Thursday, December 3, 2020

TOPIC

Congress vs BJP

Ram Mandir and the fallacy of the Indian National Congress

it’s the same Congress party whose UPA government in 2007 filed an affidavit in the Supreme Court of India to call Lord Shri Ram as Fictional and Ramayana as a story with no historical proofs.

The net loser in Rajasthan’s chaos

From Jaitley and Sushma Swaraj to Anurag Thakur and Tejaswi Surya, the BJP believed in its young guns and that's a major reason why it's never short of good leaders.

सत्ता की भूखी कांग्रेस भारत विरोधी हो जाए तो आश्चर्य न किया जाए; कांग्रेस की कुंठा का विश्लेषण

2014 के बाद से कांग्रेस सत्ता से दूर हो जाती है और यह ध्यान देने योग्य विषय है कि सत्ता से दूर रहने वाली कांग्रेस, सत्ता में रहने वाली कांग्रेस से अधिक घातक हो जाती है।

Alternate reality of those who castigate ‘Bhakts’

They are some of those who live in the 'alternate reality' where they 'believe' Nehru and Mughals are responsible for anything good that happened in India. Simple because Nehru was supposed to be some 'secular' leader and the Mughals, of course god sent rulers.

Spread of political virus in Gujarat by Congress?

Congress won't spare the country from ts cheap politics. Congress always says what people don't want to hear in tough times, breaking country's morale.

माता सीता के साथ कांग्रेसी माता सोनिया की तुलना: जायज या नाजायज?

सोनिया माँ इटली की थी। कलियुग में राक्षस इनके चरित्र पर सवाल कर रहे हैं। अपशब्द कह रहे हैं। और क्याप्सन में लिखा गया है "अभी भी देश में राक्षस जैसी सोच ज़िंदा है, सीता माँ हम शर्मिंदा है"।

भारत में प्रमाणपत्रवाद (सर्टीफिकेशनलिज़्म) का सफर

भारत में आप को भक्त, संघी, चड्डी, अन सेक्युलर के प्रमाणपत्र राह चलते मिल जाएँगे. सिर्फ़ आपको आपके स्पष्ट विचार रखने हैं।

Adamant dynast who wants to remain ‘UN-TEACHABLE’, no amount of defeats is going to help Congress party

At national level, the congress party of the dynast must be defeated and at regional levels, many regional forces work against the ethos of one India and one cultural heritage called Hinduism.

कांग्रेस और राष्ट्रवाद

2019 की पराजय के बाद कांग्रेस के थिंक टैंक ने यह निष्कर्ष निकाला कि भाजपा के राष्ट्रवाद के मुद्दे का कांग्रेस मुकाबला नहीं कर सकी, और यही उनकी पराजय का मुख्य कारण था।

From liberal to conscious expenditure; employee mind set to entrepreneur, cause for economic downturn and unemployment

All those who aspire for New India as envisaged by Modi must work tirelessly in the society to create sufficient awareness about the good governance of Modi and how India is transforming as corruption free, nepotism free, merit centric country.

Latest News

प्राण व दैहिक स्वतंत्रता अनुच्छेद 21

हमारे सनातन धर्म की मूल भावना "जीयो और जीने दो" तथा "सभी जीवो को अपना जीवन अपनी ईच्छा से जीने का अधिकार है" में निहित है मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम ने भी अपने संपूर्ण जीवन काल मे प्रत्येक जीव के प्राण व दैहिक स्वतंत्रता को अमुल्य व सर्वोपरि मानकर प्रतिष्ठित किया

2020: An unprecedented, unpredictable, and uncertain year

Who could have imagined that the “unique 2020” would ironically turn into the most "unprecedented, unpredictable, and uncertain 2020" of historic proportions, perhaps not even worth remembering and writing about?

Mr. Ahmad Patel, they missed you!

Through the obituaries and condolences written by MSM journalists, one can easily see as to why these power brokers who used to enjoy the access to power corridors are so unnerved as they miss the absence of jugglers and conjurers in current regime.

गुपकार गैंग द्वारा रोशनी एक्ट की आड़ में किया गया 25000 करोड़ रुपए का घोटाला!

व्यवस्था का लाभ उठाकर 2001 से 2007 के बीच गुपकार गैंग वालों ने मिलकर जम्मू-कश्मीर को जहाँ से मौका मिला वहाँ से लूटा, खसोटा, बेचा व नीलाम किया और बेचारी जनता मायूसी के अंधकार में मूकदर्शक बनी देखती रही।

Death of the farmer vote bank

While in the case of a farmer the reform delivered double benefit but the political class faces double whammy, that of losing its captive vote bank that was dependent on its sops and secondly losing the massive income they earned as middlemen between the farmer and the consumer. Either the farmer is misinformed or wrongly instigated, otherwise it is impossible to conceive that any farmer should be actually unhappy or opposed for being given more choices, as to whom to sell their produce.

Recently Popular

गुप्त काल को स्वर्ण युग क्यों कहा जाता है

एक सफल शासन की नींव समुद्रगप्त ने अपने शासनकाल में ही रख दी थी इसीलिए गुप्त सम्राटों का शासन अत्यधिक सफल रहा। साम्राज्य की दृढ़ता शांति और नागरिकों की उन्नति इसके प्रमाण थे।

सामाजिक भेदभाव: कारण और निवारण

भारत में व्याप्त सामाजिक असामानता केवल एक वर्ग विशेष के साथ जिसे कि दलित कहा जाता है के साथ ही व्यापक रूप से प्रभावी है परंतु आर्थिक असमानता को केवल दलितों में ही व्याप्त नहीं माना जा सकता।

वर्ण व्यवस्था और जाति व्यवस्था के मध्य अंतर और हमारे इतिहास के साथ किया गया खिलवाड़

वास्तव में सनातन में जिस वर्ण व्यवस्था की परिकल्पना की गई उसी वर्ण व्यवस्था को छिन्न भिन्न करके समाज में जाति व्यवस्था को स्थापित कर दिया गया। समस्या यह है कि आज वर्ण और जाति को एक समान माना जाता है जिससे समस्या लगातार बढ़ती जा रही है।

Pt Deen Dayal Upadhyaya and Integral Humanism

According to Upadhyaya, the primary concern in India must be to develop an indigenous economic model that puts the human being at centre stage.

Daredevil of Indian Army: Para SF Major Mohit Sharma’s who became Iftikaar Bhatt to kill terrorists

Such brave souls of Bharat Mata who knows every minute of their life may become the last minute.