Tuesday, July 23, 2024
HomeHindiपिता

पिता

Also Read

कभी जिया बेफ़िक्री में,
आज उनके हर क़दम की,
ख़बर लेता हूँ,
मैं पिता हूँ।

कभी ख़ुद में मगन-मस्त,
आज उनकी ख़ुशी में;
ख़ुश हो लेता हूँ,
मैं पिता हूँ।

ख़ुद की ख़्वाहिशें हुई दफ़्न,
मोची के कसे जूते पहन;
उन्हें ‘मोची’ दिलवाता हूँ,
मैं पिता हूँ।

काम का बोझ समेटे,
शाम ढले जब आता हूँ;
चिंताओं को दबाए,
ऊपर से मुस्काता हूँ,
मैं पिता हूँ।

सजना भूल गया हूँ,
या जान’कर भूला दिया;
सजाने को बस अब,
बच्चों के ख़्वाब सजाता हूँ,
अब मैं; पिता हूँ।

– गुलाब चौबे

नई पीढ़ी के पिताओं को समर्पित

  Support Us  

OpIndia is not rich like the mainstream media. Even a small contribution by you will help us keep running. Consider making a voluntary payment.

Trending now

- Advertisement -

Latest News

Recently Popular