Saturday, May 8, 2021
4 Articles by

Shailendra Kumar Singh

Social Entrepreneur and Activist, Bagaha, West Champaran, Bihar

लोकतंत्र के महापर्व में जागृत होता बंगाल और ममता दीदी की बौखलाहट

मता ने कभी देश की परवाह ही नहीं की, उनके लिए चुनाव जीतना ही हमेशा महत्वपूर्ण रहा। चुनाव जीतने के इसी लालच में उन्होंने बांग्लादेशी घुसपैठियों को भी पश्चिम बंगाल में आने दिया। न सिर्फ आने दिया बल्कि उनको बसाया भी।

पराक्रम दिवस, कुछ ऐतिहासिक तथ्य और नेताजी से प्रेरणा पाता आत्मनिर्भर भारत

प्रधानमंत्री ने कहा कि आज ‘आत्मनिर्भर भारत’ की ओर अग्रसर हो रहा देश बार बार नेताजी से प्रेरणा पाता है। उन्होंने कहा कि आज हम स्त्रियों के सशक्तिकरण की बात करते हैं नेताजी ने उस समय ही आज़ाद हिन्द फौज में ‘रानी झाँसी रेजिमेंट’ बनाकर देश की बेटियों को भी सेना में शामिल होकर देश के लिए बलिदान देने के लिए प्रेरित किया।

राष्ट्रीय युवा दिवस और प्रधानमंत्री मोदी की अपील

स्वामी विवेकानंद जी की जयंती है, लेकिन बात युवाओं की हो रही थी इसलिए मोदीजी सिर्फ स्वामीजी तक ही नहीं रुके। उन्होंने खुदीराम बोस की बात की, भगत सिंह की बात की, भगवान बिरसा मुंडा की बात की। उन युवाओं की बात की जिन्होंने हमारे सामने उदाहरण पेश किये।

संविधान दिवस: संविधान को मजबूत करने की दिशा में मोदी सरकार का एक कदम

नवंबर, 2015 में सबसे बड़े लोकतंत्र के प्रधानमंत्री ने तय किया कि 26 नवंबर को संविधान दिवस के रूप में मनाया जायेगा। हम जानते हैं कि हमारे देश का संविधान दुनिया का सबसे बड़ा लिखित संविधान है जिसमें 448 अनुच्छेद और 12 अनुसूचियां शामिल हैं।

Latest News

Recently Popular