Saturday, June 25, 2022

TOPIC

congress

Do we swear to destroy India?

India’s future is in your hands only, save her if you can.

It’s politics stupid!

Is it not bewildering that the Congress spokespersons mechanically touted the ‘political conspiracy’ hypothesis, yet again? For INC and the Gandhis are not to blame.

भाजपा, सांप्रदायिकता और विकास

आज भी एक बड़े वर्ग ने भारत सरकार के खिलाफ यह भ्रम फैला रखा है की यह सरकार सिर्फ हिन्दू-मुस्लिम करके चुनाव जीत रही है एवं युवाओं के रोजगार, अर्थव्यवस्था एवं देश के विकास के लिए कुछ भी नहीं कर रही है।

विक्रम सिंह मीना ई आर सी पी को लेकर कर रहे है बड़ी तैयारी; जानिये ERCP के बारे में पूरी जानकारी

इन दिनों राजस्थान में पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना यानी ईआरसीपी को लेकर रार मची हुई है। अब इस परियोजना को लेकर भारतीय किसान यूनियन के युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष विक्रम सिंह मीना राजस्र्थान के लोगो से एकजुट होने की अपील कर रहे है और सरकार को झुकाने की पूरी तैयारी कर रहे है।

The dirty game of arrests: How the opposition is planting the last nail in its own coffin

The opposition should realize that if Anna Hazare was not arrested, AAP would not be what it is today. Similarly, if L K Advani was not arrested, BJP would not be what it is today.

‘गांधीवादी’ प्रशांत किशोर पूरे बिहार में करेंगे जनयात्रा, अधूरे काम को पूरा करने के लिए इलेक्शन गुरु ने खड़ा किया बड़ा संगठन

नसंपर्क करने के नए उन्नत तकनीक के साथ लॉन्च होगी. इस यात्रा में "बात बिहार की" टीम और इस संगठन से जुड़े लगभग 12 लाख सदस्य एक अहम भूमिका निभाएंगे

The Row over Hindi being the National Language: Justified?

Home Minister Amit Shah’s statement to use Hindi instead of English for communication within India has sparked a row recently.

“Accident, suicide or murder of Congress and regional parties” – Revival plan of Prashant Kishor

India's renowned political aid Mr. Prashan Kishor is in the news for his leaked 600 pages plan to revive congress.

Pradhan Mantri Sanghralaya: Why troublemaking all the time?

The Congress leaders opposed the government’s decision and called it an attempt to dilute the legacy of Jawaharlal Nehru. The Centre, however, maintained that the move was not to undermine the legacy of the first PM.

लास्ट मैनेजिंग एजेंसी- कांग्रेस

2014 के चुनावों के बाद से कांग्रेस का पतन तेजी से हुआ लेकिन इस पतन की शुरुआत बहुत पहले ही 1975 में हो चुकी थी। अब कांग्रेस एक ब्रैंड के रूप में "थकान" अंतिम स्टेज पर है और इसका सबसे बड़ा कारण 1950 के बाद से कांग्रेस की नीतियों में हुए 'शून्य' बदलाव हैं।

Latest News

Recently Popular