Wednesday, January 27, 2021

TOPIC

human rights of Hindus

हिंदुओं की पुराने अनुपात में वापसी ही कश्मीर घाटी की चिंता का समाधान है

कश्मीर को शांत वादियों में बदलना है तो उसे अस्सी के दशक में मौजूद रहे जनसंख्या के मूल ढांचे में लाना ही पड़ेगा। इसके अलावा बाकी सारे उपाय फौरी तौर पर तो सफल हो सकते हैं, लेकिन वह लंबे समय तक कारगार नहीं हो पाएंगे।

‘पुलिस के पुरुषार्थ’ की कीमत हिंदुओं का शव

सेक्युलरिज्म, धार्मिक सौहार्द की कीमत तो हमेशा से हिंदुओं के शवों से चुकाई जाती रही है। इसमें कोई नई बात नही है। ये तो परम्परा रही है।

Interpretation of human rights

The disempowering Triple Talaq and Article 370 have been abrogated. Article 370 was extremely discriminatory to the Kashmiri women and it has been rightly abrogated.

लोकतंत्र तो अधिकार देता है पर उदारवादी नहीं

आज जब हिजाब के खिलाफ आवाज उठाने वाली छात्रा हो या लाउडस्पीकर पर अजान का न्यायसम्मत विरोध करने वाली महिला हो या फिर इसके समर्थन में उतरी एक अन्य छात्रा हो, इनके समर्थन में महिला अधिकारों की बात करने वाले उपर्युक्त किसी उदारवादी संगठन की कोई आवाज क्यों नहीं सुनाई दी।

To the youth – Please understand the mind of an average Hindu

Unfortunately, the average Hindu finds little presence in the academia and intelligentsia, which has ever trivialized the sufferings of the Hindus. The world knows of the injustices perpetrated upon the Jews and rightfully acknowledges them, but it knows not of the injustices perpetrated upon the Hindus

कानून सजग नागरिकों के प्रति उत्तदाई होता है

मंदिरों को स्वतंत्र कराना, गौहत्या पर रोक लगवाना, विद्यालयों में हिन्दू धर्म की शिक्षा को आरंभ कराना, सरकारी योजनाओं में हिन्दुओं के प्रति भेदभाव को समाप्त कराना, अभद्र टिप्पणियों की रिपोर्ट करना इत्यादि अनेकों समस्याएं विद्यमान हैं। इन समस्यायों से छुटकारा पाने लिए यह बहुत आवश्यक है कि हिन्दुओं को इनकी समाप्ति के उपाय एवं उनकी कानूनी प्रक्रिया का ज्ञान हो।

A non intellectual Hindu perspective

After all the advantage Muslims have had in India, they don’t seem to be content, especially now that the current government is trying to equalize the status of all Indians irrespective of their religion.

दुःख हमें भी होता है; लेकिन हम नकली विक्टिम कार्ड नहीं खेलते

जब देश के अलग अलग शहरों में पत्थरबाजी और आगजनी की खबरे सुनता हूं तो लगता है मानो देश में और छोटे छोटे कश्मीर बन रहे हो।

The after-effects of the Hindu Religious Endowments Act

From 1991, no religious and spiritual leaders are involved in maintenance and administration of the Hindu Temples and Charitable Endowments rather the Temple Management was taken over by the Government. But this was not the case with other religious buildings e.g. Mosques, Churches, Jain temples etc.

Find out what this Anti-Hindu Ecosystem is about, and how we can fight back

Hypocrisy is the rule in this ecosystem. Read more to understand the issues and the way forward.

Latest News

Interesting “Tandav” challenges the conventional entertainment in India

Tandav actually challenges the way conventional entertainment has been in India not only for years but for decades now. It's a good story if a right wing student leader is corrupt and greedy but it is not a good story if the left leaning student leader does the same thing.

११वां राष्ट्रीय मतदाता दिवस आज, अब ई-मतदाता पहचान पत्र कर सकेंगे डाऊनलोड

आज राष्ट्र ग्यारहवाँ राष्ट्रीय मतदाता दिवस मना रहा है, यह दिवस वर्ष १९५० में आज ही के दिन, चुनाव आयोग की स्थापना के उपलक्ष्य में वर्ष २०११ से मनाया जा रहा है।

The bar of being at “The Bar”

The present structure of the Indian judicial system is a continuation of what was left to us by the colonial rulers.

Partition of India and Netaji

Had all Indians taken arms against British and supported Azad Hind Fauz of Netaji from within India in 1942 instead of allowing the Congress to launch non-violent ‘Quite India Movement’ of Gandhi, the history of sub-continent would have been different.

नेताजी सुभाष चन्द्र बोस जयंती विशेष: हर भारतीयों के लिए पराक्रम के प्रतीक

भारत माता के सपूत के स्वतंत्रता सेनानी नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती को केंद्र सरकार ने हर साल पराक्रम दिवस के रूप में मनाने का फैसला किया है।

Recently Popular

Daredevil of Indian Army: Para SF Major Mohit Sharma’s who became Iftikaar Bhatt to kill terrorists

Such brave souls of Bharat Mata who knows every minute of their life may become the last minute.

गुप्त काल को स्वर्ण युग क्यों कहा जाता है

एक सफल शासन की नींव समुद्रगप्त ने अपने शासनकाल में ही रख दी थी इसीलिए गुप्त सम्राटों का शासन अत्यधिक सफल रहा। साम्राज्य की दृढ़ता शांति और नागरिकों की उन्नति इसके प्रमाण थे।

The reality of Akbar that our history textbooks don’t teach!

Akbar had over 5,000 wives in his harems, and was regularly asked by his Sunni court officials to limit the number of his wives to 4, due to it being prescribed by the Quran. Miffed with the regular criticism of him violating the Quran, he founded the religion Din-e-illahi

Pt Deen Dayal Upadhyaya and Integral Humanism

According to Upadhyaya, the primary concern in India must be to develop an indigenous economic model that puts the human being at centre stage.

Dr. APJ Abdul Kalam: Making of a legend beyond religious horizon

Dr. APJ Abdul Kalam is a perfect embodiment of a seeker in true sense who rejected this exclusivist tendency of only Islam is true. He notably acknowledged diversity of spaces which is a fundamental pillar on which Indian cultural and traditional society rests.