Tuesday, October 20, 2020

TOPIC

India's Freedom Struggle

कांग्रेस ने दिलाई भारत को आजादी: गर्व या शर्म

क्या हमने कभी सोंचा है कि कैसा होता अगर भारत को सुभाष चंद्र बॉस जी की आजाद हिन्द फौज ने आज़ादी दिलाई होती, या फिर 1857 की क्रान्ति का अंत देश की आजादी के साथ होता। मेरे विचार से तो तब शायद हमे देश की आज़ादी पर खुशी के साथ-साथ गर्व भी महसूस होता।

The reality of the Veer Savarkar’s mercy petition to the British government; was it really voluntary or out of compulsion?

Nehru never faced the same cruelty which Savarkar faced. Being born with a silver spoon in his mouth, he had family connections with the British authorities, and was friends with them; this spared him from most forms of cruelty.

Flawed democracy & why Pakistan is not Bharat’s biggest enemy

Our democracy is partially blind and has no way to distinguish between nationalism and rent seeking behaviour and this is where the society must step in to fill the gaps. We need to list out those who use our nation’s democracy and Constitution to further their personal agendas and remove them from electoral process to begin with.

Subash Chandra Bose: The Tipping Point of Independence Struggle

Read here the inspiring words of Netaji.

Here are some lesser known facts about Savarkar on this independence day

Savarkar is one of those few people who are revered and demonised in our history.

Veer Savarkar opposed this malice appeasement politics of Congress and not Quit India Movement

Savarkar opposed a clause of Freedom Movement, wanting to transfer the powers to Muslim League to rule India after Britishers.

Another forgotten hero – Veer Chandra Singh Garhwali

A brave soul, Veer Chandra Singh Garhwali averted an another Jallianwala Bagh named “Peshawar Kand".

आजादी आपनी सोच में लायें

जिस दिन हम भारत को उसकी खोई हुई अखंडता लौटा देंगे उस दिन हमारी ओर से हमारे वीरों को सच्चे श्रद्धांजलि अर्पित होगी।

Latest News

शांत कश्मीर और चिदंबरम का 370 वाला तीर

डॉ. मनमोहन सिंह की सरकार के सबसे शक्तिशाली मंत्रियो में से एक चिदंबरम आज वही भाषा बोल रहे है जो पाकिस्तान संयुक्त राष्ट्र तथा अन्य अंतर्राष्ट्रीय मंचो पर बोलता आया है। चिदंबरम यही नहीं रुके उन्होंने अलगाववादियों को भी महत्व देने की बात कही है।

मिले न मिले हम- स्टारिंग चिराग पासवान

आज के परिपेक्ष्य में बिहार का चुनाव कई मायनो में अलग है। मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री पारम्परिक राजनीती वाली रणनीति का अनुसरण कर रहे है तो वही युवा चिराग और तेजस्वी विरासती जनाधार को नए भविष्य का सपना दिखने का प्रयास कर रहे है।

How BJP can win seats in Tamil Nadu and Kerala

It is time for BJP to eye on Tamil Nadu and Kerala. In Lok Sabha election 2024 BJP will win ±15 seats in TN and ±3 seats in Kerala.

Brace for ad Jihad

Delusionary fairy tale

Why this hullabaloo about shifting Bollywood?

Let the new film city emerge as the genuine centre for producing high quality films that are genuinely Indian and be helpful in building a strong value-based society.

Recently Popular

Jallikattu – the popular sentiment & ‘The Kiss of Judas Bull’ incident

A contrarian view on the issue being hotly debated.

सामाजिक भेदभाव: कारण और निवारण

भारत में व्याप्त सामाजिक असामानता केवल एक वर्ग विशेष के साथ जिसे कि दलित कहा जाता है के साथ ही व्यापक रूप से प्रभावी है परंतु आर्थिक असमानता को केवल दलितों में ही व्याप्त नहीं माना जा सकता।

How I was saved from Love Jihad

A personal experience of a liberal urban woman and her close brush with Islam.

Twitter wrongfully reports Jammu & Kashmir’s location again

In February of this year Twitter was accused of getting Jammu & Kashmir’s location wrong.

हिंदू धर्म की भावनाओं को ठेस पहुंचाना कहां तक उचित है??

विज्ञापन में दिखाए गए पात्रों के धर्म एक दूसरे से बदल दिए जाएं तो क्या देश में अभी शांति रहती। क्या तनिष्क के शोरूम सुरक्षित रहते। क्या लिबरल तब भी अभिभ्यक्ती की स्वतन्त्रता की बात करते।