Tuesday, October 20, 2020

TOPIC

Sushant Singh Rajput Suicide

My take on Rajdeep Sardesai blog “We are all part of circus- Sushant-Rhea case”

Dear Rajdeepji Through your blog titled "We are all part of the circus -Sushan–Rhea case" you make some gross  imputation that- the case...

Why Sushant Rajput’s mysterious death is a gateway to the troubled Bollywood and why India has to bring in the CBI to investigate it

The demand to probe Sushant Singh Rajput's death is OK but that will only make his fans and family happy. The CBI needs to investigate Bollywood itself. That will bring down Bollywood and it can convert to Indian cinema.

ये दर्द काहे खत्म नही होता, बे

बुद्धिजीवि पत्रकार, प्रोफेसर, बिन्दी झोला ब्रिगेड, सर्पनगरी बॉलीवुड के शेषनाग इत्यादि लोग ऐसे तर्क प्रस्तुत करते है, जो हमारी सूक्ष्म सोच पर वज्र सा प्रहार करते है, मस्तिष्क सुन्न हो जाता है।

कंगना और रिया के बीच फसी शिवसेना !

आखिर इस में ऐसा क्या था जो संजय राउत जैसा शिवसेना के वरिष्ठ नेता बीच में कूद पड़ा। शिवसेना सरकार या राउत साहब की प्राथमिकता क्या होनी चाहिए? जो खुलासे करने को तैयार है उसे धमकाना या ड्रग की काली दुनिया को सबके सामने लाना।

स्तरहीन पत्रकारिता का दौर

गर्व करने योग्य देश की उपलब्धियां हैं बल्कि जनमानस में सकारात्मकता फैलाने वाली खबरें हैं- आपदा को अवसर में बदलने की बहुत से कदम भी उठाए गए जैसे आत्मनिर्भर भारत की नींव और वोकल फ़ॉर लोकल का संकल्प। लेकिन शायद ही खुद को चौथा स्तंभ मानने वाली देश की मीडिया ने इन खबरों का प्रसारण किया हो अथवा किसी भी प्रकार से देश की इन उपलब्धियों से देश की जनता को रूबरू कराने का प्रयत्न किया हो।

जांच या न्याय (सुशांत सिंह राजपूत)

अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत से जुड़े मामले की जांच सीबीआई को सौंपने के बिहार सरकार के आदेश को सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को बरकरार रखा।

Dear Sushant; we never deserved you

First they made Sushant Singh's life miserable and now not sparing even his death!

Why are the left-liberals and placard holding gangs quiet on Sushant’s death mystery?

perhaps we should not hold these placard-holding, pseudo-left-liberals at face value. There can be no doubt that their liberalism is biased.

सुशांत सिंह राजपूत के पिता ने FIR में किये चौंकाने वाले खुलासे

सुशांत सिंह राजपूत के पिता का आरोप है कि एक्ट्रेस रिया चक्रवर्ती ने अपने सहयोगियों और परिजनों के साथ मिलकर उनके बेटे सुशांत के खिलाफ षड्यंत्र रचा है। इसके साथ ही सुशांत के पिता ने FIR में चौकाने वाले खुलासे किए हैं।

The other side

Every individual is a beneficiary and a victim at different given times and circumstances in different fields.

Latest News

शांत कश्मीर और चिदंबरम का 370 वाला तीर

डॉ. मनमोहन सिंह की सरकार के सबसे शक्तिशाली मंत्रियो में से एक चिदंबरम आज वही भाषा बोल रहे है जो पाकिस्तान संयुक्त राष्ट्र तथा अन्य अंतर्राष्ट्रीय मंचो पर बोलता आया है। चिदंबरम यही नहीं रुके उन्होंने अलगाववादियों को भी महत्व देने की बात कही है।

मिले न मिले हम- स्टारिंग चिराग पासवान

आज के परिपेक्ष्य में बिहार का चुनाव कई मायनो में अलग है। मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री पारम्परिक राजनीती वाली रणनीति का अनुसरण कर रहे है तो वही युवा चिराग और तेजस्वी विरासती जनाधार को नए भविष्य का सपना दिखने का प्रयास कर रहे है।

How BJP can win seats in Tamil Nadu and Kerala

It is time for BJP to eye on Tamil Nadu and Kerala. In Lok Sabha election 2024 BJP will win ±15 seats in TN and ±3 seats in Kerala.

Brace for ad Jihad

Delusionary fairy tale

Why this hullabaloo about shifting Bollywood?

Let the new film city emerge as the genuine centre for producing high quality films that are genuinely Indian and be helpful in building a strong value-based society.

Recently Popular

Jallikattu – the popular sentiment & ‘The Kiss of Judas Bull’ incident

A contrarian view on the issue being hotly debated.

सामाजिक भेदभाव: कारण और निवारण

भारत में व्याप्त सामाजिक असामानता केवल एक वर्ग विशेष के साथ जिसे कि दलित कहा जाता है के साथ ही व्यापक रूप से प्रभावी है परंतु आर्थिक असमानता को केवल दलितों में ही व्याप्त नहीं माना जा सकता।

How I was saved from Love Jihad

A personal experience of a liberal urban woman and her close brush with Islam.

Twitter wrongfully reports Jammu & Kashmir’s location again

In February of this year Twitter was accused of getting Jammu & Kashmir’s location wrong.

हिंदू धर्म की भावनाओं को ठेस पहुंचाना कहां तक उचित है??

विज्ञापन में दिखाए गए पात्रों के धर्म एक दूसरे से बदल दिए जाएं तो क्या देश में अभी शांति रहती। क्या तनिष्क के शोरूम सुरक्षित रहते। क्या लिबरल तब भी अभिभ्यक्ती की स्वतन्त्रता की बात करते।