Sunday, April 14, 2024

TOPIC

Sonia Gandhi looted India

कांग्रेस कि भारत जोड़ो यात्रा: एक और षड्यंत्र

कांग्रेस का तो इतिहास हि बताने के लिए पर्याप्त है कि इसके जिस नेता ने भी सम्पूर्ण भारत के विकास की पहल की उसे कांग्रेस दरकिनार कर दिया गया या फिर उसकी हत्या करवा दी गई हमारे स्वर्गीय लाल बहादुर शास्त्री जी इसके प्रत्यक्ष उदाहरण हैं।

ED (प्रवर्तन निदेशालय) की सार्वभौमिकता बरकरार:- भ्रष्टाचार के शहंशाहों और मनी लाउंड्रिंग के बादशाहों में मातम

कांग्रेस पार्टी के तो आधे दर्जन से अधिक राष्ट्रिय स्तर के नेता (जिसमें श्रीमती सोनिया गाँधी और उनके पुत्र श्री राहुल गाँधी का नाम शामिल है) अपने अपने कर्मो के अनुसार ED के शिकंजे में है और ज्यादातर नेता जमानत पर अपनी जिंदगी जी रहे हैं।

कॉंग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी जी के नाम खुला पत्र

अफ़सोस की आपके नेतृत्व मे विपक्ष को हर काम मे सिर्फ कमियाँ ही दिखती हैं। आपकी पार्टी ने जहाँ हमारे वैज्ञानिकों द्वारा बनाई गयी स्वदेशी वैक्सीन पर सवाल उठाए, वहीं सेना के द्वारा अद्भुत शौर्य दिखाकर की गयी सर्जिकल स्ट्राइक को भी विपक्ष के नेताओं ने फर्जी बता दिया।

Don’t do anything, Mr. Modi because India is used to of being ruled by those who want to do NOTHING

They don't like Modi doing anything. Why? Because Modi is building a legacy and he is trampling over the only previous legacy in India - that of the one family and party that has ruled India by and large.

The parasites are moaning that no juice is left: The Congress crisis

Gandhi family is more obsessed with Gandhi Family ONLY syndrome than the party loyalists.

Prime Minister- whom we will always remember but for wrong reasons

DR. MANMOHAN SINGH, who is the reason for India's lost decade. 2008-19.

लूट की दुकान: राजीव गाँधी फाउंडेशन

राजीव गाँधी फाउंडेशन की अध्यक्ष सोनिया गाँधी हैं और राहुल गाँधी, प्रियंका वाड्रा, चिदंबरम और मनमोहन सिंह इसके अन्य ट्रस्टी हैं. इस ट्रस्ट ने सभी नियमों कानूनों को ताक पर रखकर न सिर्फ विदेशी संस्थाओं से दान लिया है, बल्कि प्रधान मंत्री नेशनल रिलीफ फण्ड, केंद्र सरकार के मंत्रालयों और विभिन्न सरकारी कंपनियों से भी काफी मात्रा में दान लिया है.

हे कांग्रेस समर्थकों! अब भी समय है जागो और राष्ट्र के हित में विचार करो।

भाजपा, कांग्रेस, आप और बसपा ये सब बाद में हैं पहले ये सनातन हिन्दू धर्म है, इस भारतवर्ष का अस्तित्व है। इनकी रक्षा करने वाले का साथ दीजिए, इनके विकास की बात करने वाले का साथ दीजिए। जो पार्टी आज तक अपना अध्यक्ष नहीं बदल सकी वह भारतवर्ष के भाग्य को क्या बदल पाएगी और यह भी संभव है कि आने वाले समय में कांग्रेस का अस्तित्व ही न रहे।

क्या अलका लांबा सोनिया गांधी की नाजायज औलाद है?

रिपब्लिक टीवी के एडिटर इन चीफ अर्नब गोस्वामी कांग्रेस अधक्षया सोनिया गांधी को टारगेट करने के बाद अलका लांबा अर्नब गोस्वामी को टारगेट करने के लिए सोनिया गांधी की कुछ ज्यादा चपुलुसी कर रहीं हैं। यहाँ तक वह अपनी ट्विटर अकाउंट डीपी में सोनिया गांधी की फाटो लगाई हुई है।

नाम में बहुत कुछ रखा है

नाम में ही तो सबकुछ रखा है नाम से ही संस्कृति की पहचान, समाज का संस्कार, इतिहास की प्राचीनता और देश की धरोहर की गहराई का पता चलता है ।

Latest News

Recently Popular