Wednesday, April 17, 2024

TOPIC

Indian Journalism

पत्रकारिता; कल, आज और कल

पत्रकारिता मर नहीं रही है वह अपना स्वरूप बदल रही है अब वह दूसरे आयाम में जा रही है। कल की पत्रकारिता बीत चुकी है, आज की पत्रकारिता चल रही है और विकसित हो रही है और कल की पत्रकारिता अभी बाकी है।

The changing nature of journalism is changing with the times

According to the time and according to the thinking of the people, journalism has changed its nature.

Standard of journalism seems to be falling day by day

If present-day journalism is to be defined, then it can be termed as an undertaking to vigorously spread the continuous sequence of selling human sensibilities.

Deterioration of journalism for the channel’s TRP is a matter of concern

Indian channels have been making their place in the TRP race in the past. After the recent terrorist attacks in Jammu and Kashmir and subsequent airstrikes by India on terrorist bases in Pakistan, the manner in which most of the channels tried to incite war hysteria has become a global rage.

Video press meet between Taliban Chief & Lutyens media stooges

Satire: The peace-loving Taliban gives an awesome interview to Indian journalists for being truly secular.

पत्रकार मनदीप पूनिया के प्रति मेरी घोर संवेदनाएं है!

मनदीप पूनिया एक पात्र है और ऐसे हजारों छात्र देश के हर विश्वविद्यालय में ट्रैप में फंसते हैं। व्यवस्था विरोध में फेक न्यूज की फैक्ट्री ही नहीं नक्सली भी बनते हैं। वो वैचारिक जोम्बी बनकर अपने आला का हुक्म बजाते हैं। फिर जोम्बिज का श्रृंखला बनता ही रहता है।

कांक्लेव ऋतु में पत्रकारिता-उत्सव की धूम

भारत में मात्र ६ ऋतु नहीं हैं! सातवीं भी है, और अभी वही चल रही है। इस ऋतु को कॉनक्लेव ऋतु कहा जाता है। इसमें मीडिया घराने हर २-३ दिन में कोई कॉनक्लेव करते हैं।

How Indian media defamed Hinduism by labeling a Muslim terrorist a Hindu

Indian media's changed stand: Terror HAS religion

If I were a journalist (a response to Barkha Dutt)

The diminishing value of journalists in the country

Demonetization: What does the world’s most unbiased reporter say?

According to the MSM due to demonetization, the farms are empty, the trucks are empty, the mandis are empty, but the markets are full. MSM has comprehend demonetization pathetically.

Latest News

Recently Popular