Thursday, June 4, 2020

TOPIC

Reservation for Economically backward

सामाजिक भेदभाव: कारण और निवारण

भारत में व्याप्त सामाजिक असामानता केवल एक वर्ग विशेष के साथ जिसे कि दलित कहा जाता है के साथ ही व्यापक रूप से प्रभावी है परंतु आर्थिक असमानता को केवल दलितों में ही व्याप्त नहीं माना जा सकता।

10% general quota : How to determine 8 lakh: Effective in Central Posts from 1-2-2019

This write-up makes an attempt to analyse who all are eligible for this benefit and how to determine Rs. 8 lakh limit for the purpose.

Reservations, Politics and Propaganda

If the recently announced reservation were just a the political propaganda, they could have added into 9th schedule which the court would have overruled as Congress did in 2014 with Jats reservation.

Politics over caste versus poverty based reservation

Only through reservation based on economic status, we can abolish caste discrimination and caste system.

गरीब का सामाजिक न्याय

गरीबी के नाम पे दिया गया आरक्षण किसी भी आरक्षित को ही नहीं पच रहा। जबकि एक आरक्षित ही दूसरे आरक्षित का हक़ मार रहा है जो उसी के समाज का है लेकिन उसके जितना शिक्षित या जानकार नहीं है।

Two day magic of Prime Minister Narendra Modi for POOR

Narendra Modi is the first Prime Minister of independent India to have recognised the real, honest and true need of poor people and brought a land mark reform measure ensuring 10% reservation to economically backward forward class.

Should reservation continue even after 7 decades?

The sensitive issue of reservation has become a complete mockery

Hail Narendra Modi, the first Prime Minister for poor, Sab ka vikas

The 10% reservation for economically weaker section in the upper caste without affecting the existing reservation system is indeed a game changer and certainly such move with foster India’s growth in several frontiers much faster than what it is now.

मोदी ने निकाली कांग्रेसी महागठबंधन की हवा

सरकार की इस घोषणा के बाद कि संविधान संशोधन के जरिये सामान्य वर्ग के गरीब लोगों को १० प्रतिशत आरक्षण दिया जाएगा, कांग्रेस समेत समूचा विपक्ष सकते में है. किसी को समझ में ही नहीं आ रहा है कि इस पर कैसे प्रतिक्रिया दी जाए

Latest News

What to believe?

Our forefathers never had the EXISTENTIAL CRISIS moment this generation is having. They were too busy getting themselves out of subpar life they were in that they never had time to ask these questions or time for that matters.

आजादी मिली सिर्फ भारत के लेफ्ट में

हमें तो आप के इतिहासकारों ने इस बात की भी आजादी नहीं दी की हम महाराणा प्रताप, वीर शिवाजी के बारे में किताबों में पढ़ सके उसमें भी तो आपने भारत पर अत्याचार और चढ़ाई करने वालों की जिंदगी के बारे में लिख दी कि वो ही इस महान देश के कर्ता धर्ता थे।

एक मुख्यमंत्री जो भली भांति जानता है कि संकट को अवसर में किस प्रकार परिवर्तित करना है: भारत के सर्वाधिक लोकप्रिय मुख्यमंत्री के प्रयासों...

भारत के इन सेक्युलर, लिबरल और वामपंथियों को यह रास नहीं आया कि भगवा धारण करने वाला एक हिन्दू सन्यासी कैसे भारत के सबसे बड़े राज्य का प्रशासक हो सकता है। लेकिन यह हुआ।

2020 अमेरिका का सब से खराब साल बनने जा रहा है? पहले COVID-19 और फिर दंगे

America फिर से जल रहा है: आंशिक रूप से, जैसा कि हिंसा भड़कती है, पुलिस और उनके वाहनों पर हमला किया जाता...

Corona and a new breed of social media intellectuals

Opposing an individual turned into opposing betterment of your own country and countrymen.

Recently Popular

रचनाधर्मियों को गर्भस्थ बेटी का उत्तर

जो तुम्हें अग्नि परीक्षा देती असहाय सीता दिखती है, वो मुझे प्रबल आत्मविश्वास की धनी वो योद्धा दिखाई देती है जिसने रावण के आत्मविश्वास को छलनी कर इस धरा को रावण से मुक्त कराया.

The one difference between the Congress of today and that of before 2014

For the sake of the future generations, for the sake of our children, please read more books about how Congress had been ruling the country and be aware of the dangers.

Justice Sanjay Kishan Kaul was right to call out rising intolerance

The libertarians need to know free speech is not licence for hate speech. Our fundamental rights are not akin to First Amendment Rights, as in the US. There are reasonable restrictions and they have a purpose.

श्रमिकों का पलायन: अवधारणा

अंत में जब कोविड 19 के दौर में श्रमिक संकट ने कुछ दबी वास्तविकताओं से दो चार किया है. तो क्यों ना इस संकट को अवसर में बदल दिया जाए.

Easing lockdown a gamble?

If we want to compare economic condition and job loss due to lockdown and blame the govt., we ought to compare the mortality rate too, which one of the lowest in the world at around 2.83%!