Wednesday, November 30, 2022

TOPIC

Mamata Banerjee opposing CAA

The real Parivartan is to be ushered in now

CM Mamata's politics of senseless appeasement like opposing the CAA and appointing a Muslim cleric on Tarkeshwar Temple Board have created much discontent and disillusionment.

लोकतंत्र के महापर्व में जागृत होता बंगाल और ममता दीदी की बौखलाहट

मता ने कभी देश की परवाह ही नहीं की, उनके लिए चुनाव जीतना ही हमेशा महत्वपूर्ण रहा। चुनाव जीतने के इसी लालच में उन्होंने बांग्लादेशी घुसपैठियों को भी पश्चिम बंगाल में आने दिया। न सिर्फ आने दिया बल्कि उनको बसाया भी।

बंगाल में किसकी सत्ता: भाजपा या कांग्रेसी “दीदी”?

कांग्रेसीयों को भी शर्मसार कर देने वाली मुस्लिम तुष्टिकरण की निती को अपनाकर दीदी ने संविधान के अनुच्छेद 14, 15, 19 व 21 की धज्जियां उड़ाते हुए सनातनधर्मीयों को बरबादी की ओर ढकेल दिया, यहाँ तक की बंगलादेशी घुसपैठियों का ताण्डव भी सनातनधर्मी सहने के लिये मजबूर हो गये!

8 reasons why Mamata Banerjee is hiding number of Corona Positive cases in West Bengal

Is Mamata Banerjee too ashamed to take any help from Central Government, because of her own past deeds?

5 essentials you need for this protest season!

We hope this starter pack helps you, and don't forget to regularly update your Instagram and twitter with pics of protest!

Raghul Vinci support Judas Iscariot – Mamata asking for UN referendum on CAA

Are the so called liberal left voices are exhibiting their democratic rights or undermining India in the name of protesting against CAA.

Latest News

Recently Popular