Saturday, May 8, 2021

TOPIC

Scripted Farmers Protest

The alleged farmer protest seems to have crossed the line

In the latest move, all the alleged Farmer leaders have gone to the poll bound states and will campaign against the BJP.

The malaise that is ailing our country

If 1000 years of invasions, loot, plunder and occupations could not kill the humanity of this great nation, can one person sitting in the chair of the Prime Minister kill it? Are we as a nation so bereft of morality?

गरीब किसानों की कौन परवाह करता है?

गरीब किसान असमंजस में है कि क्या सरकार उनके लाभ के लिए कानून ला रही है जबकि किसान नेता और विपक्षी दल कह रहे हैं कि यह उनके खिलाफ है।

Protests against New Agriculture Laws- Is it really between farmers of Punjab, Haryana, and the Government of India?

Protests against New Agriculture Laws- Is it really between farmers of Punjab, Haryana, and the Government of India? or it’s an outburst of socio-economic challenges faced by Rural Poor compared to Rural Rich across the country

Greed for greater notoriety by foreign celebrities from the farmer’s protests

Many protestors are not the farmers who plow the fields. They are the commission agents and traders/hoarders of agriculture products.

Recurring protests: A double-edged sword for the opposition

By protesting on nearly everything, with every protest ultimately aimed at defaming India at the international stage, disrupting the life of commoners, destruction of property, and a tirade against Hindus, the sympathy of the fence-sitters gradually shifts to Modi.

किसान और क़ानून के बीच अम्बानी अडानी का विरोध क्यों?

एक समाज, एक व्यवस्था एक देश के नाते हमें अब ये तय करना होगा कि ऐसे कोई भी मुँह उठा कर दिल्ली न घेरने लगे, किसान गरीब मजदूर जैसे जार्गन्स से ऊपर उठ कर देश को ध्यान में रखना होगा तभी इन विदेशी नाचने वाली पॉप और पोर्न स्टार्स से लड़ और जीत पाएंगे।

मोदी विरोध का मानसिक पतन

किसान बिल या विरोध को समझने के लिए चार नामों में गीता कही बेहतर शिक्षित, तार्किक, व्यवस्थित और सक्षम है। परन्तु बंजारों की पसंद मिया खलीफा, रीरी और ग्रेटा है। कारण स्पष्ट है, पहले तीन नाम बंजारों को समर्थन देने वाले है।

Modus operandi of bloodthirsty protesters

Whenever the Union Government attempts to implement reformatory laws in the country, an anti-establishment lobby gets activated and create ruckus in the entire country.

दिल्ली में किसानों के वेश में गुंडों-दंगाइयों-आतंकियों का हिंसक प्रदर्शन

गणतंत्र-दिवस के दिन इन्होंने अपनी काली करतूतों से समस्त देशवासियों का सिर पूरी दुनिया में झुका दिया है। इतिहास इन्हें कभी माफ़ नहीं करेगा।

Latest News

Recently Popular