Monday, March 1, 2021

TOPIC

Liberals against Ram Mandir

Ram Mandir, Bhoomi Poojan, secularism and the darkest day; all explained here

August 5 will remain the darkest day for a few months until the government does something new say announce NRC or something related to Uniform Civil Code or anything other from its manifesto for that matter.

मोदी को न राम से बड़ा बताया है और न ही जय श्रीराम का उदघोष साम्प्रदायिक है

हिन्दू धर्म में तुलसीदास और सूरदास जैसे कई कवियों ने भगवान कृष्ण और राम के लिये वात्सल्य भाव का प्रयोग किया है। आज भी वैष्णव सम्प्रदाय में भगवान की वात्सल्य भाव से पूजा की जाती है तथा उन्हें परिवार के एक बालक की तरह ही देखा जाता है।

The cine hypocrisy

Youth tends to lean left slowly, and start hating such things without understanding a word. When these people say that they don’t want to involve in politics, they are actually doing it by directing youth to hate politics.

Construction of the Bhavya-Ram Mandir: A Paradigm shift in Indian secularism

In a world which has already plunged into such an abysmal condition, remembering and celebrating Ram becomes the only cure. Because nothing in his life went according to his plan and he always found himself in situations which were nothing short of a nightmare.

उदारवादी या हिन्दू विरोधी?

लिबरल शब्द से तो ऐसा लगता है कि ये उदारवादी प्रवृत्ति के होंगे पर ऐसा नहीं है। ये अव्वल दर्जे के पाखंडी हैं जिनका एक मात्र काम है हिन्दू धर्म के खिलाफ टिप्पणी या कार्य करना। ये हर वो चीज़ का उपहास करेंगे जो हिंदुओं की भावनाओं से जुड़ी हुई हैं।

Rise of a new era

Modern generations will never know how much it cost to our ancestors, Karsevaks and the ones who have struggled for this since decades.

राम ही दर्शन हैं

अयोध्या में मंदिर निर्माण के पक्ष में आये सुप्रीम फैसले ने पश्चिमी शिक्षा से अलंकृत भारतीय लोगों की कलई खोल दी है।

Insecurity of the opposition – Ram Mandir

Mr. Sharad Pawar objection to Prime-minister's visit of Ayodhya to shilanyas for construction of Mandir is the clear manifestation of loosing the battle to grab political power for at least another twenty years.

वामपंथ: “अ” से लेकर “ज्ञ” तक

चूंकि वामपंथी अराजकता का समर्थन करते हैं और उनका मानना है कि वर्तमान में जो तंत्र, जो व्यवस्था देश में है वह भ्रष्टाचार से लिप्त है और इसे उखाड़ कर फेंक देना चाहिए और नये सिरे से साम्यवादी सिध्दांतों के साथ नया तंत्र बनाना चाहिए।

Ram Janmabhoomi- A political and legal history

From 1885, Ramlala was denied his literal BIRTH RIGHT (place)!

Latest News

Recently Popular