Friday, June 14, 2024
HomeHindiBharOS भारत का अपना ओपरेटिंग सिस्टम

BharOS भारत का अपना ओपरेटिंग सिस्टम

Also Read

Nagendra Pratap Singh
Nagendra Pratap Singhhttp://kanoonforall.com
An Advocate with 15+ years experience. A Social worker. Worked with WHO in its Intensive Pulse Polio immunisation movement at Uttar Pradesh and Bihar.

हे मित्रों आत्मनिर्भर भारत कि दिशा में एक और महत्वपूर्ण कदम बढ़ाते हुए हमारे देश ने अपना एक ओपरेटिंग सिस्टम विकसित कर लिया है, जो अतिशीघ्र Android और IOS को टक्कर देने और बाजार में उनके एकाधिकार को अपने फौलादी इरादों से समाप्त करने का प्रयास करेगा। इसका ना है “BharOS”।

मित्रों चल ध्वनि यन्त्र (Mobile) खासकर Smartphone कि दुनिया में Google के Operating System का बोलबाला है और जंहा भी एकाधिकार कि बात आती है, तो मित्रों निरंकुशता और मनमानापन अपने आप उत्पन्न होकर नियमों और प्रावधानो को तोड़ने का अभियान आगे बढ़ा देते हैं।

इसी प्रकार गूगल ने भी मनमानापन व्यवहार को अपनाते हुए भारत के बाजार के नियमों को अनदेखा करना शुरू कर दिया।भारत में एक प्रमुख बाजार स्थिति के कथित दुरुपयोग के लिए सरकार ने $१६१ मिलियन का जुर्माना गूगल पर लगाया है। आपको बताते चलें कि भारतीय स्मार्टफोन बाजार का लगभग ९७ प्रतिशत हिस्सा Google के Android OS पर चलने वाले फोन से बना है। Google को अपने Android मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम से संबंधित प्रथाओं के लिए भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (CCI) से कार्रवाई का सामना करना पड़ रहा है।

Google और अन्य Operating System के मनमानी से बचाव के लिए भारत के अपने एक ऐसे भारतीय ऐप स्टोर की आवश्यकता महसूस की गई, जो बिक्री के लिए अत्यधिक शुल्क नहीं लेता हो। इसके अलावा, भारत के एंटीट्रस्ट वॉचडॉग कॉम्पिटिशन कमीशन ऑफ इंडिया (CCI) ने Google से उसके Android OS में बदलाव करने के लिए भी कहा ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि उपयोगकर्ताओं के पास उन ऐप्स पर अधिक विकल्प हों जिन्हें वे अपने स्मार्टफ़ोन पर उपयोग करना चाहते हैं। Google ने CCI के आदेश को रोकने के लिए सुप्रीम कोर्ट में अपील की। कंपनी ने कहा है कि वह निर्णय की समीक्षा कर रही है और “आगे बढ़ने के लिए सीसीआई के साथ सहयोग करेगी।”

ऐसी दशा में भारत के अपने Operating System को विकसित करने कि प्रक्रिया कि भी शुरुआत कर दी गई और इस कार्य को JandK ऑपरेशंस प्राइवेट लिमिटेड (JandKops) को सौपा गया, जिसे IIT मद्रास में इनक्यूबेट किया गया था। और अंतत्: स्मार्टफोन में विदेशी ऑपरेटिंग सिस्टम पर निर्भरता को कम करने और स्थानीय रूप से विकसित तकनीक के उपयोग को बढ़ावा देने के उद्देश्य को ध्यान में रखकर JandK ऑपरेशंस प्राइवेट लिमिटेड (IIT Madras) ने स्वदेशी Operating System के रूप में BharOS को विकसित किया जिसे दूरसंचार और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री अश्विनी वैष्णव और शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने सार्वजनिक रूप से लॉन्च किया।

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, मद्रास (IIT) ने इस ऑपरेटिंग सिस्टम को विकसित किया । BharOS एक फ्री और ओपन-सोर्स ऑपरेटिंग सिस्टम (OS) विकसित करने के लिए एक भारत सरकार द्वारा वित्त पोषित प्रोजेक्ट है। BharOS (भरोस) सुरक्षा के प्रति जागरूक समूहों (मोबाइल users) को निशाना बनाता है। BharOS किसी भी पूर्व-स्थापित सेवाओं या ऐप्स के साथ नहीं आता है।यह सेवा या दृष्टिकोण उपयोगकर्ता को उन अनुमतियों पर अधिक स्वतंत्रता और नियंत्रण देता है जो उनके डिवाइस पर ऐप्स के रूप में उपलब्ध हैं।

उपयोगकर्ता केवल उन ऐप्स को अनुमति देना चुन सकते हैं जिनकी उन्हें अपने डिवाइस पर कुछ सुविधाओं या डेटा तक पहुंचने की आवश्यकता होती है।

यह सॉफ्टवेयर व्यावसायिक रूप से उपलब्ध हैंडसेट पर स्थापित किया जा सकता है, जो उपयोगकर्ताओं को एक सुरक्षित वातावरण प्रदान करता है। नया ऑपरेटिंग सिस्टम संगठन-विशिष्ट निजी ऐप स्टोर सेवाओं (पास) के माध्यम से जो सुरक्षा और गोपनीयता मानकों को पूरा करने वाले क्यूरेटेड ऐप्स की एक सूची है में से विश्वसनीय ऐप्स तक पहुंचने में सहायता प्रदान करता है। इस BharOS के द्वारा सुरक्षा अपडेट और बग फिक्स स्वचालित रूप से इंस्टॉल हो जाएंगे बजाय इसके कि उपयोगकर्ताओं को मैन्युअल रूप से अपडेट की जांच करनी पड़े और उन्हें इंस्टॉल करना पड़े।

BharOS भारत का पहला घरेलू मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम है। यह एंड्रॉइड ओएस के विपरीत नो डिफॉल्ट ऐप्स (एनडीए) के साथ आता है। उपयोगकर्ता BharOS के अपने ऐप स्टोर से अधिक ऐप डाउनलोड करने में सक्षम होंगे।नए ऑपरेटिंग सॉफ्टवेयर को कमर्शियल ऑफ-द-शेल्फ हैंडसेट पर इंस्टॉल किया जा सकता है। BharOS के डेवलपर्स दावा कर रहे हैं कि नए स्वदेशी ओएस को यूजर्स को अधिक सुरक्षित अनुभव प्रदान करने के लिए डिजाइन किया गया है।

BharOS की कुछ विशेषताएं निम्न प्रकार से हैं: –

BharOS एक मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम है जिसका उद्देश्य उपयोगकर्ताओं को उनके डिवाइस की सुरक्षा और गोपनीयता पर अधिक नियंत्रण देना है। BharOS में कोई ब्लोटवेयर या डिफॉल्ट ऐप्स शामिल नहीं है, जिससे यूजर्स को ज्यादा स्टोरेज स्पेस मिलता है।बिना किसी डिफॉल्ट ऐप्स के, यूजर्स को किसी ऐसे ऐप का इस्तेमाल करने के लिए भी मजबूर नहीं किया जाता है, जिस पर वे भरोसा नहीं कर सकते हैं।BharOS एंड्रॉइड के समान “नेटिव ओवर द एयर” (नोटा) अपडेट प्रदान करता है, जिसका अर्थ है कि सॉफ्टवेयर अपडेट डिवाइस पर स्वचालित रूप से डाउनलोड और इंस्टॉल हो जाएंगे।

नया BharOS निजी ऐप स्टोर सेवाओं (पास) तक भी पहुंच प्रदान करेगा, जो विशिष्ट संगठनों से विश्वसनीय ऐप प्रदान करते हैं। “एक PASS उन ऐप्स की क्यूरेटेड सूची तक पहुंच प्रदान करता है, जिन्हें पूरी तरह से जांचा गया है जिसने संगठनों के कुछ सुरक्षा और गोपनीयता मानकों को पूरा किया है।इसका मतलब है कि उपयोगकर्ता आश्वस्त हो सकते हैं कि वे जो ऐप इंस्टॉल कर रहे हैं वे उपयोग करने के लिए सुरक्षित हैं और किसी भी संभावित सुरक्षा भेद्यता या गोपनीयता संबंधी चिंताओं के लिए इनकी जाँच की गई है। दूसरे शब्दों में कहें तो PASS उन ऐप्स की क्यूरेटेड लिस्ट तक एक्सेस देता है, जो सिक्योरिटी और प्राइवेसी मानकों को पूरा करते हैं।

BharOS तकनीकी रूप से Android के समान है क्योंकि Andorid भी Linux कर्नेल का व्युत्पन्न है। BharOS और Google के Android के बीच मुख्य अंतर BharOS पर Google सेवाओं की अनुपस्थिति और उपयोगकर्ताओं के लिए अपने स्वयं के ऐप इंस्टॉल करने की क्षमता है। सुविधाओं के संदर्भ में, BharOS, Android के समान है और इसमें पहले से इंस्टॉल किए गए ऐप्स नहीं आते हैं।

क्या BharOS एंड्रॉइड से बेहतर है?

दोनों की तुलना करने से पहले, BharOS और एंड्रॉइड के बीच कुछ प्रमुख अंतर हैं जिन पर ध्यान दिया जाना चाहिए।

सबसे पहले, यह स्पष्ट करना होगा कि कोई व्यक्ति पहले से इंस्टॉल किए गए Operative System को BharOS से कैसे बदल सकता है। BharOS को कैसे स्थापित किया जाए या कौन से उपकरण इसमें सहायक होंगे, इस बारे में सुसंगत विवरण उपलब्ध कराना होगा।इसके अतिरिक्त, यह बताना होगा कि BharOS को कब तक सुरक्षा और सॉफ़्टवेयर अपडेट प्राप्त होंगे, या यदि OS के डेवलपर BharOS के साथ स्मार्टफोन लॉन्च करने के लिए किसी ओईएम के साथ सहयोग करेंगे। इसके अलावा, BharOS के डेवलपर्स को इस बारे में जानकारी देनी होगी कि BharOS कब डाउनलोड के लिए उपलब्ध होगा।

इस प्रकार, BharOS ऑपरेटिंग सिस्टम Android के लिए एक व्यवहार्य विकल्प बन जाएगा या नहीं, यह निर्धारित करने के लिए BharOS के बारे में अधिक जानकारी का इंतजार है। विशेष रूप से, BharOS के पूर्ण रूप से लॉन्च होने के बाद भी, BharOS Android की जगह नहीं लेगा अपितु, यह Android और iOS का एक लोकप्रिय विकल्प बन सकता है।

BharOS वर्तमान में केवल उन संगठनों के लिए है जिनके पास कड़ी गोपनीयता और सुरक्षा आवश्यकताएं हैं और “जिनके उपयोगकर्ता संवेदनशील जानकारी को संभालते हैं, जिसके लिए मोबाइल पर प्रतिबंधित ऐप्स पर गोपनीय संचार की आवश्यकता होती है।” नया ओएस अर्थात BharOS अभी तक आधिकारिक तौर पर जनता के लिए जारी नहीं किया गया है।यह अनुमान लगाया जाता है कि BharOS के डेवलपर्स निकट भविष्य में भरोस पर चलने वाले स्मार्टफोन लॉन्च करने के लिए स्मार्टफोन निर्माताओं के साथ सहयोग करेंगे।

चूंकि नए स्वदेशी ओएस BharOS के बारे में ज्यादा जानकारी जारी नहीं की गई है, इसलिए अभी यह निर्धारित किया जाना बाकी है कि पहले से इंस्टॉल किए गए ओएस को BharOS से बदलना कैसे संभव होगा। इसके अतिरिक्त, यह उम्मीद की जाती है कि BharOS डेवलपर्स भविष्य में BharOS द्वारा समर्थित स्मार्टफोन लॉन्च करने के लिए मूल उपकरण निर्माताओं के साथ सहयोग करेंगे। हालांकि कहा जाता है कि BharOS गूगल पिक्सल स्मार्टफोन के अनुकूल है, लेकिन डेवलपर्स ने पिक्सल के उस सटीक मॉडल की पुष्टि नहीं की है जो BharOS को सपोर्ट करेगा।

BharOS को उपयोगकर्ताओं को पारंपरिक एंड्रॉइड अनुभव का विकल्प प्रदान करने के लिए विकसित किया गया है। डेवलपर्स का मुख्य उद्देश्य एक स्वदेशी ऑपरेटिंग सिस्टम को बाजार में उपलब्ध कराना है जो किसी विदेशी कंपनी पर निर्भर नहीं करता है। अत: इसका अपना ऐप स्टोर होगा जो उपयोगकर्ताओं को Google ऐप स्टोर की आवश्यकता को समाप्त करते हुए ऐप डाउनलोड और इंस्टॉल करने की अनुमति देगा।इसके अतिरिक्त, उपयोगकर्ता तृतीय-पक्ष ऐप्स लोड करने में सक्षम होंगे, जो अधिक ऐप्स इंस्टॉल करने के विकल्पों को और विस्तारित करेगा। हालाँकि, यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि जबकि BharOS अधिकांश ऐप चला सकता है, कुछ ऐसे ऐप हो सकते हैं जो नए OS के अनुकूल नहीं हैं।

निष्कर्ष:-
जबकि Android और iOS अधिक वाणिज्यिक और उपभोक्ता-उन्मुख उपयोग के मामलों की सेवा करते हैं, BharOS अधिक विशिष्ट प्रतीत होता है। BharOS “नेटिव ओवर द एयर” (NOTA) अपडेट की पेशकश करेगा, जिसका अर्थ है कि सुरक्षा अपडेट और बग फिक्स स्वचालित रूप से इंस्टॉल हो जाएंगे। उपयोगकर्ताओं को अद्यतनों की जाँच करने और उन्हें स्वयं लागू करने की आवश्यकता नहीं है।
BharOS “No Default App” (NDA) सेटिंग के साथ आता है, जिसका अर्थ है कि उपयोगकर्ताओं को इस मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम में पहले से इंस्टॉल किए गए ऐप्स को रखने या उपयोग करने की आवश्यकता नहीं है।
BharOS प्राइवेट ऐप स्टोर सर्विसेज (PASS)) के नाम से जानी जाने वाली एक प्रणाली का उपयोग करेगा, जो उन ऐप्स की जांच और क्यूरेट करेगी जो उपयोगकर्ताओं के लिए सुरक्षित हैं। इसका अर्थ है कि उपयोगकर्ता अन्य ऐप्स का उपयोग करने में सक्षम होने चाहिए, जब तक वे BharOS के “पास” मानकों को पूरा करते हैं।

जबकि एंड्रॉइड और आईओएस दो सबसे प्रसिद्ध मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम हैं, इस क्षेत्र में एक नया भारतीय दावेदार भरोस है। चुंकि ये हमारा अपना भारतीय ओपरेटिंग सिस्टम है, इसलिए हम इस पर अपना भरोसा रख कर अन्य दो विदेशी ओपरेटिंग सिस्टम के निरंकुशता पर लगाम लगा सकेंगे।

लेखन और संकलन :- नागेंद्र प्रताप सिंह (अधिवक्ता)
[email protected]

  Support Us  

OpIndia is not rich like the mainstream media. Even a small contribution by you will help us keep running. Consider making a voluntary payment.

Trending now

Nagendra Pratap Singh
Nagendra Pratap Singhhttp://kanoonforall.com
An Advocate with 15+ years experience. A Social worker. Worked with WHO in its Intensive Pulse Polio immunisation movement at Uttar Pradesh and Bihar.
- Advertisement -

Latest News

Recently Popular