Tuesday, October 20, 2020

TOPIC

Congress Chamcha

आपातकाल की कलमुंही बातें…

आपने इतिहास की किताबों में लार्ड लिटन के तुगलकी फरमान वर्नाक्यूलर प्रेस एक्ट के बारे में सुना होगा. उस एक्ट के बाद पहली बार ऐसा अकस्मात आदेश आया जब अखबारों को कुछ भी छापने से पहले अनुमति लेनी थी. कई अखबारों ने इस शक्ति के सम्मुख घुटने टेकने बेहतर, बंद होना सही समझा.

Congress campaign split up in it’s own

Sonia Gandhi announces the party will pay for the train tickets of the labourers and Rahul Gandhi doesn’t even tweet about it.

माता सीता के साथ कांग्रेसी माता सोनिया की तुलना: जायज या नाजायज?

सोनिया माँ इटली की थी। कलियुग में राक्षस इनके चरित्र पर सवाल कर रहे हैं। अपशब्द कह रहे हैं। और क्याप्सन में लिखा गया है "अभी भी देश में राक्षस जैसी सोच ज़िंदा है, सीता माँ हम शर्मिंदा है"।

हे कांग्रेस समर्थकों! अब भी समय है जागो और राष्ट्र के हित में विचार करो।

भाजपा, कांग्रेस, आप और बसपा ये सब बाद में हैं पहले ये सनातन हिन्दू धर्म है, इस भारतवर्ष का अस्तित्व है। इनकी रक्षा करने वाले का साथ दीजिए, इनके विकास की बात करने वाले का साथ दीजिए। जो पार्टी आज तक अपना अध्यक्ष नहीं बदल सकी वह भारतवर्ष के भाग्य को क्या बदल पाएगी और यह भी संभव है कि आने वाले समय में कांग्रेस का अस्तित्व ही न रहे।

Only wish of Sonia Gandhi

Instead of patriotism and nationalism, the party men largely express and exhibit Sonia-ism and dynasty-ism and that is why the party is degenerating day by day. 

Shastra Pooja by our defence minister for Rafale versus Pariwar Pooja by sycophants of Congress

The big question before Indians is that should we need such congress party in India that mocks, giggle and snigger at Hinduism by allowing some of its leaders to criticize Shastra pooja to Rafale?

Full text of Rahul Gandhi’s original resignation letter

"As THE President of the Corruption Party, I am not responsible for the loss of 2019 election. Corruption is necessary for running the party (Modi has stooped all those ways). This is the reason I have resigned as the president of Corruption Party."

Have Gandhis- the Atma (soul) of the Congress?

The ridiculous thing is, all Congress leaders want the Gandhi Parivar to remain active in Politics. They want a titular head as the Congress president who is again a façade for people to see.

The Sanjay Jha column- Introspection indicates Rahul Gandhi has come of age

Satire: Congress Spokesperson Sanjay Jha elaborates on the results of his introspection as to why the Congress Party lost the 2019 Lok Sabha Elections

SOS calls and the great Indian tragedy

Indian social media is highly affected by politics and has become a tool spread SOS (Selective Outrage Syndrome).

Latest News

शांत कश्मीर और चिदंबरम का 370 वाला तीर

डॉ. मनमोहन सिंह की सरकार के सबसे शक्तिशाली मंत्रियो में से एक चिदंबरम आज वही भाषा बोल रहे है जो पाकिस्तान संयुक्त राष्ट्र तथा अन्य अंतर्राष्ट्रीय मंचो पर बोलता आया है। चिदंबरम यही नहीं रुके उन्होंने अलगाववादियों को भी महत्व देने की बात कही है।

मिले न मिले हम- स्टारिंग चिराग पासवान

आज के परिपेक्ष्य में बिहार का चुनाव कई मायनो में अलग है। मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री पारम्परिक राजनीती वाली रणनीति का अनुसरण कर रहे है तो वही युवा चिराग और तेजस्वी विरासती जनाधार को नए भविष्य का सपना दिखने का प्रयास कर रहे है।

How BJP can win seats in Tamil Nadu and Kerala

It is time for BJP to eye on Tamil Nadu and Kerala. In Lok Sabha election 2024 BJP will win ±15 seats in TN and ±3 seats in Kerala.

Brace for ad Jihad

Delusionary fairy tale

Why this hullabaloo about shifting Bollywood?

Let the new film city emerge as the genuine centre for producing high quality films that are genuinely Indian and be helpful in building a strong value-based society.

Recently Popular

Jallikattu – the popular sentiment & ‘The Kiss of Judas Bull’ incident

A contrarian view on the issue being hotly debated.

सामाजिक भेदभाव: कारण और निवारण

भारत में व्याप्त सामाजिक असामानता केवल एक वर्ग विशेष के साथ जिसे कि दलित कहा जाता है के साथ ही व्यापक रूप से प्रभावी है परंतु आर्थिक असमानता को केवल दलितों में ही व्याप्त नहीं माना जा सकता।

Twitter wrongfully reports Jammu & Kashmir’s location again

In February of this year Twitter was accused of getting Jammu & Kashmir’s location wrong.

How I was saved from Love Jihad

A personal experience of a liberal urban woman and her close brush with Islam.

हिंदू धर्म की भावनाओं को ठेस पहुंचाना कहां तक उचित है??

विज्ञापन में दिखाए गए पात्रों के धर्म एक दूसरे से बदल दिए जाएं तो क्या देश में अभी शांति रहती। क्या तनिष्क के शोरूम सुरक्षित रहते। क्या लिबरल तब भी अभिभ्यक्ती की स्वतन्त्रता की बात करते।