Wednesday, April 21, 2021

TOPIC

priyanka gandhi

उठापटक के बीच अब इस्तीफे के मूड में ‘सोनिया गांधी’

सूत्रों की मानें तो अब कांग्रेस पार्टी की अंतरिम अध्यक्षा कभी भी अपने पद से इस्तीफा दे सकती हैं। सोनिया गांधी के द्वारा लगातार यह कहा जा रहा है कि अब पार्टी को नए अध्यक्ष की तलाश करनी चाहिए।

उत्तर प्रदेश भगवा-गढ़ बना रहेगा

2012 में मुलायम ने चुनाव जीतकर अखिलेश को मुख्यमंत्री पद दे दिया था। उसके बाद धुआंधार तरीके से बैक-टू-बैक तीन चुनाव अखिलेश ने अकेले दम पर हारे हैं। ये अलग बात है कि इस बात का कभी घमंड नहीं किया।

तुम मुझे जानते नहीं, मैं कौन हूँ

इस बात की खुशी है की आज, ६० साल “तुम मुझे जानते नहीं” वालों ने राज करने के बाद, "आप तो मुझे जानते हो" को मौका तो मिला। पर एक बात का डर अभी भी सताता है। कहीं फिर कोई "तुम मुझे जानते नहीं" का कोई बेटा या पोता फिर से हमारी जिन्दगी को इमरजेन्सी मे झोंकने या बोफ़ोर्स scam करने ना आ जायें।

The one difference between the Congress of today and that of before 2014

For the sake of the future generations, for the sake of our children, please read more books about how Congress had been ruling the country and be aware of the dangers.

प्रियंका जी ‘ठोक के बजाने’ का मतलब भी समझा दीजिए

आपकी दादी ने भरसक प्रयास किया हमारा गला घोंटने का, हमें कुचलने का। अब आप प्रयास कर रही हैं। बढ़िया है, आपको शुभकामनाएं।

With Samajwadi Party leader’s name emerging as truck owner in Unnao rape victim road accident, question is who did it?

BJP MLA Kuldeep Singh Sengar, who is the prime accused in the 2017 Unnao rape case, is also accused as the one who tried...

What rallying of all anti-Modi forces behind Mamata Banerjee tells us about the opposition campaign and the ‘Khan Market gang’

Even if it means to close your eyes when the democracy is in danger and rally behind a leader who is shredding democratic values to pieces, it's all acceptable and even celebrated by the leftist hypocrite media.

Why Amit Shah should thank Priyanka Vadra

For the Congress, the interests of the Family always comes before interests of the party. If the MGB gets below 35 seats, Amit Shah should thank only Priyanka Vadra.

When the selfish royals throw their people to the wolves

The story which is emerging even before election results, is that the good-for-nothing royals have abandoned their troops in the middle of the battlefield to save themselves.

चुनाव लड़ने पर बतानी पड़ती अपनी और पति रॉबर्ट वाड्रा की संपत्ति, इसलिए प्रियंका मैदान छोडकर भागी

प्रियंका गांधी ने वाराणसी से या किसी भी सीट से चुनाव इसलिए नहीं लड़ा क्योंकि जब वो चुनाव लड़ती और नामांकन करती तो उन्हें अपनी, अपने पति रॉबर्ट और बच्चों की संपत्ति का पूरा ब्योरा देना पड़ता, प्रियंका गांधी नहीं चाहती हैं कि उनकी और पति रॉबर्ट वाड्रा की संपत्ति सार्वजानिक हो.

Latest News

Recently Popular