Thursday, December 3, 2020

TOPIC

Nehru loved China

Pavlov’s Puppies

In the aftermath of the 1962 war, whenever the Chinese have violated the LAC, the communist left leaning Indian media, has managed to convince India that China is too strong an enemy to face in case of an armed conflict. The only way to solve a border dispute with China is to stand down and have talks. Conflict with Pakistan was never viewed in the same prism (Maybe

Indo-China relations: Case for a change in India’s foreign policy

China has routinely acted against Indian interests whenever it has got a chance. And India has just tried to appease China by giving in to its desires and requests.

Nehru-fed Dragon is now terrifying the whole World

China owes a big thanks to Nehru for bringing China into the world’s mainstream and helping it in engaging with nations in a communist-phobic world, which led to its slow and steady growth in economic prowess and power.

Treacherous China

Indians boycotting the Chinese products be it digital or brick & mortar and hence setting in the economic response to the Chinese aggression.

India -Tibet border to India-China border to Present day: The history every Indian should know

Chinese aggression and occupation of Indian land continued with variable intensity till 2013. Change from 2014 was the resistance to the intrusion of China and the long-needed development happening at the India- China border areas.

A Rashtriya Panchasheel for India

A country decimated by the murderous Mao designed man made famine and actively stuck in the Korean peninsula ruckus - a country with hardly any air force to speak of- delivered a bloody nose to India thanks to Nehru and Krishna Menon.

चीन और कांग्रेस: गलतियों का इतिहास और वर्तमान!

एक विपक्ष के तौर पे आपको सवाल पूछने का पूरा हक है लेकिन पक्ष में रहते हुए जो कर्म आपने किये है, उनका जवाब आपको भी तो देना पड़ेगा ना क्योंकि वर्तमान आपकी अतीत की गलतियों का परिणाम है!

पंडित नेहरू की गलतियां जिसे आज भी भुगत रहा हिन्दुस्तान

1962 की हार सेना की हार नहीं थी बल्कि राजनैतिक नेतृत्व की हार थी। राजनैतिक नेतृत्व में गलतियां की थी इसकी वजह से हुआ था। 1962 में चीन के साथ युद्ध से ठीक पहले यही हो रहा था। प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू और जनरल थिमैया से जुड़ी हुई कहानी है।

भारत-चीन पर राहुल का सवाल

भारत ही नेहरू के नेतृत्व में पहला गैर साम्यवादी जनतांत्रिक राज्य था जिसने जनवादी कम्युनिस्ट चीन को मान्यता प्रदान की. नेहरू उस दौर में चीन को लेकर इतने रोमांटिक (कल्पनावादी) हो गए थे कि तिब्बत पर चीन का आधिपत्य स्वीकार कर लिया. पर जब 1962 में चीन ने भारत पर हमला किया तो नेहरू की विदेश नीति चौपट हो गई थी.

Latest News

प्राण व दैहिक स्वतंत्रता अनुच्छेद 21

हमारे सनातन धर्म की मूल भावना "जीयो और जीने दो" तथा "सभी जीवो को अपना जीवन अपनी ईच्छा से जीने का अधिकार है" में निहित है मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम ने भी अपने संपूर्ण जीवन काल मे प्रत्येक जीव के प्राण व दैहिक स्वतंत्रता को अमुल्य व सर्वोपरि मानकर प्रतिष्ठित किया

2020: An unprecedented, unpredictable, and uncertain year

Who could have imagined that the “unique 2020” would ironically turn into the most "unprecedented, unpredictable, and uncertain 2020" of historic proportions, perhaps not even worth remembering and writing about?

Mr. Ahmad Patel, they missed you!

Through the obituaries and condolences written by MSM journalists, one can easily see as to why these power brokers who used to enjoy the access to power corridors are so unnerved as they miss the absence of jugglers and conjurers in current regime.

गुपकार गैंग द्वारा रोशनी एक्ट की आड़ में किया गया 25000 करोड़ रुपए का घोटाला!

व्यवस्था का लाभ उठाकर 2001 से 2007 के बीच गुपकार गैंग वालों ने मिलकर जम्मू-कश्मीर को जहाँ से मौका मिला वहाँ से लूटा, खसोटा, बेचा व नीलाम किया और बेचारी जनता मायूसी के अंधकार में मूकदर्शक बनी देखती रही।

Death of the farmer vote bank

While in the case of a farmer the reform delivered double benefit but the political class faces double whammy, that of losing its captive vote bank that was dependent on its sops and secondly losing the massive income they earned as middlemen between the farmer and the consumer. Either the farmer is misinformed or wrongly instigated, otherwise it is impossible to conceive that any farmer should be actually unhappy or opposed for being given more choices, as to whom to sell their produce.

Recently Popular

गुप्त काल को स्वर्ण युग क्यों कहा जाता है

एक सफल शासन की नींव समुद्रगप्त ने अपने शासनकाल में ही रख दी थी इसीलिए गुप्त सम्राटों का शासन अत्यधिक सफल रहा। साम्राज्य की दृढ़ता शांति और नागरिकों की उन्नति इसके प्रमाण थे।

सामाजिक भेदभाव: कारण और निवारण

भारत में व्याप्त सामाजिक असामानता केवल एक वर्ग विशेष के साथ जिसे कि दलित कहा जाता है के साथ ही व्यापक रूप से प्रभावी है परंतु आर्थिक असमानता को केवल दलितों में ही व्याप्त नहीं माना जा सकता।

वर्ण व्यवस्था और जाति व्यवस्था के मध्य अंतर और हमारे इतिहास के साथ किया गया खिलवाड़

वास्तव में सनातन में जिस वर्ण व्यवस्था की परिकल्पना की गई उसी वर्ण व्यवस्था को छिन्न भिन्न करके समाज में जाति व्यवस्था को स्थापित कर दिया गया। समस्या यह है कि आज वर्ण और जाति को एक समान माना जाता है जिससे समस्या लगातार बढ़ती जा रही है।

Pt Deen Dayal Upadhyaya and Integral Humanism

According to Upadhyaya, the primary concern in India must be to develop an indigenous economic model that puts the human being at centre stage.

Daredevil of Indian Army: Para SF Major Mohit Sharma’s who became Iftikaar Bhatt to kill terrorists

Such brave souls of Bharat Mata who knows every minute of their life may become the last minute.