Tuesday, November 24, 2020

TOPIC

Freedom of Expression

हिंदू धर्म की भावनाओं को ठेस पहुंचाना कहां तक उचित है??

विज्ञापन में दिखाए गए पात्रों के धर्म एक दूसरे से बदल दिए जाएं तो क्या देश में अभी शांति रहती। क्या तनिष्क के शोरूम सुरक्षित रहते। क्या लिबरल तब भी अभिभ्यक्ती की स्वतन्त्रता की बात करते।

The ossification of free speech in India

The advent of social media has ensured the prevalence of popular thought. The contention of some to the effect that it has challenged the elitism of the media having been granted, it has also ostensibly ensured an angrier populace.

To read or not to read, that is the question

An open letter to Bloomsbury by an avid reader and a fan of the publication.

अभिव्यक्ति

जब-जब काम कुछ खास लोगों के मन मुताबिक नहीं हुआ इन लोगों ने संस्थानों को हीं कटघरे में खङा कर दिया। मीडिया भी इस चीज से अछूता नहीं रहा है। मीडिया में भी एक वर्ग ने खुद को इमानदार और बाकी को नए नए(गोदी मीडिया)शब्दों का प्रयोग कर के उनकी पत्रकारीता पर हीं सवाल करते हैं।

Law against fake news is need of the hour: Media can’t hide anymore behind the freedom of speech

Article 19.1.a b which deals with freedom of speech and expression is universally applicable to all the citizens, including journalists. There is no special provision under the constitution for freedom of speech to the media.

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की आड़ में चलता हिन्दू धर्म का अपमान

जिस हिन्दू धर्म ने इस राष्ट्र को एक धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र बनाया, सर्वधर्म समावृत्ति की शिक्षा दी उसी धर्म के सम्मान की अव्हेलना कर देना इस देश में कहाँ तक उचित है? क्या समीक्षा एवं अपमान के बीच कोई विभाजन की रेखा नहीं बची अथवा कोई रेखा खींचना नहीं चाहता।

Right to Dissent- Repercussion with free speech

Sedition is big word, and to prove it is rather bigger and mightier task but we cannot pollute the essence of our constitution in name of free speech.

The jargon of free speech

Raising voice and making oneself heard is the right of every citizen, but adopting violence is not. The generation needs to understand the evil motive of the political parties and the repercussions they can face when they violate laws.

New normal

We as a society have tried to maintain false agenda just in order to maintain the sensitivity of communities which at one glance looks to be a great approach.

Jinxed freedom of press and the government of West Bengal

Right to freedom of expression has definitely been jinxed in Bengal, be it for a common man or a media person. Day by day the situation is getting worse and you can't do anything about it but to mourn in silence while tweets like this keep mocking you.

Latest News

अस्थिर और बौखलाए पाकिस्तान का विधुर विलाप

बीते सप्ताह पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी एवं आईएसपीआर के डायरेक्टर जनरल बाबर इफ्तिखार ने एक प्रेस वार्ता के दौरान भारत पर तंज कसते हुए यह आरोप लगाया के भारत, पाकिस्तान को अस्थिर करने की मंशा रखने के क्षेत्र में कार्य कर रहा है। यह वैसा ही है जैसा फिल्म वेलकम में उदय भाई का कहना कि मजनूं उनकी एक्टिंग स्किल्स से जलता है।

प्लास्टिक एक घातक हथियार

क्या आपने कभी प्लास्टिक प्रदूषण के नकारात्मक प्रभावों के बारे में सोचा है कि हम अपने स्वास्थ्य और पर्यावरण पर दिन-प्रतिदिन बढ़ रहे हैं?

A deliberate attempt of Varanasi

A city beyond imagination, a city where India starts and ends. A city of magical moments and experience of life.

The second childhood

Statistics show that old age homes in India are increasing rapidly. According to 2020 study, over 39 thousand senior citizens in India received institutional assistance.

Why has “Dangal” become the highest grossing Hindi film?

Dangal won many awards such as Filmfare Awards, Mirchi Music Awards, News 18 Movies Awards, Zee Cine Awards, National Film Awards, Star Screen Awards, and many more.

Recently Popular

Republic’s democracy gets vanquished in inequity

Article encapsulates how scrupulous journalists are badgered and hounded if Doxology's are not sung in favour of political hegemony's.

गुप्त काल को स्वर्ण युग क्यों कहा जाता है

एक सफल शासन की नींव समुद्रगप्त ने अपने शासनकाल में ही रख दी थी इसीलिए गुप्त सम्राटों का शासन अत्यधिक सफल रहा। साम्राज्य की दृढ़ता शांति और नागरिकों की उन्नति इसके प्रमाण थे।

सामाजिक भेदभाव: कारण और निवारण

भारत में व्याप्त सामाजिक असामानता केवल एक वर्ग विशेष के साथ जिसे कि दलित कहा जाता है के साथ ही व्यापक रूप से प्रभावी है परंतु आर्थिक असमानता को केवल दलितों में ही व्याप्त नहीं माना जा सकता।

The story of Lord Jagannath and Krishna’s heart

But do we really know the significance of this temple and the story behind the incomplete idols of Lord Jagannath, Lord Balabhadra and Maa Shubhadra?

Daredevil of Indian Army: Para SF Major Mohit Sharma’s who became Iftikaar Bhatt to kill terrorists

Such brave souls of Bharat Mata who knows every minute of their life may become the last minute.