Thursday, May 23, 2024

TOPIC

Uttar Pradesh

Madarsa-fied Uttar Pradesh

There are 13,784 recognized madrasas and 8,449 unrecognized madrasas. Around 550+ are government funded in Uttar Pradesh.

उत्तर प्रदेश की राजनीति से 4 रंगों की विदाई

मुलायम सिंह के देहावसान के बाद की उत्तर प्रदेश की राजनीति में लोकतांत्रिक मूल्यों के साथ राजनीति करने वाले नेताओं का एक युग समाप्त हो गया है।

Bawani Imli: An unsung saga of the supreme sacrifice

"Whoever takes the body from the tree will face the same fate"

M-factor and Uttar Pradesh election 2022

The UP election results 2022 has proved that if Hindu votes get consolidated in favor of BJP, then with all Muslim votes no other political party can come to power in the state.

बदलते उत्तरप्रदेश की नई पहचान

2017 में बदला मुख्यमंत्री बदली उत्तरप्रदेश की पहचान 2017 से पहले का उत्तर प्रदेश और बाद का अंतर आप देख सकते हैं। कानून व्यवस्था, शिक्षा, रोजगार, स्वास्थ्य, महिलाओं की भागीदारी, हर क्षेत्रों में कार्य करके उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बदली उत्तर प्रदेश की पहचान।

Etawah police arrests a Christian priest for carrying out illegal conversion

An FIR has been booked under section 3/5 (1) of UP Prohibition of Unlawful Conversion of Religion Act at Bakewar police station of Etawah district.

कल्याण सिंह का देहावसान राजनीति के एक युग का अंत है

कल्याण सिंह स्वतंत्र भारत के सबसे बड़े जनांदोलन श्रीराम जन्मभूमि आंदोलन के अगुआ और नायक मात्र ही नहीं थे। उन्होंने भारतीय राजनीति की दिशा तय की, राजनीति में सफलता के प्रचलित मानक एवं प्रतिमान बदले।

Why must Owaisi engage with the ‘Samajwadis’?

Mr. Owaisi comparing the Congress as a ‘sinking ship’ and Mr. Rahul Gandhi as the captain who left it, an alliance with any of the major opposition parties except the SP is highly unlikely.

समाजवाद और वर्ग संघर्ष

उत्तरप्रदेश में चुनावी माहौल गरमाया हुआ है, राष्ट्रवादी कही जाने वाली BJP और खुद को लोहिया और जयप्रकाश के समाजवाद का उत्तराधिकारी बताती सामजवादी पार्टी आमने सामने है.

राजनीति के चमन चकोर

बड़ी मुश्किल से और कोरोना की कृपा से उत्तर प्रदेश के लोग भाजपा सरकार से दूसरे मुद्दों पे सवाल कर रहे थे, जिससे चकोरों को फयदा हो सकता था, मंदिर को बीच में ला के इन्होने फिर से वही मोह पैदा कर दिया, जो डैमेज कंट्रोल बीजेपी २ महीने में नहीं कर पाती या शायद चुनाव तक, उसको इन्होने रामलला को बीच में ला के कर दिया।

Latest News

Recently Popular