Tuesday, April 16, 2024

TOPIC

Nationalism vs Patriotism

“जिद” और चरित्र में अकड़ आवश्यक है

जिद्दीपन है ना जब सकारात्मक हो समाजिकता से ओत प्रोत हो, नैतिकता से परिपूर्ण हो और राष्ट्रवाद की भावना के रस से सराबोर हो तो कभी सावरकर, कभी भगत, कभी नेताजी, कभी आज़ाद, कभी बिस्मिल, कभी लाल बाल और पाल तो कभी सरदार, कभी मुखर्जी, कभी उपाध्याय, कभी शास्त्री, कभी अटल, कभी आडवाणी तो कभी नरेंद्र दामोदर दास मोदी बनकर समस्त विश्व को प्रभावित कर देता है और अपने रंग में रंग देता है।

Nationalism, pitched well, can emerge as a powerful nudge: India is showing, how?

Let us see how nationalism in the recent times has received traction, with a strong intent for mass persuasion and influence in the matters of governance and political action.

Crisis of nationalism in India 2020

It is always a valuable exercise to freshly imagine what our country means to us, but in doing so we would do well to remember that when it comes to divisions of race, ethnicity, and religious belief, the unforgotten is the destroyer of nations.

The rise of nationalism

Surge of nationalism which is not seeing any downward trend since 2014.

आखिर क्या है वीर सावरकर का हिंदुत्व जिससे वामपंथी चिढ़ते हैं?

सावरकर का मानना था कि सामाजिक अनुबंध के आधार पर राष्ट्र राज्य मजबूत नहीं हो सकता है तथा राष्ट्रीय एकता स्थापित करने के लिए कोई मजबूत बंधन आवश्यक है। आज जब देश के अलग-अलग क्षेत्रों में जिहादी-वामपंथी गठजोड़ के नेतृत्त्व में अलगाववादी आवाज़े उठती हैं तो सावरकर का सामाजिक अनुबंध को लेकर दृष्टिकोण स्पष्ट समझा जा सकता है।

Being patriotic, being nationalist

A rebuke to the vicious attempt to divide the country on the nationalist-patriot issue.

An open letter to Dr. Percy Fernandez and Ms. Elsa Ashish

The subjects of the papers were ‘Culture, Gastronomy and the Politics of Beef in Digital India’ and ‘His Master’s Voice: Cultural appropriation and ‘MODI-fication of Indian Media’.

Agenda cum propaganda first, nation second

What is more important: Nationalism or Patriotism?

Latest News

Recently Popular