Thursday, January 28, 2021

TOPIC

Liberals' Sympathy with terrorists

“नायकू कहो या मैथ टीचर” मगर अपराध की दो परिभाषाएं नहीं होतीं

क्रिमिनल्स का victimisation एक गम्भीर समस्या है। और ये सब सिर्फ वर्तमान के विवाद की समस्याएं नहीं हैं, ये राष्ट्र के भविष्य के चरित्र निर्माण की समस्याएं हैं। ये प्रश्न करती हैं कि आप अपनी अगले पीढ़ी को कैसे नायक देना चाहते हैं।

दलाल धूर्त मीडिया और नासमझ लोग!

रियाज़ टेलर का बेटा था। टेलर का बेटा तो हमारे भी गांव में है। लेकिन वह तो आतंकी नहीं बना। उसकी भूख ने तो उसे हथियार उठाने के लिए मजबूर नहीं किया। वह क्यों पढ़लिखकर आईएएस बना।

मैं और तथाकथित सेकुलरिज्म

मोदी हेटिंग में इतने अंधे हो चुके हैं की ना अपना भला दिख रहा है ना देश का. और अगर ये इनका सेकुलरिज्म है, तो ये सेक्युलरसिम इन्हे मुबारक.

The saga of Terrorism, world politics and ‘left-liberal’ ecosystem

Kamal Hassan's recent statement on Nathuram Godse being the first terrorist of Independent India who was a Hindu, is a reflection of the mindset that prevailed till a few years back.

Modi caged Masood Azhar, soon the corrupt dynasts and Naamdars would secure prison

The UN declaration of Massod Azhar as an international terrorist is a great victory not only for India but also for Narendra Modi.

Luteyns media reaction to cricket team gesture to Pulwama victims

Where the EPL has started Remembrance Day where they honor all soldiers who fought, even much unpopular Iraq war. And here we honor Pulwama victims then they make it a joke. The mainstream journalist of this country are becoming out of touch with reality.

Did #PulwamaAttack sound a death knell for UPA and its sympathizers?

Congress and its UPA allies have just sounded the death knell for themselves ahead of the polls by trying to make a mockery of the Nation’s safety and its army.

The Kashmir obsession and nuclear bogey: An open letter to Arundhati Roy

It seems Ms. Roy is hell bent upon reminding the world that how India should not act against terrorism and accept its fate as the perpetrators have nuclear arms.

Flattering tricks of Pakistan

Even Islamic nation like Afghanistan is opposing Pakistan. But our liberals and liberal media turn blind eye to any Pakistani fault.

Latest News

Interesting “Tandav” challenges the conventional entertainment in India

Tandav actually challenges the way conventional entertainment has been in India not only for years but for decades now. It's a good story if a right wing student leader is corrupt and greedy but it is not a good story if the left leaning student leader does the same thing.

११वां राष्ट्रीय मतदाता दिवस आज, अब ई-मतदाता पहचान पत्र कर सकेंगे डाऊनलोड

आज राष्ट्र ग्यारहवाँ राष्ट्रीय मतदाता दिवस मना रहा है, यह दिवस वर्ष १९५० में आज ही के दिन, चुनाव आयोग की स्थापना के उपलक्ष्य में वर्ष २०११ से मनाया जा रहा है।

The bar of being at “The Bar”

The present structure of the Indian judicial system is a continuation of what was left to us by the colonial rulers.

Partition of India and Netaji

Had all Indians taken arms against British and supported Azad Hind Fauz of Netaji from within India in 1942 instead of allowing the Congress to launch non-violent ‘Quite India Movement’ of Gandhi, the history of sub-continent would have been different.

नेताजी सुभाष चन्द्र बोस जयंती विशेष: हर भारतीयों के लिए पराक्रम के प्रतीक

भारत माता के सपूत के स्वतंत्रता सेनानी नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती को केंद्र सरकार ने हर साल पराक्रम दिवस के रूप में मनाने का फैसला किया है।

Recently Popular

गुप्त काल को स्वर्ण युग क्यों कहा जाता है

एक सफल शासन की नींव समुद्रगप्त ने अपने शासनकाल में ही रख दी थी इसीलिए गुप्त सम्राटों का शासन अत्यधिक सफल रहा। साम्राज्य की दृढ़ता शांति और नागरिकों की उन्नति इसके प्रमाण थे।

Daredevil of Indian Army: Para SF Major Mohit Sharma’s who became Iftikaar Bhatt to kill terrorists

Such brave souls of Bharat Mata who knows every minute of their life may become the last minute.

The reality of Akbar that our history textbooks don’t teach!

Akbar had over 5,000 wives in his harems, and was regularly asked by his Sunni court officials to limit the number of his wives to 4, due to it being prescribed by the Quran. Miffed with the regular criticism of him violating the Quran, he founded the religion Din-e-illahi

सामाजिक भेदभाव: कारण और निवारण

भारत में व्याप्त सामाजिक असामानता केवल एक वर्ग विशेष के साथ जिसे कि दलित कहा जाता है के साथ ही व्यापक रूप से प्रभावी है परंतु आर्थिक असमानता को केवल दलितों में ही व्याप्त नहीं माना जा सकता।

वर्ण व्यवस्था और जाति व्यवस्था के मध्य अंतर और हमारे इतिहास के साथ किया गया खिलवाड़

वास्तव में सनातन में जिस वर्ण व्यवस्था की परिकल्पना की गई उसी वर्ण व्यवस्था को छिन्न भिन्न करके समाज में जाति व्यवस्था को स्थापित कर दिया गया। समस्या यह है कि आज वर्ण और जाति को एक समान माना जाता है जिससे समस्या लगातार बढ़ती जा रही है।