Thursday, June 4, 2020

TOPIC

AAP's fake election promises

Defied lockdown, Lack of vision or extension of politics

Some regular hate-mongering anti-national and anti-establishment forces, deliberately trying to destabilize the government arrangement in such a hard time when the health of the country is on the risk.

Delhi: Collateral damage for nation building

Delhi is the collateral damage the country is bearing to usher Indian Democracy back to a two party democracy with a strong sensible opposition. 

दिल्ली में बनी “टुकड़े टुकड़े गैंग” की सरकार

केजरीवाल को जो ३७ प्रतिशत वोट मिले हैं उनमे से ३० प्रतिशत वोट तो रोहिंग्या बांग्लादेशी घुसपैठियों और मुस्लिम कट्टर पंथियों के हैं जो पिछले काफी समय से नागरिकता कानून का विरोध भी इसीलिए कर रहे थे  कर रहे थे क्योंकि कानून लागू होते ही इन लोगों को धक्के मारकर बाहर निकला जाना तय है.

AAP as replacement of Left?

Left cannot even dream of winning elections in Delhi. But AAP say similar things with more strategy and without directly mocking Hindus.

Delhi: 2015 vs 2020

With remaining 2 weeks left for campaigning it is not a wonder that it might be a repeat of 2015 election but with BJP as the front runner.

दिल्ली में भाजपा की बम्पर जीत लगभग तय

केजरीवाल की पार्टी किस तरह से एकदम हाशिये पर पहुँच चुकी है, उसका अंदाज़ा दिल्ली में पिछले 5 सालों में हुए नगर निगम और लोकसभा चुनावों की परिणामों को देखकर आसानी से लगाया जा सकता है.

AAP’s hollow claims exposed-AAP fielded candidates with criminal cases

Arvind Kejriwal gave Lok Sabha tickets to people with 380 and 382 cases against them, and was talking of 'clean candidates' in Goa and had the audacity to claim that AAP will field only clean candidates!

Overconfident AAP is celebrating too early in Delhi?

AAP seems to be very confident about coming back to power in Delhi but is it so easy, the absence of CM face in Delhi and regularisation of 40 lakhs unauthorized housed in Delhi by the Modi government makes this election Modi vs Kejriwal round 2.

Why Kejriwal wants a free ride to the CM office

The 2015 manifesto of AAP spoke about CCTVs in all buses. AAP has promised to install CCTVs again. Of course, just CCTVs will not be safe enough for the AAP to secure their seats in 2020 election. They need some free passes to ride their luck.

अंगूर खट्टे कह कर पत्रकारिता में फिर से लौटे आशुतोष जमकर चला रहे हैं एजेंडा

यह पहली बार नहीं है जब से आशुतोष फिर से पत्रकार अपने को घोषित किए हैं, लगातार भाजपा के खिलाफ एजेंडा चलाए जा रहे हैं। राज्यसभा सीट केजरीवाल ने नहीं दी और उसका भड़ास भाजपा के खिलाफ क्यों निकाल रहे है।

Latest News

एक मुख्यमंत्री जो भली भांति जानता है कि संकट को अवसर में किस प्रकार परिवर्तित करना है: भारत के सर्वाधिक लोकप्रिय मुख्यमंत्री के प्रयासों...

भारत के इन सेक्युलर, लिबरल और वामपंथियों को यह रास नहीं आया कि भगवा धारण करने वाला एक हिन्दू सन्यासी कैसे भारत के सबसे बड़े राज्य का प्रशासक हो सकता है। लेकिन यह हुआ।

2020 अमेरिका का सब से खराब साल बनने जा रहा है? पहले COVID-19 और फिर दंगे

America फिर से जल रहा है: आंशिक रूप से, जैसा कि हिंसा भड़कती है, पुलिस और उनके वाहनों पर हमला किया जाता...

Corona and a new breed of social media intellectuals

Opposing an individual turned into opposing betterment of your own country and countrymen.

Why peaceful borders with India pose a threat to Pakistan’s sovereignty

Although a religion may have some influence on the culture of the society as a whole but it can never disassociate an individual from the much broader way of life which defines culture. Indonesia is a great example of the above stated distinction.

आपको पता भी नहीं है और आपके मंदिरों को लूटने के षड़यंत्र रचे जा रहे हैं

मंदिर हमारी धार्मिक और आध्यात्मिक आस्था के केंद्र रहे हैं। सनातन धर्म की स्थापना में मंदिरों का योगदान सहस्त्राब्दियों से सर्वोच्च रहा है। ऐसे में हम कुछ दो चार पाखंडी वामपंथियों और विधर्मियों के हाथों अपने धार्मिक केंद्रों का नाश नहीं होने देंगे। हमें विरोध करना होगा।

Recently Popular

रचनाधर्मियों को गर्भस्थ बेटी का उत्तर

जो तुम्हें अग्नि परीक्षा देती असहाय सीता दिखती है, वो मुझे प्रबल आत्मविश्वास की धनी वो योद्धा दिखाई देती है जिसने रावण के आत्मविश्वास को छलनी कर इस धरा को रावण से मुक्त कराया.

The one difference between the Congress of today and that of before 2014

For the sake of the future generations, for the sake of our children, please read more books about how Congress had been ruling the country and be aware of the dangers.

Justice Sanjay Kishan Kaul was right to call out rising intolerance

The libertarians need to know free speech is not licence for hate speech. Our fundamental rights are not akin to First Amendment Rights, as in the US. There are reasonable restrictions and they have a purpose.

श्रमिकों का पलायन: अवधारणा

अंत में जब कोविड 19 के दौर में श्रमिक संकट ने कुछ दबी वास्तविकताओं से दो चार किया है. तो क्यों ना इस संकट को अवसर में बदल दिया जाए.

Entry of ‘Scientific corruption’ in Tamil Nadu politics and how to save the state

MGR and then Amma placed the politics of dynasty and family rule in Tamil Nadu to the corner but the demise of Amma has shattered the state and is pegging for a great leader to lead.