Saturday, February 27, 2021

TOPIC

Subhash Chandra Bose

Liar liar, lobbyists caught with their pants on fire, over Netaji’s portrait row

These so called fake liberals are so cocksure of themselves and so full of hatred that they have dared to mock the President twice in a week.

Partition of India and Netaji

Had all Indians taken arms against British and supported Azad Hind Fauz of Netaji from within India in 1942 instead of allowing the Congress to launch non-violent ‘Quite India Movement’ of Gandhi, the history of sub-continent would have been different.

नेताजी सुभाष चन्द्र बोस जयंती विशेष: हर भारतीयों के लिए पराक्रम के प्रतीक

भारत माता के सपूत के स्वतंत्रता सेनानी नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती को केंद्र सरकार ने हर साल पराक्रम दिवस के रूप में मनाने का फैसला किया है।

महापुरुषों के जीवन-निकष पर हम कितना खरा उतर पाए हैं?

संपूर्ण विश्व में न्याय, समानता एवं स्वतंत्रता के पैरोकार एवं प्रशंसक नेताजी सुभाष चंद्र बोस से प्रेरणा ग्रहण करते हैं और करते रहेंगें। उनकी प्रतिभा एवं देशभक्ति, जीवटता एवं संघर्षशीलता, साहस एवं स्वाभिमान, स्वानुशासन एवं आत्मविश्वास, संगठन एवं नेतृत्व-कौशल, ध्येय एवं समर्पण सहसा विस्मित करने वाला है।

Peaceful or aggressive pressure: What were the reasons behind India’s independence?

While most claim that it was the nonviolent movement propagated by Mahatma Gandhi that led to this success, I want to advocate for the importance of the pressure created by more aggressive actions taken by leaders like Subash Chandra Bose.

कांग्रेस ने दिलाई भारत को आजादी: गर्व या शर्म

क्या हमने कभी सोंचा है कि कैसा होता अगर भारत को सुभाष चंद्र बॉस जी की आजाद हिन्द फौज ने आज़ादी दिलाई होती, या फिर 1857 की क्रान्ति का अंत देश की आजादी के साथ होता। मेरे विचार से तो तब शायद हमे देश की आज़ादी पर खुशी के साथ-साथ गर्व भी महसूस होता।

Latest News

Recently Popular