Wednesday, April 21, 2021

TOPIC

Uttar Pradesh

फेक न्यूज़ के आसरे अब कांग्रेस

उ.प्र.विधानसभा चुनाव को ज्यादा समय नहीं बचा है। इसलिए कांग्रेस का गाय के प्रति स्नेह और समर्पण बढ़ना स्वाभाविक हैं। क्योंकि उ.प्र.में कांग्रेस के पास वाड्राईन के अलावा मुख्यमंत्री उम्मीदवार भी नहीं है।

Police reform: Need of the hour

police have become the ‘subjects’ of Parliamentarians and legislators – with a high degree of politicization and allegiance towards ruling party. India still follows the Police Act, 1861, framed by the British, largely with an aim to crush dissent.

उत्तर प्रदेश भगवा-गढ़ बना रहेगा

2012 में मुलायम ने चुनाव जीतकर अखिलेश को मुख्यमंत्री पद दे दिया था। उसके बाद धुआंधार तरीके से बैक-टू-बैक तीन चुनाव अखिलेश ने अकेले दम पर हारे हैं। ये अलग बात है कि इस बात का कभी घमंड नहीं किया।

सावधान: सोशल मीडिया का गलत इस्तेमाल कर छात्र-छात्राओं को किया जा रहा गुमराह!

अगर इन्टरनेट पर उपलब्ध जानकारियाँ गलत हो या संस्थाओं से प्रेरित हो तब तो आपका ऐसे संस्थाओं के जाल में फसना निश्चित है और इसका एहसास आपको जब होगा तब तक बहुत देर हो चुकी होगी।

मॉडल पर चर्चा!

अन सेक्युलर मॉडल। (by @ambujkmrjha)

When the selfish royals throw their people to the wolves

The story which is emerging even before election results, is that the good-for-nothing royals have abandoned their troops in the middle of the battlefield to save themselves.

Should it not be Yogi’s choice to wear or not wear a skull cap?

liberals obsession with the word ‘Secularism’ makes them use it so loosely that it's become one of the most hated words amongst Indians

Yogi govt is working smartly to eliminate the monster of Japanese Encephalitis from UP

Encephalitis is a life threatening disease causing acute inflammation of the brain.

BSP opportunism let-down Late Brahm Dutt Dwivedi, the man who saved Mayawati

Politics is notoriously recognised for making “impossible possible” and turn a foe into an ally.

Latest News

Recently Popular