without any prejudice, rich or poor, black or white, no religious and caste discrimination?

संघ विचार-परिवार के वैचारिक अधिष्ठान की नींव- श्री गुरूजी

संघ विचार-परिवार जिस सुदृढ़ वैचारिक अधिष्ठान पर खड़ा है उसके मूल में माधवराव सदाशिव राव गोलवलकर उपाख्य श्री गुरूजी के विचार ही बीज रूप में विद्यमान हैं। संघ का स्थूल-शरीरिक ढाँचा यदि डॉक्टर हेडगेवार की देन है तो उसकी आत्मा उसके द्वितीय सरसंघचालक श्री गुरूजी के द्वारा रची-गढ़ी गई है।

संघ कार्य व्यक्ति निर्माण का कार्य है, यह एक धीमी प्रक्रिया है, इसकी गति बढ़ाना सम्भव ही नहीं

संघ पर प्रश्न खड़े करने वाले निष्क्रिय निठल्ले और परिस्थितियों से विवश, नकारात्मक लोग हैं, भले ही वे #सक्रिय जैसे दिखते हैं। हजारों वर्षों के राष्ट्र जीवन में इनकी औकात ही क्या है? वेद, उपनिषद और गीता के सामने तुम्हारी एक किताब का अस्तित्व ही क्या है?

संघ नींव में विसर्जित पुष्प

संघ के निर्माता डा. केशवराव हेडगेवार जन्मजात देशभक्त थे। बचपन से ही उन्हें नगर में घूमते हुए अंग्रेज सैनिक, सीताबर्डी के किले पर फहराता अंग्रेजों का झण्डा यूनियन जैक तथा विद्यालय में गाया जाने वाला गीत ‘गाॅड सेव दि किंग’ बहुत बुरा लगता था।

श्री गुरुजी- “संकीर्ण मानसिकता” अथवा संगठित, सशक्त एवं समरस हिन्दू समाज के प्रवर्तक

माधव सदाशिव गोलवलकर उपाख्य श्री गुरूजी के चित्र लगा एक पोस्टर सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है जिसमें उनके हवाले से संघ दलित पिछड़ो को बराबरी के अधिकार का विरोध है ऐसा बताया जा रहा है। जबकि सचाई यह है की श्रीगुरुजी, विश्व हिंदू परिषद् के पहले सम्मेलन प्रयागराज 1966 में सभी पंथो के संतो को एक मंच पर लाकर "हिन्दव: सहोदरा सर्वे, ना हिन्दु पतितो भवेत" का प्रस्ताव पारित करवाया था।

मुंबई के कांदिवली से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के 10 स्वयंसेवक बैरंबाग के मुस्लिम बस्ती(रेड ज़ोन) में स्क्रीनिंग के लिए रवाना हुए

कई बार संघ के विरोधी भी देख कर दंग रह जाते है कि ये लोग किस मिट्टी के बने है हम इनका तिरस्कार करते हैं और ये देश सेवा में व्यस्त रहते हैं और संघ स्वयंसेवकों की प्रसंशा करने पर विवश हो जाते हैं।

Why we need RSS

In every crisis, you will notice one organization always at the forefront is RSS (Rashtriya Swayamsevak Sangh) without any selfish motive, religious discrimination, photo-op, just work relentlessly for the benefit of society out of belongingness.

Latest News

Recently Popular