Saturday, February 27, 2021

TOPIC

China war 1962

India -Tibet border to India-China border to Present day: The history every Indian should know

Chinese aggression and occupation of Indian land continued with variable intensity till 2013. Change from 2014 was the resistance to the intrusion of China and the long-needed development happening at the India- China border areas.

चीन के दुस्साहस वायरस की मानेकशॉ थैरेपी

चीन की सेना विशाल जरूर है, मगर उसकी मौजूदा सेना में किसी सैनिक या अफसर ने कभी कोई जंग नहीं लड़ी और फिर पहाड़ी की लड़ाई तो और भी कठिन आयाम है, जिसमें भारतीय सेना को महारत हासिल है।

पंडित नेहरू की गलतियां जिसे आज भी भुगत रहा हिन्दुस्तान

1962 की हार सेना की हार नहीं थी बल्कि राजनैतिक नेतृत्व की हार थी। राजनैतिक नेतृत्व में गलतियां की थी इसकी वजह से हुआ था। 1962 में चीन के साथ युद्ध से ठीक पहले यही हो रहा था। प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू और जनरल थिमैया से जुड़ी हुई कहानी है।

When we fought with just hope: A heart touching tale of 1962 India China war

A battle which broke Chinese morale, as 1300 Chinese fell in order to capture 120 Indians.

Why is China so aggressive?

The Chinese Ox is in the China shop destroying China itself with it's desperate attempts to fool it's citizenry, and one way or other this will not end well for China.

Indians are dancing to China’s propaganda songs

India won't repeat the mistake of Jawahar Laal Nehru and will be alert this time when it comes to trusting China

CPI(M)’s unconditional help to China

CPI(M) is an apt example of 'curst cows have short horns'. India should be aware of its internal enemies as well as external enemies.

Latest News

Recently Popular