Friday, June 25, 2021

TOPIC

Narendra Modi govt takes tough action on COVID-19 pandemic

Why compulsory licencing seems to be the only viable option to tackle COVID in India?

Compulsory licensing is an extreme measure, which comes with many consequences. To tackle an extremely severe disease, an extreme step is quintessential, for which Government should be preparing nonetheless.

हिंदुस्तान में कोविड 19 टीकाकरण की प्राथमिकता सूची हिन्दू दर्शन के अनुरूप

भारत हिन्दू राष्ट्र की तरफ कदम दर कदम बढ़ रहा है। कुछ अपवाद और अड़चन को छोड़ दें तो वर्तमान में टीकाकरण की प्राथमिकता इसी क्रम में दिखाई देती है।

Is India prepared to counter another COVID-19 wave?

Probably, we failed to understand that unless 60-70% population achieve immunity (herd immunity stage), ‘No one is safe until everyone is safe’.

Corona and rights to live: Timely treatment to the needy

Center government is doing good in this epidemic but what about state governments?

संयम, सेवा और युवा उद्यम: यही कोरोना पर विजय पाने का मंत्र

समन्वय एवं सेवाभाव से जुटकर, प्रत्येक अभाव को अपने संभव प्रयास से दूर करके, समाधान की ओर बढ़ना एवं संयम, मनोबल के साथ अनुशासन व परस्पर सहयोग की भावना रखना, इन सभी से ही हम इस भीषण परिस्थिति से उभर कर पुनः एक खुशहाल एवं स्वस्थ जीवन शैली की ओर बढ़ सकते हैं।

India faces second wave united, sickular media and left liberals attack Gujarat

With the second wave's arrival, our govt is on the surgical strike mode against corona—this time, the modus operandi involves vaccinating a targeted group of people so that the damage is the minimum.

Narendra Modi’s PM C.A.R.E.S. – A Miscalculated Initiative?

A comparative analysis of the viability of the PM CARES and the NDRF-SDRF.

“जान भी, जहान भी”

अब देश का प्रत्येक व्यक्ति "जान भी, जहान भी", दोनों की चिंता करते हुए अपने दायित्व निभाएगा साथ ही साथ सरकार और प्रशासन के दिशा-निर्देशों का पालन करेगा।

“वीरता ही शांति की पूर्व शर्त होती है, निर्बल कभी शांति स्थापित नहीं कर पाते”

प्रधानमंत्री ने कहा "शांति कभी निर्बलों द्वारा स्थापित नहीं की जा सकती" अर्थात् शांति स्थापित करने का कार्य वीरों का है। जिसके लिए उन्हें अधर्म/अराजकता/शत्रु का विनाश करना पड़ता है। हिंसा के विरुद्ध भयावह प्रतिहिंसा करनी ही पड़ती है।

Latest News

Recently Popular