Saturday, July 20, 2024

TOPIC

Article 370 repealed by Amit Shah

सुन मेहबूबा “रईस मट्टू” के भी हाथ “तिरंगा”!

ये वही मेहबूबा मुफ़्ती है, जो रैलियों में चीख चीख कर कह रही थी कि "यदि ३७० हटा, तो तिरंगे को कोई हाथ लगाने वाला भी नहीं मिलेगा"! ये

जम्मू-कश्मीर: लक्षित हत्याओं व हिन्दुओं के पलायन को रोकना सरकार के सामने बड़ी चुनौती

370 हटने के बाद से ही आतंकवादियों ने अपनी आकाओं की जबरदस्त बौखलाहट, छटपटाहट, हताशा व निराशा में राज्य में निरंतर माहौल खराब करने के प्रयास शुरू कर रखें हैं।

Why it is imperative to underplay the feeling of outrage amidst targeted killing in Kashmir

The tribulations and thorny issues concerning the Kashmir is often mistakenly identified with the territorial dispute between two countries and the local population’s aspirations to become part of a country with which it feels it has a natural affinity.

The Indian pushback: Indians slowly gaining their lost identity with pride

India has found the self confidence to go against the self proclaimed patrons and champions of liberalism and freedom, to do what is necessary to secure its sovereignty and traditional values.

How twins became the twin stars of valley

The two young identical brothers namely Gowhar Bashir Bhat and Shakir Bashir Bhat made the entire valley pompous by Qualifying National Eligibility Entrance Test with effulgent tincture.

Abrogation of article 370

Abrogation of article 370 has generated many emotions, from celebration to anger, from euphoria to despondency, from pride to humiliation, it has seen a wide spectrum of emotions reflected through millions of conversations through social media.

जनमानस में जानकारी का आभाव बना विपक्ष का हथियार

लोकतंत्र की दुहाई देने वाला विपक्ष जब लोकतंत्र के नाम पर सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाती अराजक होती भीड़ के समर्थन में उतरता है तो वो लोकतंत्र की किस परिभाषा को मानता है इसका उत्तर भी अपेक्षित है।

कश्मीर में शेहला राशिद बनना चाहती थीं नेता, मगर लोकतंत्र की दुहाई देकर खुद ही भाग गईं

शेहला राशिद जेएनयू में शोध करने वाली एक कश्मीरी छात्रा हैं जिसने हाल ही में भारत सरकार द्वारा कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाने के बाद सेना और सरकार को लेकर विवादित बयान भी दिया था इसीके बाद उनपर राजद्रोह का केस दर्ज किया गया था जिसके साथ शेहला की मुश्किलों का एक नया दौर शुरू हो गया.

यौम-ए-आज़ादी पर इमरान ख़ाँँ

एक बार नरेन्द्रा मोदी और इमरान ख़ान के स्वतंत्रता दिवस के भाषण को सुने, और अपने भाग्य पर इतराएं कि आपके प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हैं, इमरान खान नहीं, और राहुल गाँधी या ममता बनर्जी या अरविन्द केजरीवाल भी नहीं!

कांग्रेस और अनुच्छेद 370

कॉंग्रेस की चिंता आर्टिकल 370 को ले कर

Latest News

Recently Popular