Thursday, August 6, 2020

Satire

Pakistani military: A Tom & Jerry show

It is pitiful that a nation that claims to have a creditable defense establishment, exposes its shallowness, illiteracy and comical understanding of ‘war tactics’, both at a psychological level and an implementation level.

हरी चटनी और लाल सलाम

अब्दुल मियाँ की दुकान बढ़िया दूर से ही पहचान में आ जाती है। दसियों हरे झंडे दिखाई देते हैं। यही तो पहचान है जिसे गाँव के बुद्धिजीवी किलोमीटर से सूंघ लेते हैं।

मोहतरमा आप महान हैं..

अश्वेतों के प्रति अभिनेत्रियों के अकस्मात उमड़ते प्रेम पर कविता

Beginner’s guide for the Indian Liberalism exam

It is important to remember that Indian Liberal’s love for India is not desi love. Indian Liberal loves India the way an outsider would love India.

Saving the idea of India

Should Mickey (Valmiki) have not been more inclusive and given name Rehman instead of Hanuman and Agatha instead of Agastya? Such bandicoot the wrier was!

सेक्युलरिज्म का साँड़ अब लाल नहीं अपितु भगवा रंग देखकर खिसियाता है

हमने इस बार उसे नारा लगाने दिया। जब दो चार नारा लगाने के बाद वो हांफ गया और उसके फेफड़ों से सीं सीं की आवाज़ आने लगी तब हमने कहा, "सांस ले लो भाई, नहीं तो कहीं तुम्हारे लब आज़ाद हो गए तो तुम्हारे कामरेड बोलने लगेंगे, मूडी मस्ट रिजाइन, मूडी मस्ट रिजाइन"।

Truth through a reverse image search – Satire

Satirical way to show an information propaganda which works very powerfully, even today.

Ranchod’s “Ranneeti”: Strategy in times of Covid-19

This article takes an eagle-eye view of the lockdown’s strategy from the "Leela’s" of Lord Krishna.

#FakeFeminism:- लड़के के भेष में निकली लड़की

इंसान के बाहरी रूप को देखकर कई महा अनुभवों को गलती हो जाती है, कई बार तो इस गलती का स्तर इतना ऊंचा होता है कि लिबरल और वामपंथी विचारधारा के लोग इस पर लीपापोती करने को तैयार रहते हैं।

आरोग्य सेतू एप पर रवीश की प्राइम टाइम (व्यंग्य)

जहां देश कोरोना के संकट से जूझ रहा था, मजदूर भूख से तड़प रहे थे, दिहाड़ी मजदूर दूसरे प्रदेशों में फंसे होने के कारण आत्महत्या करने को विवश थे और प्रधानमंत्री मंत्री लोगो को अपने मोबाइल में app install करने को विवश कर रहे थे। क्या यही लोकतंत्र है..??

Latest News

Ram Mandir: Why it’s not a Hindu-Muslim but Indians vs Invaders issue

Ram Mandir is an issue which has surrounded a billion strong nation from 30-years and has led to multiple Hindu-Muslim riots leaving hundreds of people dead of both religions and is why still not a Hindu-Muslim issue?

राम

करने जन जन का कल्याण, करने संतों का उद्धार, करने दुष्टों का संहार, भारत भू पर जन्मे राम।

राम-भक्त कारसेवकों को नमन

समय बलवान होता है, ये पता था मगर नियती (डेस्टिनी) उससे भी बड़ी होती है, ये आज पता चला और नियती उनका साथ देती है जो धर्म के तरफ खड़े होते हैं! अपने आराध्य के लिए अपना सर्वस्व निछiवर करने वाले सभी कार्यसेवकों को नमन!

Only Ram’s Bharat can de-radicalize Project Medina victims

Modern-day Bharat has to take a leaf out of the horrors, the middle-east has gone through and pre-empt the causes at the earliest. There is absolutely no scarcity like that of a desert here.

आज न सिर्फ उत्सव मानना है अपितु कार सेवकों के बलिदान को याद कर प्रपंचों से भी लड़ना है

आज न सिर्फ राम मंदिर की आधारशिला रखी जा रही है, बल्कि नए भारत निर्माण के संकल्प का वास्तविक आगाज भी हो रहा है। आज से हर राम भक्त दायित्व है कि अपने धर्म के विरुद्ध रचे जाने वाले प्रपंच और मिथ्या दुष्प्रचार का खंडन करे तथा अपने धर्म और कार सेवकों के बलिदान की शुचिता बनाए रखे।

Recently Popular

Curious case of Swastika

Swastika (स्वस्तिक) literally means ‘let there be good’ (su "good" and asti "let it be"), or simply ‘good it is’ implying total surrender to paramatma and acceptance of the fruits of karma.

National Education Policy 2020 envisions to revive the ancient Indian wisdom, philosophy, human ethics and value system

The NEP 2020 is indeed has the potential to make India – Atmanirbhar if implemented properly. It envisions to make India a knowledge driven society and become Vishwa Guru in the field of education.

Only Ram’s Bharat can de-radicalize Project Medina victims

Modern-day Bharat has to take a leaf out of the horrors, the middle-east has gone through and pre-empt the causes at the earliest. There is absolutely no scarcity like that of a desert here.

Ram Janmabhoomi: A tribute to the centuries old struggle

In 1574 the Vaishnav saint Tulsidas in his writing “Ramcharitmanas” and in 1598 Abu al-Fazal also in his third volume of Akbarnama mentioned the Lord Ram birthday festival in Ayodhya. They did not mention any existence of a mosque.

How did Buddha look upon as Rama and what Rama means to a Buddhist

How Buddhist texts mention Lord Rama of Hinduism.
Advertisements