Tuesday, October 20, 2020

TOPIC

Caste Based Politics

Caste on wheels

Showing the caste names opening on the wheels and investing wholeheartedly of to which caste one is brought into the world is such backward and in reverse and absolutely not dynamic or forward looking.

जातिवादी नेताओं कि हिंदुओं को तोड़ने वाली राजनीति

सदियों से सोया हुआ हिंदू समाज आज जागरूक हो गया है. देश में जब से एक राष्ट्रवादी सरकार बनी है और अन्य प्रदेशों में भी उसका प्रभाव दिखाई देने लगा है और जनता ने इन सर्कुलर वामपंथी और समाजवादी पार्टियों को खदेड़ दिया है.

Politicians-Criminals-Bureaucratic nexus: Saga of crime – punishment, political administration of UP

criminal is never dependent on political shade but interdependent on the three-round circles: politicians-criminals-bureaucratic nexus.

जाति व्यवस्था वर्ण व्यवस्था एवं प्रचलित वैचारिक विष

जाति व्यवस्था पर हमारे समाज में अत्यधिक भ्रम उत्पन्न किया गया है। इतने वर्षों के घोषित अघोषित दासता काल में हिन्दू सभ्यता के विरुद्ध अनेक षड्यंत्र किये गए हैं। जैसे वर्तमान में सर्वाधिक प्रचलित षड्यंत्र है caste system।

EPS outwitted Stalin in alliance politics, made AIADMK Phoenix, nullified double anti-incumbency, DMK at the mercy of alliance and appeasement

Today if we look at the situation of DMK and Stalin, it is quite sickening. Stalin cannot win next election without congress, VCK, MDMK and left parties.

The real reason why Shiv Sena is keen to align with NCP in Maharashtra

Returning to the 'politics of performance' epitomised by Fadnavis' leadership and not succumb to Opposition's caste led politics will be the biggest challenge for Modi-Shah duo.

Election 2019 myth broken

This election broke lots of myth in Indian politics. Elections can be won by religion and cast calculation was forgone conclusion. Secular leaders are in shock because their loyal minority constituency decided to think differently.

They prefer to doubt EVM & EC but not their invalid formula

If the opposition only had reviewed their formula; they would have noticed that the factors in the formula had undergone tremendous change and a new counter balancing factor called Nationalism has figured in the equation in favour of the BJP.

चुनाव: जाति और धर्म का

प्रत्याशी की जाति क्या है इसे देखकर टिकट का बटवारा भी किया जाता है। अगर किसी प्रत्यासी ने विकास के नाम पर, अपने कार्य के नाम पर वोट मांगने की जुर्रत दिखाई तो हो सकता है उसे मुँह की खानी पड़े।

Here is a solution to the caste system, and it’s not what you think

An attempt to trigger a debate and discussion. What should be done to make a caste-less society?

Latest News

शांत कश्मीर और चिदंबरम का 370 वाला तीर

डॉ. मनमोहन सिंह की सरकार के सबसे शक्तिशाली मंत्रियो में से एक चिदंबरम आज वही भाषा बोल रहे है जो पाकिस्तान संयुक्त राष्ट्र तथा अन्य अंतर्राष्ट्रीय मंचो पर बोलता आया है। चिदंबरम यही नहीं रुके उन्होंने अलगाववादियों को भी महत्व देने की बात कही है।

मिले न मिले हम- स्टारिंग चिराग पासवान

आज के परिपेक्ष्य में बिहार का चुनाव कई मायनो में अलग है। मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री पारम्परिक राजनीती वाली रणनीति का अनुसरण कर रहे है तो वही युवा चिराग और तेजस्वी विरासती जनाधार को नए भविष्य का सपना दिखने का प्रयास कर रहे है।

How BJP can win seats in Tamil Nadu and Kerala

It is time for BJP to eye on Tamil Nadu and Kerala. In Lok Sabha election 2024 BJP will win ±15 seats in TN and ±3 seats in Kerala.

Brace for ad Jihad

Delusionary fairy tale

Why this hullabaloo about shifting Bollywood?

Let the new film city emerge as the genuine centre for producing high quality films that are genuinely Indian and be helpful in building a strong value-based society.

Recently Popular

Jallikattu – the popular sentiment & ‘The Kiss of Judas Bull’ incident

A contrarian view on the issue being hotly debated.

सामाजिक भेदभाव: कारण और निवारण

भारत में व्याप्त सामाजिक असामानता केवल एक वर्ग विशेष के साथ जिसे कि दलित कहा जाता है के साथ ही व्यापक रूप से प्रभावी है परंतु आर्थिक असमानता को केवल दलितों में ही व्याप्त नहीं माना जा सकता।

Twitter wrongfully reports Jammu & Kashmir’s location again

In February of this year Twitter was accused of getting Jammu & Kashmir’s location wrong.

How I was saved from Love Jihad

A personal experience of a liberal urban woman and her close brush with Islam.

हिंदू धर्म की भावनाओं को ठेस पहुंचाना कहां तक उचित है??

विज्ञापन में दिखाए गए पात्रों के धर्म एक दूसरे से बदल दिए जाएं तो क्या देश में अभी शांति रहती। क्या तनिष्क के शोरूम सुरक्षित रहते। क्या लिबरल तब भी अभिभ्यक्ती की स्वतन्त्रता की बात करते।