Thursday, April 22, 2021
6 Articles by

Abhimanyu Rathore

Non IIT Engineer. Oil and Gas .

साधु, सुशांत और सीबीई

भारत की जनता ने भी सोशल मीडिया के ज़रिए सीबीई की जाँच की माँग की और हमारे देखते देखते आज न्यायालय ने जाँच का फैसला सुना दिया, उसी भारत की जनता ने पालघर में हुए साधुओ की हत्या के मामले में ऐसा ज़ोर क्यों नहीं दिखाया?

साँस का खेल

मायूसी की मृगतृष्णा पर इतनी हताशा ठीक नहीं। छीन लो तुम अपनी ही साँसे ये तो इस जीवन की रीत नहीं।।

धुर्वीकरण की राजनीति से भारत का हितोपदेश

2014 के बाद देश कई तथाकथित राष्ट्र्वादी पत्रकार मैदान में उतरे हो जिसे उस बहुसंख्यक समाज ने ये मौका दिया जो तथाकथित महा उदारवादी पत्रकारों की न्यूज के व्यूज को गलत मान कर भी थाली में सरकाई रोटी खा रहा था।

आत्मनिर्भरता का मैला आईना और वर्तमान जीवनशैली

कभी सोचा आपने हमारी आने वाली पीढ़ी का क्या होगा? हमारे ये नन्हे बच्चे जो नाश्ते के नाम पर मैगी, पोये, मैदे की रोटी, पिज्जा, बर्गर, एसी, मोबाइल और उससे ही ऑन लाईन स्टडी और मनोरंजन और इस सब बकवास का ऑनलाइन पेमेंट भी..

पंथ, समाज शास्त्र और अर्थशास्त्र

भारत वो देश है जहाँ सनातन संस्कृति में कई पंथों ने जन्म लिया और लोग अपनी स्व: इच्छा से इनसे जुड़ते गए। क्योंकि सनातन ने ये आज़ादी सभी को हमेशा दी की आप अपने पंथ को व्यक्तिगत तरीके से चुने।

वैश्विक महामारी, मजदूर और मानसिकता

केंद्र और राज्य प्रशासन हर हाल में लोगो की मदद में लगा है। जरूरत के समान से लेकर कई सुविधा सामग्री तक हर चीज़ के लिए प्रशासन ने यथा सम्भव व्यवस्था की। फिर भी मीडीया का एक ही अजेंडा है, कैसे सरकार को पेलें और लोगों में डर का माहौल बनाए

Latest News

Recently Popular