Saturday, September 26, 2020

TOPIC

Jignesh Mewani

सत्ता के लिए कांग्रेस का संगीन खेल

पंजाब में खालिस्तान, महारष्ट्र में MNS और अब गुजरात में जातिवादी कॉंग्रेस की नीच राजनीति का स्वरूप है.

The Freelancers of chaos

There appears to be a well-orchestrated attempt to spread disharmony

जातिवाद का ज़हर, होगा बेअसर

राहुल गाँधी और अन्य विपक्ष, जातिवाद का वो ज़हर जो लगभग ख़त्म हो चुका है, उसको फिर से जगा रहें हैं, पर ये सब सब व्यर्थ है.

Caste prejudices reborn: All thanks to the secular party Congress

Congress with its allies seems to have stooped to the last dirty level to be in the government.

“कांग्रेस मुक्त भारत” बनाने की तरफ मोदी का एक और कदम

कांग्रेस और उसके सहयोगी जब तक देशद्रोह, साम्प्रदायिकता, जात-पात और नकारात्मकता की अपनी नीतियों का त्याग नहीं करेंगे, भाजपा का विजय रथ इसी तरह से निर्बाध रूप से चलता रहेगा.

It was ‘KHAMP’ vs. Gujarati in Gujarat Assembly Elections 2017

18th December made it clear that for Gujaratis their state is more important than their caste.

After ‘KHAM’, Congress relies on ‘PODA’ for Gujarat

Kham had helped Congress sweep assembly elections in Gujarat in 1985.

Gujarat election: Caste engineering or national destruction?

Does rising of Casteist leaders ensure political empowerment to backward castes or National Destruction?

गुजरात चुनाव परीक्षा आखिर किसकी

राहुल गाँधी राज्य में जिस प्रकार जाति आधारित राजनीति करने में लगे हैं उससे यह कहना गलत नहीं होगा कि असली परीक्षा मोदी की नहीं गुजरात के लोगों की है।

Latest News

Yogi Adityanath is right when he says “How can Mughals be our hero”

Why the name is important if that’s the question then given the free run of the secular historians right from the dawn of India’s independence, made us almost forget our own history, our ancestry, our tradition, and our culture.

GDP fall: Can we overcome this?

We should understand the fact that due to the pandemic situation, the whole world went on for a lockdown because heath is a major concern for any government.

Changes in labour laws – Kaal is the issue

Most of the above changes are going to help in doing business at ease which will eventually attract investors, including FDI. Only concern is, elimination of Standing Orders and elimination of labour unions’ interference for establishments employing up to 300 workers will not go down well with people as it will hinder job security of the workers.

25 सितम्बर/जन्म-दिवस एकात्म मानववाद के प्रणेता दीनदयाल उपाध्याय

सुविधाओं में पलकर कोई भी सफलता पा सकता है, किन्तु अभावों के बीच रहकर शिखरों को छूना बहुत कठिन है। 25 सितम्बर, 1916 को जयपुर से अजमेर मार्ग पर स्थित ग्राम धनकिया में अपने नाना पण्डित चुन्नीलाल शुक्ल के घर जन्मे दीनदयाल उपाध्याय ऐसी ही विभूति थे।

जांबाज पुलिस

"बीजेपी और आरएसएस के एजेंट पाए जाने पर सख्त कार्यवाही होगी। बुकिंग था कि नहीं यह जांच का विषय नहीं है! धार्मिक आधार पर भेदभाव बर्दास्त नही होगी। "नो बॉडी विल ट्राय टू डिस्टर्ब कम्युनल हार्मोनी इन बंगाल! मा माटीर मानुस! जय बंगला! अमार बंगला! सोनार बंगला! विश्व बंगला! जय कोलकाता पुलिस।"

Recently Popular

Ambedkar vs India’s Freedom

There is a deeper story to Ambedkar's journey than most know

पोषण अभियान: सही पोषण – देश रोशन

भारत सरकार द्वारा कुपोषण को दूर करने के लिए जीवनचक्र एप्रोच अपनाकर चरणबद्ध ढंग से पोषण अभियान चलाया जा रहा है, भारत...

Breaking India: Bangla Pokkho in Bengal, like Kashmiriyat in Kashmir

Prima Facie, it would look like any regional linguistic movement, like Shiv Sena's Marathi Maanoos (Person) and Marathi Asmita (Pride) movement, or Tamizh Pride that Dravidian Parties project. But if we scratch the surface we will observe that it is a very smartly devised separatist movement under the guise of linguistic regionalistic sub-nationalism.

New Education Policy- Winning the world with the Bharat centric Values

The NEP is an ambitious document, which is focused on the holistic and overall development of the students to make them Aatmnirbhar and to enable them to compete with the world while maintaining the Bharat centric values and culture.

सामाजिक भेदभाव: कारण और निवारण

भारत में व्याप्त सामाजिक असामानता केवल एक वर्ग विशेष के साथ जिसे कि दलित कहा जाता है के साथ ही व्यापक रूप से प्रभावी है परंतु आर्थिक असमानता को केवल दलितों में ही व्याप्त नहीं माना जा सकता।
Advertisements