Thursday, September 29, 2022

TOPIC

Muslims supporting Tablighi Jamat

Indian, when it suits them

They hide behind, "We are Indian too" till it suits them. Then, they pick up arms, right behind us!

Behind the picture: “Is it fear & compulsion or communalism”?

If we summarize current situation amid corona pandemic and series of acts done by the Talibaghi Jamatis and some miscreants belongs to Muslim community, one cannot simply brush aside the fact that yes; there is a sense of fear amongst general public.

तबलीगी जमात भारतीय संस्कृति के दुश्मन

कोरोना महामारी देश में फैली जिसके पश्चात देश ने तबलीगी जमात के बारे में जाना कि यह जमात क्या कार्य करती है। धर्म को संस्कृति से आगे रखकर मुसलमानों में धार्मिक चेतना की आग को और तेज करना चाहती है जिसके परिणाम स्वरूप यह दुनिया खुद ही दो हिस्सों में बट जाएगी।

Know everything about Tablighi Jamaat

Tablighi Jamaat had founded to tackle the Shuddhi Movement by Swami Dayanand Sarasvati, where the main task was to bring back the people who converted to Islam.

The rotten heads of Muslim society

The reason why Muslims live in groups today is because of the isolation of this society. Gradually, as they became isolated from society, they confined themselves to a certain boundary.

बहराइच में मांस विक्रेता कलीम ने इंस्पेक्टर गौरव सिंह पर धारदार हथियार से हमला किया

सब इंस्पेक्टर गौरव सिंह ने लाक डाउन की बात कहते हुए दुकान को बंद करने का आग्रह किया लेकिन मीट विक्रेता कलीम ने उनकी बात नहीं सुनी और धारदार हथियार से हमला कर दिया।

Yes, I am Islamophobic!

Someday, I hope that a majority of my country see things the same way and has the courage to call a spade, a spade and do away with these shackles that the liberal elite have so cleverly blinded us with and call out any heinous crime in the name of religion.

सुरक्षा कर्मियों पर हमले क्यों?

अन्ना आंदोलन के बाद सरकार विरोधी बात करने वालों को अभूतपूर्व रूप से महिमामंडित करने की प्रवृत्ति ने असफल लोगों के अंदर कुंठा उत्पन्न की और यही कुंठा आज देश के अंदर बात बात पर पुलिस पर हमले के रूप में सामने आ रही हैं।

Meltdown of a secular journalist

Sr. journalist, Saba Naqvi's stand is of an apologist, someone who condones violence, a position of a hypocrite with jaundice.

जिहादी सोच वही, अंदाज़ नया

अभी के कोरोना संकट में जो तब्लीगी जमात ने किया वो फिर से इस बात की पुष्टि करता है की मुस्लमान परिवार सहित मरने को तैयार है लेकिन भारत के कानून को नहीं मानेगा।

Latest News

Recently Popular