Saturday, April 20, 2024

TOPIC

School Education

The insipidity of independent India’s historiography

Seniors, such as have the inclination, energy, and intellect to read beyond the artless books at school, actively help their juniors with much better historical perspective, should the juniors themselves repose interest in the subject.

Educational politics – How schools dehumanize politicians

When 'Teachers' come to 'teach' with bias and preconceived notions, it literally ruins the generation to come, by their narratives and distorted facts!

मध्य प्रदेश के कॉलेजों में छात्र पढ़ेंगे रामायण, सिलेबस में शामिल होगा रामसेतु

मध्य प्रदेश में मेडिकल छात्रों के सिलेबस में आरएसएस के संस्थापक डॉ केशव हेडगेवार और जनसंघ के संस्थापक पंडित दीनदयाल उपाध्याय के विचारों को पढ़ाने का सियासी विवाद अभी थमा भी नहीं था कि अब भाजपा सरकार ने कॉलेजों में छात्रों को राम के बारे में पढ़ाने का फैसला लिया है।

‘परीक्षा पर चर्चा’ से दूर होगा तनाव

प्रधानमंत्री के द्वारा परीक्षा से पहले छात्रों के साथ बातचीत बहुत ही सराहनीय कदम है।

Celebrating visibility of children following yearlong invisibility from schools

As the schools return to life, we must take precautions and fight the invisible corona not to ever return and celebrate our children’s uninterrupted learning as visibly as we can.

How to stop schools’ engagement in commercial activities

Delhi High Court and CBSE have ordered to stop commercial activities (selling uniforms, books etc) in schools but hardly any impact visible on ground.

Covid-19 professional development for teachers

Teachers need to go for professional development as it not only helps them teach their students better but also makes them effective and efficient, in all aspects of their professional lives.

पढ़े लिखे नौजवानों को दिहाड़ी मजदूर बनाने का जिम्मेदार कौन?

सिर्फ डिग्री लेने से ही योग्यता नहीं आती. ये कड़वी सच्चाई है कि भारत में ज़्यादातर पढ़े-लिखे युवा नौकरी करने के काबिल ही नहीं हैं. वो किसी प्रकार की परीक्षा में अपनी काबिलियत साबित नहीं कर पाते हैं.

कोरोना काल: स्कूल बनाम अभिवावक

क्या बच्चों की पढ़ाई की पूरी जिम्मेदारी सिर्फ स्कूल की है, अभिभावकों की बिल्कुल भी नहीं? क्या कोरोनावायरस वैश्विक महामारी में जब दुनिया ज़्यादा से ज़्यादा चीजों को ऑनलाइन कर रही है तो ऑनलाइन शिक्षा से परहेज़ क्यों?

Our education system is failing us

Why innovative and creative people always hated schools and colleges? Because these institutions put a lot of limitations on those extraordinary minds.

Latest News

Recently Popular