Tuesday, November 24, 2020

TOPIC

Society

The second childhood

Statistics show that old age homes in India are increasing rapidly. According to 2020 study, over 39 thousand senior citizens in India received institutional assistance.

Are we in a trap?

We have lost the art of sportsman spirit in the society.

Recommender systems and their great baggage

What is so interesting about this term? What do they imply? Do they deserve our concern? Before we get into that, let’s dive deeper into its connection with our day to day lives.

Growing menace of rape in India

No reform can be successful, unless it is accepted by the people at large. The societal attitude towards rape and its victims must change.

3 ways you can serve India without changing your way of life

Although we held the nation high in our lives, most of us often fail to participate in the interests of our great nation. The main problem we here face is not being able to find a way that doesn't ask for a sacrifice. You spend your evenings wondering about the solution that allows you to take some action for the betterment of your country without losing your way of life.

The atrocious portrayal of Indian Air Force in movie Gunjan Saxena points to a larger social malaise in Indian media

For the journalists and Bollywood, Indian men and Indian society are irredeemably sexist. Any women who has succeeded in her life could have no support from her family.

भारतीय समाज और नारी

बात करते हैं उस नारी शक्ति की जिनके लिये जीवन आज भी घर की चार दीवारी है, जहाँ महिला को महिला होने का अहसास पल पल करवाया जाता है, उसकी खूबियाँ मात्र इसी बात में निहित है कि उसके खाने में नमक पूरा है और बड़ों की मौजूदगी में घूंघट सदैव लगा रहता है। वो चाहे कितनी भी शिक्षित क्यूँ न हो, उसकी शिक्षा से धनार्जन का कोई संबंध नहीं माना जाता है।

“वैचारिक अधिनायकवाद”

अमेरिका में जो पुलिस द्वारा असंवेदनशील और बर्बर कृत्य हुआ उसका हम जब अवलोकन करते है तो पाते है कि इस घटना की निंदा और विरोध का जो आंदोलन है वो अपने उद्देश्य से दूर कहीं वैचारिक उन्मादी और हिंसक पशु समान लोगो के हाथों में पहुंच गया है जिनको एक चिंगारी की आवयश्कता थी अपनी कुंठा बाहर निकालने के लिए.

Humanitarian hand of Help

Our forefathers and constitution-makers were aware of the discriminatory approach adopted by the residents towards the migrants. That is why they explicitly mentioned that no person shall be discriminated based on their place of birth and residence, explicitly in Article 15 and 16 of the Indian constitution.

खोखलापन सतह पर

दुःख से बड़ा दुःख का प्रस्तुतीकरण बनता जा रहा है. दुःख से परे उसके प्रस्तुतीकरण पर संवेदनाओं और आंसुओं की बाढ़ जो आ गयी है उसे देखकर लगता है जन जन दुखभंजन बनना चाहता है.

Latest News

अस्थिर और बौखलाए पाकिस्तान का विधुर विलाप

बीते सप्ताह पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी एवं आईएसपीआर के डायरेक्टर जनरल बाबर इफ्तिखार ने एक प्रेस वार्ता के दौरान भारत पर तंज कसते हुए यह आरोप लगाया के भारत, पाकिस्तान को अस्थिर करने की मंशा रखने के क्षेत्र में कार्य कर रहा है। यह वैसा ही है जैसा फिल्म वेलकम में उदय भाई का कहना कि मजनूं उनकी एक्टिंग स्किल्स से जलता है।

प्लास्टिक एक घातक हथियार

क्या आपने कभी प्लास्टिक प्रदूषण के नकारात्मक प्रभावों के बारे में सोचा है कि हम अपने स्वास्थ्य और पर्यावरण पर दिन-प्रतिदिन बढ़ रहे हैं?

A deliberate attempt of Varanasi

A city beyond imagination, a city where India starts and ends. A city of magical moments and experience of life.

The second childhood

Statistics show that old age homes in India are increasing rapidly. According to 2020 study, over 39 thousand senior citizens in India received institutional assistance.

Why has “Dangal” become the highest grossing Hindi film?

Dangal won many awards such as Filmfare Awards, Mirchi Music Awards, News 18 Movies Awards, Zee Cine Awards, National Film Awards, Star Screen Awards, and many more.

Recently Popular

Republic’s democracy gets vanquished in inequity

Article encapsulates how scrupulous journalists are badgered and hounded if Doxology's are not sung in favour of political hegemony's.

गुप्त काल को स्वर्ण युग क्यों कहा जाता है

एक सफल शासन की नींव समुद्रगप्त ने अपने शासनकाल में ही रख दी थी इसीलिए गुप्त सम्राटों का शासन अत्यधिक सफल रहा। साम्राज्य की दृढ़ता शांति और नागरिकों की उन्नति इसके प्रमाण थे।

सामाजिक भेदभाव: कारण और निवारण

भारत में व्याप्त सामाजिक असामानता केवल एक वर्ग विशेष के साथ जिसे कि दलित कहा जाता है के साथ ही व्यापक रूप से प्रभावी है परंतु आर्थिक असमानता को केवल दलितों में ही व्याप्त नहीं माना जा सकता।

The story of Lord Jagannath and Krishna’s heart

But do we really know the significance of this temple and the story behind the incomplete idols of Lord Jagannath, Lord Balabhadra and Maa Shubhadra?

Daredevil of Indian Army: Para SF Major Mohit Sharma’s who became Iftikaar Bhatt to kill terrorists

Such brave souls of Bharat Mata who knows every minute of their life may become the last minute.