Tuesday, April 23, 2024

TOPIC

Freedom of Expression

Biden administration attempts to suffocate freedom of press in Bangladesh

On May 24, 2023, US Secretary of State Antony Blinken announced a “visa policy” on Bangladesh, which came into enforcement on September 22, 2023. US...

Savitri Bai Phule and the value of freedom of speech

Savitri Bai Phule's legacy deserves to be celebrated for the positive impact she made, rather than being clouded by baseless speculations.

The significance of liberty: Why it matters to society?

The significance of liberty cannot be overstated. It is critical to the protection of individual rights, the functioning of a democratic society, economic prosperity, diversity, and tolerance.

The hypocrisy of the West

Rahul Gandhi has been given every right to protest and go to the honorable courts of our country.  Maybe the states need to look into their own affairs!

गांधी तुम भी जिंदा थे..

ते मजहब की और धर्म की करते निंदा थे। जब टुकड़े हुए थे भारत के तब गांधी तुम भी जिंदा थे।

वसीम रिजवी पर क्यों हुआ है मुकदमा? क्या है जो उनकी अभिव्यक्ति की आज़ादी से उपर रखा गया है

वसीम रिजवी ने जिन कुरान के 26 आयतों पर मुकदमा किया है उसको लेकर सियासी मामला हुआ तेज़ जानिए क्या लिखा हुआ है इन कुरान की इन आयतों में

क्या होता है राजद्रोह? क्या कहता है सर्वोच्च न्यायलय?: 124A (IPC)

९ फरवरी २०१६ को एक आतंकवादी की मौत पर मातम मानते हुए जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में " भारत तेरे टुकड़े होंगे ", "भारत की बर्बादी" "पाकिस्तान जिंदाबाद" के जो नारे लगाए जा रहे थे वो "राजद्रोह" की श्रेणी में आते हैं या नहीं?

हिंदू धर्म की भावनाओं को ठेस पहुंचाना कहां तक उचित है??

विज्ञापन में दिखाए गए पात्रों के धर्म एक दूसरे से बदल दिए जाएं तो क्या देश में अभी शांति रहती। क्या तनिष्क के शोरूम सुरक्षित रहते। क्या लिबरल तब भी अभिभ्यक्ती की स्वतन्त्रता की बात करते।

The ossification of free speech in India

The advent of social media has ensured the prevalence of popular thought. The contention of some to the effect that it has challenged the elitism of the media having been granted, it has also ostensibly ensured an angrier populace.

To read or not to read, that is the question

An open letter to Bloomsbury by an avid reader and a fan of the publication.

Latest News

Recently Popular