Thursday, September 29, 2022

TOPIC

Pseudo Secularism

Gyanvapi, Constitution and Supreme Court

Constitution is not an unchangeable Asmani Kitab. It can be modified through amendments as per the situation and requirement.

Unmasking pseudo secularism in India

Hindutva is by its very nature is secular and therefore it can never be communal. Hindus are born secular.

A non-believer’s conversation with god

I am the most merciful but if you don't believe in me, I can kill you, under my merci!

धर्मनिरपेक्षता की लक्ष्मण रेखा

धर्मनिरपेक्षता और तुष्टीकरण पर्यायार्थी शब्द नही है।

The political ‘Vanvas’ of Hindutva is finally over: The Hindu politics has finally risen and is here to stay

For decades starting from Nehru to Manmohan Singh, Congress has always been hesitant to embrace, accept and acknowledge the 'Sanatan heritage' of India. For the first time in history, the Hindu vote bank is making its presence felt.The political vanvas of Hindus is finally over.

What is the “Idea of India”?

The bursting of firecrackers by Indian Muslims following a win of Pakistan over India in a cricket match indicates their connection of umbilical cord with Pakistan. What ‘Idea of India’ the liberal intellectuals find in such behavior of Indian Muslims?

उन्होंने इतिहास से कुछ नहीं सिखा, जो भाइचारे की बात करते हैं

हमारे शस्त्रों में ये स्पष्ट रूप से कहा गया है कि "धर्मो रक्षति रक्षितः" अर्थात तुम धर्म की रक्षा करो, धर्म तुम्हारी रक्षा करेगा। इसे इस प्रकार भी परिभाषित किया जा सकता है कि "धर्म की रक्षा करो, तुम स्वतः रक्षित हो जाओगे।

भारत एक सनातन राष्ट्र

धर्मनिरपेक्षता भारत का कोढ़ है तथा यह देश के उत्थान में एक कंटक है। इसे सनातन राष्ट्र घोषित करना आवश्यक है तथा इसमें विलम्व अत्यंत घातक हो सकता है। सत्य तो यह है कि यह एक नीति राष्ट्र के अनेकों समस्याओं का निराकरण स्वतः ही कर देगी।

सनातन की रक्षा का अंतिम धर्मयुद्ध प्रारम्भ

हमारे पुरखों ने भी समय समय पर कभी राणा प्रताप बन कर तो कभी शिवाजी और गुरुगोबिंद सिंह बन कर धर्म और देश की रक्षा के लिये अपने प्राण तक लुटा दिये। और अब हमारी बारी है धर्म और देश की रक्षा करने की।

कोरोना वैक्सीन और सेकुलर मित्र

इस्लाम नहीं मानता कि पृथ्वी गोल है और सूर्य के चक्कर काटती है। किसी ने क्या कर लिया उनका, और क्या बिगड़ गया उनका ऐसा मानने से? पाकिस्तान में दोनों तरह की साइन्स पढ़ाई जाती है: पृथ्वी के गोल और सूर्य के चारो ओर घूमने वाली भी, और उसके चपटी और स्थिर होने वाली भी, जिसको जो मानना हो, माने। यह होता है असली लोकतन्त्र!

Latest News

Recently Popular