Sunday, April 21, 2024

TOPIC

Mocking Hinduism

राजनीति और धार्मिक भावनाओं के आपसी संबंध: कोई भी राजनीति भगवान को लेकर क्यों की जाती है

"कोई भी राजनीति भगवान को लेकर क्यों की जाती है" यह विषय भी इसी सिलसिले में सम्मिलित है। इस लेख में, हम इस रहस्यमयी सवाल के पीछे के कारण और धार्मिक भावनाओं के प्रभाव को गहराई से समझने का प्रयास करेंगे।

Clearing misconceptions: A light of truth on ISKCON monk Amogh Lila Das’s “false and derogatory remarks” on Swami Vivekananda

Recently, a controversy started with ISKCON monk's remarks on Swami Vivekananda, a great yogi of Bharat Mata.

विधर्मीयो का षड्यंत्र: बागेश्वर धाम के संत श्री धीरेन्द्र शास्त्री जी

आजकल एक २७ वर्षीय सनातनी संत कि खूब चर्चा प्रिंट मिडिया और इलेक्ट्रानिक मिडिया में हो रही है। "अन्ध विश्वास निर्मूलन समिति" के नाम पर सनातन समाज से वैमनस्य रखने वाले भाड़े के टट्टूओ को मोहरा बना कर विधर्मी समूहो ने उन्हें किसी ना किसी प्रकार अपने षड्यंत्र का शिकार बनाने की कार्ययोजना पर अमल करना भी शुरू कर दिया है।

हिन्दुओ के देवी देवताओ के अपमान पर सजा क्यों नहीं?

लोग जब हिन्दुओ के देवी देवताओ के ऊपर अश्लील टिप्पणियाँ करते हैं, या उन्हें अपने चलचित्रो (फिल्मो) अत्यंत ही आपत्तिजनक ढंग से प्रदर्शित करते हैं, तो तुरंत इसे "वाक अभिव्यक्ति के अधिकार" की आड़ में सही ठहराने की कोशिश करने लगते हैं।

Relations of production: Role of fundamental texts, polity, and economy in ancient India

This article deals with the origin of Indian society from sacred text and its evolution by political and economic dynamics.

तनिष्क, मान्यवर या आलिया भट्ट को दोष क्यों दें- अपनी संस्कृति से अनभिज्ञ होने के लिए खुद को दोष दें

मान्यवर में बेशर्म लोग सांस्कृतिक पोशाक बेच रहे हैं लेकिन भारतीय संस्कृति को शर्मसार कर रहे हैं। लेकिन उन्हें दोष क्यों दें? यह हम हैं - जिन्हें दोषी ठहराया जाना है। हम जिन्हें शिक्षा के वेश में वर्षों से कम्युनिस्टों द्वारा झूठ खिलाया गया है। हम ही अपनी संस्कृति को नहीं समझ पाते हैं।

Reality of migration of Hindus to India

What made Mortimer Wheeler, Max Mueller and Thomas Macualey to write against this great nation, its ethos and faith with fake narratives?

Religion vs entertainment

the answer is that the role of religion in any entertainment show should prevail as long as it doesn’t hurt religious sentiments of any of the community.

धार्मिक भावनाएं और अभिव्यक्ति की आज़ादी

पेंटर हुसैन हो या ताजातरीन केस ऑफ़ मुनव्वर फारुकी, ये सेलेक्टिवली सेक्युलर लोग हिन्दू देवी देवताओं का अपमान करने में खुद को कूल डूड समझ पैसा कमाते हैं।

हिंदूफोबीया ग्रस्त बॉलीवुड और वेब सीरीस

आजकल भारतीय फ़िल्मों में हिंदू देवी देवताओं का, हिंदू धर्मगुरुओं का उपहास बहुत ही सहजता से आ जाता है। कई सिरीज़ में हिंदू बाबा विलेन के किरदार में भी दिखाई देते हैं। कुछ सिरीज़ में ऐसा भी दिखता है कि बॅकग्राउंड में मंत्र बज रहे हैं और कोई हिंदू पंडित हत्या करने जा रहा है या किसी को हत्या का आदेश दे रहा है।

Latest News

Recently Popular