Thursday, June 4, 2020
Home Hindi कैपिटल गेन्स से सम्बन्धित वरिष्ठों की पीड़ा

कैपिटल गेन्स से सम्बन्धित वरिष्ठों की पीड़ा

Also Read

 

मोदीजी बहुमत हासिल कर सत्ता वापसी की है इसलिये उन्हें ढेरों बधाई व शुभकामनायें। उन्होंने जनता को समस्याओं से सरकार को अवगत कराते रहने को कहा है।

वरिष्ठों से सम्बन्धित समस्याओं का निदान आवश्यक है। वरिष्ठ नागरिकों से सम्बन्धित [अनेक मुद्दों में से] एक मुख्य मुद्दा कैपिटल गेन्स से सम्बन्धित है। उसको पूरे तथ्यों के साथ सरकार के विचारर्णाथ पेश कर रहा हूँ ताकि सरकार आने वाले बजट से पूर्व चर्चा में, इन पर कैसे राहत प्रदान की जा सकती है, उन बिन्दुओं पर विचार कर आवश्यक कदम उठा सके।

आपके ध्याननार्थ अपने देश में वरिष्ठों की बडी संख्या तो असंगठित क्षेत्र से हैं जहाँ उन्हें पेंशन का लाभ नहीं हैं इसलिये ही उन्हें यह बहुत ज्यादा पीड़ादायक लगती है। मेरे सुझाव अनुसार शेयरों पर कैपिटल गेन्स यानि LTCG वाले मामले में राजस्व में बढ़ोत्तरी होगी साथ में सही मायने में Senior Aged Small Stock Investors को उचित राहत भी मिल जायेगी। मैं अपेक्षा करता हूँ कि सरकार वरिष्ठ नागरिकों की परेशानियों को ध्यान में रख, सहानुभूतिपूर्वक विचार कर उचित कदम उठा, राहत दे देगी|

कैपिटल गेन्स से सम्बन्धित:-

जैसा आप जानते हैं गत बार प्रायोगिक तौर पर यानि 2018-19 वाले बजट में LTCG को टैक्स मुक्त से हटा कर दायरे में डाला है जो हमारे जैसे छोटे वरिष्ठ शेयरधारकों के लिये किसी भी प्रकार से उचित नहीं है। आपकी जानकारी के लिये हम लोगों ने हमेशा अपने सभी कर चुकाने के बाद वाले बचत को तीन कारणों से शेयरों में लगाया। वे कारण हैं-

१) आप सभी सरकारें कहिये या बाकी सभी (Experts) यही सन्देश देते रहे हैं कि Share निवेश का मतलब है अप्रत्यक्ष रुप से राष्ट्र निर्माण में सहयोग इसलिये गोल्ड या भूमि में निवेश का सोचा ही नहीं।

 

२) चूकिं हममें से जो भी गैरसरकारी संस्थानों में नौकरी कर बचत करते थे तो उद्देश्य यही रहता कि हमें पेन्शन तो मिलनी नहीं है अतः हमारे बुढापे के लिये शेयर निवेश सब हिसाब से लाभप्रद रहेगा साथ में पहला point (उपर उल्लेखित) भी fulfill होता रहेगा और आने वाले समय में हमें हमारी आवश्यकता की पूर्ति इस शेयर निवेश से होती रहेगी इसका विश्वास भी था।

३) सोच समझकर शेयरों मेंं किया गया निवेश जोखिम मुक्त माना जाता रहा है साथ ही साथ आसानी से कर सकने वाला भी। इसके अलावा सभी पूर्ववर्ती सरकारों नें शेयर निवेश को बढावा देने के लिये लगातार न केवल प्रोत्साहित करते रहे थे बल्कि इस बात का हमेशा ध्यान रखा कि इसमें गिरावट न हो और इसलिये ही अपने अपने तरीके से (Cost Inflation Index लागू करना) हमेशा सकारात्मक कदम को बढ़ावा देते रहे।

आज ५०/६० साल तक निवेशित रहने के बाद यानि समय समय पर अपनी अपनी कमाई अनुसार टैक्स चुकाने के बाद जो भी बचत शेयरों में लगायी, यह जानते हुये कि इन में से कुछ में बहुत हानि भी हो सकती है और जो समय समय पर परिलक्षित भी हुयी। अब बडी मुश्किल से बाकी बचे शेयरों पर जो भी लाभ मिलने की उम्मीद है वह लाभ वापस टैक्स दायरे में आया तो मन में चोट लगी है, ग्लानि भी हुयी है और साथ साथ कष्ट भी पहुँचा है।

 

इसलिये लिखना यही है कि सरकार इस पर पुनर्विचार करे। सरकार चाहे तो Free LTCG के लिये Holding period एक साल से बढ़ा कर दो साल कर दे, न हो तो तीन साल कर दे। सरकार पाँच साल भी करती है तो वो इतना कष्टदायी नहीं होगा क्योंकि हमारी सोच कभी भी न तो सट्टाबाजी की रही है, न ही मुनाफाखोरी वगैरह की बल्कि बहुत गहन अध्ययन व आपसी सलाह, चिन्तन मनन पश्चात निवेश करते आये हैं।

वित्तमन्त्री का उपरोक्त विषय पर मत/साक्षात्कार बजट प्रस्तुत पश्चात अनेक चैनलों पर प्रसारित हुआ था और उसी विषय पर रजत शर्मा जी ने India TV पर भी बजट पश्चात उनका साक्षात्कार प्रसारित किया था। सभी चैनलों पर प्रसारित तो सुना ही, साथ साथ India TV वाला भी सुना, समझा और उन सभी पर गहन चिन्तन मनन भी किया। हम उनकी यानि वित्तमन्त्री की सोच का पूरा समर्थन करते हैं इसलिये ही आग्रह है कि वे Senior Aged Stock Investors’ की चिन्ताओं का ध्यान रखते हुये इस पर इस बार बजट में इस वर्ग द्वारा सुझाये गये सुझावों पर अवश्य ध्यान देकर राहत प्रदान करें।

आपके ध्याननार्थ बता दें कि सुझाया गया सुझाव है- Free LTCG का Holding period संशोधित कर दें या Senior Aged Small Stock Investors को इस प्रस्ताव से बाहर कर दें। यदि सरकार हमारे आग्रह अनुसार Holding period संशोधित करती है तो LTCG 1095 दिन से ज्यादा निवेशित शेयरों पर ही मिलेगा यानी 1095 दिन तक वाले निवेशित शेयर STCG श्रेणी में आ जायेंगे फलतः चालू system में domestic क्षेत्र से LTCG में जो भी राजस्व Senior Aged Stock investors से मिलेगा उससे ज्यादा या तो संशोधित करने पर STCG से ही मिल जायेगा या वह इतना नगण्य होगा जिसे सुधार कर देने से विशेष नुकसान तो होगा ही नहीं बल्कि Senior Aged Small Stock Investors वर्ग की सहनुभूति मिलेगी और आर्थिक सुधार वाली ब्यवस्था भी यथावत रह पायेगी।

हमारे तथ्यों की पुष्टि कई बार अनेक टेलीविजन परिचर्चाओं में आर्थिक पत्रकारों ने भी की है जब उन्होंने अपनी गणना अनुसार कहा कि इस टैक्स से बहुत ज्यादा राजस्व की प्राप्ति नहीं होगी या यों कहिये आशानुरूप राजस्व संग्रह होना कठिन है। आशा ही नहीं बल्कि विश्वास है कि सरकार आवश्यक सुधारात्मक कदम उठा हम वरिष्ठ नागरिकों को उपरोक्त विषय में राहत दे देगी।

गोवर्धन दास बिन्नाणीजयनारायण ब्यास कालोनी, बीकानेर
7976870397 / 9829129011
gd_binani@yahoo.com

  Support Us  

OpIndia is not rich like the mainstream media. Even a small contribution by you will help us keep running. Consider making a voluntary payment.

Trending now

Latest News

Why peaceful borders with India pose a threat to Pakistan’s sovereignty

Although a religion may have some influence on the culture of the society as a whole but it can never disassociate an individual from the much broader way of life which defines culture. Indonesia is a great example of the above stated distinction.

आपको पता भी नहीं है और आपके मंदिरों को लूटने के षड़यंत्र रचे जा रहे हैं

मंदिर हमारी धार्मिक और आध्यात्मिक आस्था के केंद्र रहे हैं। सनातन धर्म की स्थापना में मंदिरों का योगदान सहस्त्राब्दियों से सर्वोच्च रहा है। ऐसे में हम कुछ दो चार पाखंडी वामपंथियों और विधर्मियों के हाथों अपने धार्मिक केंद्रों का नाश नहीं होने देंगे। हमें विरोध करना होगा।

Kaun jaat ho and Christian missionaries

Ugly face of Christianity, the most hypocratic religion of the world!

Delhi’s government evil xenophobic intention behind sealing off its borders also exposes the indirect link with migrants crisis

What about the hospitals under central government? Delhi has a few of the best central government hospitals only because Delhi is the capital of India

US – China cold war – How did it come to this

Inception of 'Chimerica' - An unnatural Communist - Capitalist partnership which lasted for more than 4 decades and why did it break.

Justice Sanjay Kishan Kaul was right to call out rising intolerance

The libertarians need to know free speech is not licence for hate speech. Our fundamental rights are not akin to First Amendment Rights, as in the US. There are reasonable restrictions and they have a purpose.

Recently Popular

रचनाधर्मियों को गर्भस्थ बेटी का उत्तर

जो तुम्हें अग्नि परीक्षा देती असहाय सीता दिखती है, वो मुझे प्रबल आत्मविश्वास की धनी वो योद्धा दिखाई देती है जिसने रावण के आत्मविश्वास को छलनी कर इस धरा को रावण से मुक्त कराया.

The one difference between the Congress of today and that of before 2014

For the sake of the future generations, for the sake of our children, please read more books about how Congress had been ruling the country and be aware of the dangers.

Justice Sanjay Kishan Kaul was right to call out rising intolerance

The libertarians need to know free speech is not licence for hate speech. Our fundamental rights are not akin to First Amendment Rights, as in the US. There are reasonable restrictions and they have a purpose.

Entry of ‘Scientific corruption’ in Tamil Nadu politics and how to save the state

MGR and then Amma placed the politics of dynasty and family rule in Tamil Nadu to the corner but the demise of Amma has shattered the state and is pegging for a great leader to lead.

श्रमिकों का पलायन: अवधारणा

अंत में जब कोविड 19 के दौर में श्रमिक संकट ने कुछ दबी वास्तविकताओं से दो चार किया है. तो क्यों ना इस संकट को अवसर में बदल दिया जाए.