Thursday, May 30, 2024

TOPIC

Caste divide in India

“I don’t believe in caste”

Caste- the original phrase carries as much weight as claiming to disbelieve in capitalism. The question of belief does not arise at all. As the duality of rich and poor exists, so does caste. And it will stay.

वर्ण व्यवस्था और जाति व्यवस्था के मध्य अंतर और हमारे इतिहास के साथ किया गया खिलवाड़

वास्तव में सनातन में जिस वर्ण व्यवस्था की परिकल्पना की गई उसी वर्ण व्यवस्था को छिन्न भिन्न करके समाज में जाति व्यवस्था को स्थापित कर दिया गया। समस्या यह है कि आज वर्ण और जाति को एक समान माना जाता है जिससे समस्या लगातार बढ़ती जा रही है।

Caste education: Decoding caste system

There are numerous scripts which in detail explain how the Varna of a person should be determined based on the profession & nature of his living not based on birth.

पहले इंसान बन जा

माना की जातीय परंपरा एक भाग हैं भारतीय समाज काI परन्तु ये जातीय परंपरा कम और अंतरजातीय संघर्ष ज्यादा प्रतीत होता हैI भारत में लोग जात के नाम पर भीड़ जाते है, मार दिए जाते हैंI

जाति है कि जाती नही

जाति की राजनीति करने वाले सभी नेता ब्राह्मणवाद विचारधारा से ग्रसित हैं, क्योंकि वह समाज में एकीकृत भाव का निर्माण होने ही नहीं देना चाहते। बाकि समझ अपनी-अपनी।

कौन जात के हैं कैलाश सत्यार्थी?

जातियों को खांचे में बांट कर और एक दूसरी जातियों को उनके खिलाफ भड़का कर वोट बैंक की जो राजनीति हो रही है, वह बहुत ही खतरनाक है। वोट के लिए देवी-देवताओं तक को भी जाति के आधार पर बांटा जा रहा है।

Here is a solution to the caste system, and it’s not what you think

An attempt to trigger a debate and discussion. What should be done to make a caste-less society?

Karunanidhi divided Hindu and Christian Nadar to defeat Kamaraj in 1969

Although MK could not defeat Kamaraj but he could defeat the harmony between Christian and Hindus in down south and also could divide Hindu nadar and Christian nadar unity to a great extent.

Has Periyar caused comparative psychosis in TN than competitiveness?

EVR constantly whipped his listeners and followers by saying they belong to Sudra- children of Dasi and to substantiate his obsession and hatred, he always used to abuse God, Hindu culture and Brahmins.

Bhima Koregaon: A false narrative

What does Ambedkar’s attempt at glorifying Koregaon reflect?

Latest News

Recently Popular