Tuesday, October 20, 2020

TOPIC

Amit Shah

चीन और पाकिस्तान का भारत पर सर्जिकल स्ट्राइक: एक बार नहीं कई बार

जब चीन के सामानों के बहिष्कार की लहर चल रही थी तो अपने ही देश के कुछ लोग चीन की वफादारी में लगे थें। हाँ ये बात अलग है कि अब वैसे लोग जेल जा रहे है जो अच्छी बात है।

दिल्ली COVID-19 मामलों के रूप में केजरीवाल ने अमित शाह से मुलाकात की

मुख्यमंत्री ने कहा कि शाह ने उन्हें कोरोनोवायरस के खिलाफ लड़ाई में सभी सहयोग का आश्वासन दिया है।

दिल्ली दंगे से अमित शाह बच निकले

इसे रोका जा सकता था यदि अमित शाह चाहते तब. पर इसके लिए उन्हें वो कदम उठाना पड़ता जो लोकतंत्र के लिए अच्छा नहीं होता. अमित शाह संविधान के अनुच्छेद 356 का प्रयोग कर सकते थे. मतलब राष्ट्रपति शासन.

Kejriwal teaches tough lessons to Modi & Shah

Kejriwal had popular support where the votes mattered. Modi had populist appeal which did not sway the Aam Aadmi, as emotive appeals had a limit to their remit.

Delhi: Was it worth the fight for BJP?

For BJP it is not a time rest on its laurels. They are not out of the grind yet.

‘Mind your language’ time for Amit Shah?

The minority Muslim community was by name excluded while others as Hindus, Sikhs, Budhists, Jains, Parsis and  Christians, were by name included. Could the naming names have been avoided to reach the same effect?

Parashuram principle

When rent-seeking, predatory-elite become too numerous, they are forced out of the society. This is what the sixth Avtaar of Vishnu, Lord Parashuram did.

Abhijith Banerjee, the shadow of Rahul Gandhi in venting out pessimism and demotivation

If the Nobel laureate feels that Indian education system and system have no recognition, then instead of cribbing, who is stopping him to come to India and give his some inputs for the betterment of the country.

CAB: Are Indian Muslims really Indians?

The protests are no longer about CAA or NRC anymore, it’s about Muslims flexing their political and ideological muscles and trying to frighten the majority population by their wanton acts of violence.

Latest News

शांत कश्मीर और चिदंबरम का 370 वाला तीर

डॉ. मनमोहन सिंह की सरकार के सबसे शक्तिशाली मंत्रियो में से एक चिदंबरम आज वही भाषा बोल रहे है जो पाकिस्तान संयुक्त राष्ट्र तथा अन्य अंतर्राष्ट्रीय मंचो पर बोलता आया है। चिदंबरम यही नहीं रुके उन्होंने अलगाववादियों को भी महत्व देने की बात कही है।

मिले न मिले हम- स्टारिंग चिराग पासवान

आज के परिपेक्ष्य में बिहार का चुनाव कई मायनो में अलग है। मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री पारम्परिक राजनीती वाली रणनीति का अनुसरण कर रहे है तो वही युवा चिराग और तेजस्वी विरासती जनाधार को नए भविष्य का सपना दिखने का प्रयास कर रहे है।

How BJP can win seats in Tamil Nadu and Kerala

It is time for BJP to eye on Tamil Nadu and Kerala. In Lok Sabha election 2024 BJP will win ±15 seats in TN and ±3 seats in Kerala.

Brace for ad Jihad

Delusionary fairy tale

Why this hullabaloo about shifting Bollywood?

Let the new film city emerge as the genuine centre for producing high quality films that are genuinely Indian and be helpful in building a strong value-based society.

Recently Popular

Jallikattu – the popular sentiment & ‘The Kiss of Judas Bull’ incident

A contrarian view on the issue being hotly debated.

सामाजिक भेदभाव: कारण और निवारण

भारत में व्याप्त सामाजिक असामानता केवल एक वर्ग विशेष के साथ जिसे कि दलित कहा जाता है के साथ ही व्यापक रूप से प्रभावी है परंतु आर्थिक असमानता को केवल दलितों में ही व्याप्त नहीं माना जा सकता।

How I was saved from Love Jihad

A personal experience of a liberal urban woman and her close brush with Islam.

Twitter wrongfully reports Jammu & Kashmir’s location again

In February of this year Twitter was accused of getting Jammu & Kashmir’s location wrong.

हिंदू धर्म की भावनाओं को ठेस पहुंचाना कहां तक उचित है??

विज्ञापन में दिखाए गए पात्रों के धर्म एक दूसरे से बदल दिए जाएं तो क्या देश में अभी शांति रहती। क्या तनिष्क के शोरूम सुरक्षित रहते। क्या लिबरल तब भी अभिभ्यक्ती की स्वतन्त्रता की बात करते।