Thursday, December 3, 2020

TOPIC

Anti Conversion Law

आओ तेजस्विनी, प्रेम की बात करें

इसे लव जिहाद कहा जाये या कुछ और किन्तु सच यही है कि लड़कियों के धर्म परिवर्तन के लिए प्रेम का ढोंग किया जा रहा है और उसमें असफलता मिलने पर उनकी हत्या।

लव जिहाद अध्यादेश और कॉंग्रेस का विरोध

से तो संघ और विहिप के द्वारा ये मुद्दा अनेक वर्षों से उठाया जा रहा है लेकिन अभी हाल ही के दिनों में ये देश का एक चर्चित मुद्दा बन गया, जब मध्यप्रदेश ने इस पर कानून बनाकर इसे लागू कर दिया तथा सभी भाजपा शासित राज्य इस पर कानून बनाने की प्रक्रिया में है।

Joshua Project and the need for an anti-conversion law

The precise planning, the in-depth study of various ethnic groups, the economics of these people, and their belief system by Christian missionaries is a thing to worry about.

When Congress leader Jayanti Natarajan gave statements for fragmentation & destruction of the Hindu society

In her most stunning feat Mrs Natarajan held that the right to propagate one's religion under Article 25 includes the right to convert. She outdid even Father Dominic Emmanuel in her zeal to advocate conversions.

Elitism: Dawn of destruction

Why should we raise voice against any injustice when it is budding in the society? Does the sense of being an elite work as a tool to divide and rule?

Why anti-India forces like proselytism faces a big fiasco

By All India Anti-conversion law, the sugar coating of the Christian missionaries and love jihad by Mullahs on poor and misguided Hindus won’t be possible and this will help maintain original demography and will diminish the religious- disharmony in the country.

Modi 2.0; a Déjà Vu

Is a latent Appeasement Policy being bandied as some ameliorating exercise like special grants and benefits to Muslim minority?

Heinous crimes of Church: Can law really not punish Church?

Child trafficking to sex scandal and land scam: Nothing can punish the Church priest under the shield of Canon Law.

गैर मुस्लिम बहू मंजूर है, दामाद नहीं

इस लेख का मकसद लव जिहाद को उजागर करना नही है, लेकिन उन नामों को सबसे पहले उजागर करना जरूरी हो गया है जो ऐसे मामलों को सिर्फ अंतर-धार्मिक, सेक्यूलर शादी साबित करने पर तुले हैं।

Latest News

प्राण व दैहिक स्वतंत्रता अनुच्छेद 21

हमारे सनातन धर्म की मूल भावना "जीयो और जीने दो" तथा "सभी जीवो को अपना जीवन अपनी ईच्छा से जीने का अधिकार है" में निहित है मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम ने भी अपने संपूर्ण जीवन काल मे प्रत्येक जीव के प्राण व दैहिक स्वतंत्रता को अमुल्य व सर्वोपरि मानकर प्रतिष्ठित किया

2020: An unprecedented, unpredictable, and uncertain year

Who could have imagined that the “unique 2020” would ironically turn into the most "unprecedented, unpredictable, and uncertain 2020" of historic proportions, perhaps not even worth remembering and writing about?

Mr. Ahmad Patel, they missed you!

Through the obituaries and condolences written by MSM journalists, one can easily see as to why these power brokers who used to enjoy the access to power corridors are so unnerved as they miss the absence of jugglers and conjurers in current regime.

गुपकार गैंग द्वारा रोशनी एक्ट की आड़ में किया गया 25000 करोड़ रुपए का घोटाला!

व्यवस्था का लाभ उठाकर 2001 से 2007 के बीच गुपकार गैंग वालों ने मिलकर जम्मू-कश्मीर को जहाँ से मौका मिला वहाँ से लूटा, खसोटा, बेचा व नीलाम किया और बेचारी जनता मायूसी के अंधकार में मूकदर्शक बनी देखती रही।

Death of the farmer vote bank

While in the case of a farmer the reform delivered double benefit but the political class faces double whammy, that of losing its captive vote bank that was dependent on its sops and secondly losing the massive income they earned as middlemen between the farmer and the consumer. Either the farmer is misinformed or wrongly instigated, otherwise it is impossible to conceive that any farmer should be actually unhappy or opposed for being given more choices, as to whom to sell their produce.

Recently Popular

गुप्त काल को स्वर्ण युग क्यों कहा जाता है

एक सफल शासन की नींव समुद्रगप्त ने अपने शासनकाल में ही रख दी थी इसीलिए गुप्त सम्राटों का शासन अत्यधिक सफल रहा। साम्राज्य की दृढ़ता शांति और नागरिकों की उन्नति इसके प्रमाण थे।

सामाजिक भेदभाव: कारण और निवारण

भारत में व्याप्त सामाजिक असामानता केवल एक वर्ग विशेष के साथ जिसे कि दलित कहा जाता है के साथ ही व्यापक रूप से प्रभावी है परंतु आर्थिक असमानता को केवल दलितों में ही व्याप्त नहीं माना जा सकता।

वर्ण व्यवस्था और जाति व्यवस्था के मध्य अंतर और हमारे इतिहास के साथ किया गया खिलवाड़

वास्तव में सनातन में जिस वर्ण व्यवस्था की परिकल्पना की गई उसी वर्ण व्यवस्था को छिन्न भिन्न करके समाज में जाति व्यवस्था को स्थापित कर दिया गया। समस्या यह है कि आज वर्ण और जाति को एक समान माना जाता है जिससे समस्या लगातार बढ़ती जा रही है।

Pt Deen Dayal Upadhyaya and Integral Humanism

According to Upadhyaya, the primary concern in India must be to develop an indigenous economic model that puts the human being at centre stage.

Daredevil of Indian Army: Para SF Major Mohit Sharma’s who became Iftikaar Bhatt to kill terrorists

Such brave souls of Bharat Mata who knows every minute of their life may become the last minute.