Sunday, December 4, 2022

TOPIC

India's Freedom Struggle

और जिम्मेदार लोग इतिहास कि इस समीक्षा से आसानी से बच के निकल गए।

हमें सुखदेव और राजगुरु को भी नहीं भूलना चाहिए जिन्होंने भगत सिंह के साथ ही हंसते हुए फांसी के फंदे को गले लगाया था कि मातृभूमि का उद्धार हो सके। पर इन्हें क्या मालूम था आने वाले समय में भारत के टुकड़े हो जाएंगे।

कांग्रेस का गठन एक षड्यंत्र

आरंभिक दिनो मे इस पार्टी का उद्देश्य ब्रिटेन से भारत की आजादी की लड़ाई लड़ना नहीं था। कांग्रेस का गठन देश के प्रबुद्ध लोगों को एक मंच पर साथ लाने के उद्देश्य से किया गया था ताकि देश के लोगों के लिए नीतियों के निर्माण में मदद मिल सके। क्रांतिकारीयों के गतिविधियों का पता लगाया जा सके और उनके आंदोलन को कूचला जा सके।

पूर्ण स्वराज दिवस की जयन्ती- गणतन्त्र दिवस

26 जनवरी वाला दिन हमें हमारे संविधान का महत्व तो समझाता ही है साथ ही साथ यह पर्व न केवल हमें पूर्ण स्वतंत्रता की अनुभूति कराता है बल्कि हमारे अंदर आत्मगौरव भी भरता है।

The legacy of Subhash Chandra Bose

Amongst all freedom fighters, “Netaji Subhash Chandra Bose” played key role and his substantial contribution brought freedom to our country.

Revisiting India’s constitution and the history of partition

British and some Indians never gave a real credit to true freedom fighters, who suffered exiles, torture at Andaman Island or outright murders. Similar experiences were cited in other countries seeking independence like Ireland, Kenya, and other colonies.

A fact-check on vile allegations against Savarkar: Are they true?

In this article, I'm going to examine certain portions of Savarkar's book, 'Six Glorious Epochs of Indian History', which allegedly have contents endorsing rape of Muslim women as a political tool. How true are these claims? Did Savarkar really say something erroneous? It can be understood only after examining the text.

Godse is loved by many Indians, here is why

if Godse was a terrorist, so were Khudiram Basu, Binoy Basu, Surya Sen, Bhagat Singh and Chandra Shekhar Azad et al. While the later violently fought against British colonialism, the former killed the perpetrator of self-loathing, apologist, timid and passive Hindu Indian psyche.

भारत के निर्माण में संघ का योगदान

गांधी जी ने ए.ओ. द्वारा गठित भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस को समाप्त करने की बात भी कही थी। स्वतंत्रता संग्राम में किसी व्यक्ति विशेष या पार्टी का कोई योगदान नहीं है, आजादी की लड़ाई में सभी का रक्त शामिल है।

The revolutionary ‘Bhagat Singh’

His life has become an inspiration for rest of the youth, and his sacrifice became the lamp of freedom.

Partition of India and Netaji

Had all Indians taken arms against British and supported Azad Hind Fauz of Netaji from within India in 1942 instead of allowing the Congress to launch non-violent ‘Quite India Movement’ of Gandhi, the history of sub-continent would have been different.

Latest News

Recently Popular